अभी - अभी
  • जेल में मुझे महीनों भूखा रखा गया, गालियां दी गई-साध्वी
  • 'नामदारोंÓ ने कारोबारियों को 'चोरÓ कहकर बदनाम किया
  • मलिंगा से छीनकर करूणारत्ने को विश्वकप में कप्तानी
  • नडाल मोंटे कार्लो के अंतिम-16 राउंड में
  • भारतीय टीम सिर्फ विराट पर निर्भर नहीं - शास्त्री
  • यह मेरे लिए धर्मयुद्ध है- साध्वी प्रज्ञा
  • कांग्रेस ने मोदी जाति का अपमान किया- मोदी
  • भूतड़ी अमावस्या पर हजारों श्रद्धालु पहुंचे बावन कुंड
  • भूतड़ी अमावस्या पर हजारों श्रद्धालु पहुंचे बावन कुंड
  • अवैध खनन मामले में ईडी ने 4.70 करोड़ की संपत्ति जब्त की
  • वायु सेना ने दोहराया मिग-21 ने गिराया एफ-16 विमान
  • आधार अध्यादेश के खिलाफ याचिका की सुनवाई से इनकार
  • x
    प्रादेशिक

    20वीं सदी की सबसे बड़ी औद्योगिक दुर्घटनाओं में से एक है भोपाल गैस त्रासदी

    -संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हजारों लोगों को मौत के मुंह में धकेलने वाली 1984 की भोपाल गैस त्रासदी दुनिया की सबसे बड़ी औद्योगिक दुर्घटनाओं में से एक है। रिपोर्ट में आगाह किया गया है कि हर साल पेशे से जुड़ी दुर्घटनाओं और काम के चलते हुई बीमारियों से 27.8 लाख कामगारों की मौत हो जाती है।संयुक्त राष्ट्र की श्रम एजेंसी अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) द्वारा जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि मध्य प्रदेश की राजधानी में यूनियन कार्बाइड के कीटनाशक संयंत्र से निकली कम से कम 30 टन म

    देश

    अडानी-अंबानी का काला धन बदलने के लिए 2000 के नोट चलाने वाले मोदी उनके ही चौकीदार- राहुल

    वालोद (गुजरात) 19 अप्रैल (वा) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी केवल अडानी-अंबानी जैसे उद्योगपतियों के चौकीदार हैं और अब उन्होंने स्वयं भी किसानों और गरीबों का चौकीदार बनने का मन बना लिया है। श्री गांधी ने आज गुजरात के तापी जिले और बारडोली लोकसभा क्षेत्र के वालोद के वाजीपुरा में एक चुनावी सभा के दौरान कहा कि वह किसानों के चौकीदार बन गए हैं और श्री मोदी को चुनौती देते हैं कि अनिल अंबानी को लेकर आए और उनसे मुकाबला करें। उन्हें दो मिनट में ही देश के किसानों की ताकत का अंदाज

    विदेश
    व्यापार समाचार
    सिनेमा

    Custom Heading

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua.

    भविष्य फल
    संपादकीय
    तमिलनाडु व बंगाल की कलंक कथा...
    18Apr

    तमिलनाडु व बंगाल की कलंक कथा...

    शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र के लिए चुनाव में धनबल-बाहुबल का दुरुपयोग किसी कलंक से कम नहीं है...क्योंकि इसके जरिए अनेक बार पात्र के बजाय अपात्र व्यक्ति जनप्रतिनिधि बनकर देश की सर्वोच्च पंचायत 'संसदÓ एवं विधानसभाओं को भी अपवित्र करने का काम ही करते रहे हैं...क्योंकि जब धनबल-बाहुबल से जीता गया चुनाव और वहां से निकला सांसद-विधायक बाद में भी अपने उसी नापाक खुराफाती खेल की तिकड़में सदन व सदन के बाहर भिड़ाता नजर आएगा...और कई बार नजर भी आए हैं...लेकिन चुनाव को साजिशों, षड्यंंत्रों या कहें वोट बैंक के मान से
    धर्मधारा
    मनुष्य की चेतना के परिष्कार का नाम अध्यात्म
    18Apr

    मनुष्य की चेतना के परिष्कार का नाम अध्यात्म

    धर्मधाराजि नके पास आध्यात्मिक क्षमता होती है, क्या उनके जीवन सुखी हो जाते हैं? युवक के मन में उभरी जिज्ञासा, प्रश्न बनकर प्रकट हुई। 'सुख तो बहुत सतही चीज है, जिसका अध्यात्म से ताल्लुक नहीं। अध्यात्म अपनी चेतना के परिष्कार का नाम है, अपने चित्त की शुद्धि का नाम है और जिनके जीवन में आध्यात्मिक उन्नति होती है, उन्हें सुख नहीं शांति मिलती है, साधन नहीं संतुष्टि मिलती है।Ó स्वामी शंकर की प्रखर वाणी ये सब कुछ कहे जा रही थी कि युवक के मन में सवाल उठा- 'ऐसे व्यक्तियों के क्या लक्षण होते होंगे, उन्हें कैसे पहचा
    विशेष लेख
    प्रेरणादीप
    समाधान की सीख
    18Apr

    समाधान की सीख

    प्रेरणादीपरा यगढ़ के राजा धीरज के अनेक शत्रु हो गए। एक रात शत्रुओं ने पहरेदारों को अपने साथ मिला लिया और महल में जाकर राजा को दवा सुंघाकर बेहोश कर दिया। इसके बाद उन्होंने राजा के हाथ-पाँव बाँधकर एक पहाड़ की गुफा में ले जाकर उन्हें बंद कर दिया। राजा को जब होश आया, तो वे अपनी दशा देखकर घबरा उठे। उस अँधेरी गुफा में उनसे कुछ करते-धरते न बना। तभी उन्हें अपनी माँ का बताया हुआ एक सिद्धांत याद आया-किसी भी परिस्थिति में घबराए बगैर कुछ करने का प्रयत्न करना चाहिए। राजा की निराशा दूर हो गई और उन्होंने पूरी शक्ति लगाकर
    वीडियो गैलरी
    फोटो गैलरी