मुखपृष्ठ

सजगता

प्रेरणादीपम गध सम्राट महानंद का महामंत्री शकटार अत्यन्त ईमानदार और स्वामीभक्त था। आचार्य चाणक्य ने अपने नीति कौशल से नन्द साम्राज्य की जगह मौर्य साम्राज्य स्थापित कर दिया और शकटार जैसे कुशल व स्वामी भक्त मंत्री को चंद्रगुप्त के पक्ष में लाने के प्रयत्न शुरू कर दिए। शकटार अपने स्वामी को छोड़कर किसी अन्य का साथ देने को तैयार न था। अत: वह एक तहखाने में भूमिगत हो गया। एक विश्वासपात्र नौकर उसे भोजन पहुँचाता था। शेष को उनका अता-पता नहीं था। मौर्य साम्राज्य की सारी खुफिया पुलिस खोजकर थक गई, पर शकटार का ..

प्राणी मात्र की चेतना का सजीव नाम है राम

धर्मधारा'श्री राम जय राम जय जय रामÓ यह सात शब्दों वाला तारक मंत्र है। साधारण से दिखने वाले इस मंत्र में जो शक्ति छिपी हुई है, वह अनुभव का विषय है। इसे कोई भी, कहीं भी, कभी भी कर सकता है, फल बराबर मिलता है। हमारा सबसे बड़ा दुर्भाग्य यही है कि हम राम नाम का सहारा नहीं ले रहे। हैं। हमने जितना भी अधिक राम नाम को खोया है, हमारे जीवन में उतनी ही विषमता बढ़ी है, उतना ही अधिक संत्रास हमें मिला है। एक सार्थक नाम के रूप में हमारे ऋषि-मुनियों ने राम नाम को पहचाना है। उन्होंने इस पूज्य नाम की परख की और नामों ..

अंकीय परीक्षा प्रणाली से बच्चों की मौलिकता पर प्रश्नचिन्ह

कौशलेन्द्र प्रपन्नज्या दातर शिक्षाविदों का मानना है कि अंकों की बाढ़ को देखते हुए हमें मूल्यांकन पद्धति का पुनर्मूल्यांकन करना होगा। बच्चों के मूल्यांकन की परीक्षा प्रणाली को विश्वसनीय और वैधता प्रदान करने के लिए हमें प्रयास करने होंगे। सौ फीसद अंक हासिल करने की प्रवृत्ति को समझने की कोशिश करें तो बात यही निकल कर आती है कि हम कैसे प्रश्नपत्र बनाते है और किस प्रकार के उत्तरों के मॉडल हमने तैयार किए हैं। इस मॉडल में बच्चे शत-प्रतिशत अंक ऐसे हासिल करते हैं कि वे रटे हुए तथ्यों को याद कर पुनर्प्रस्तुत ..

संस्कृत भारती मध्यक्षेत्र का प्रशिक्षण वर्ग प्रारंभ

इन्दौर द्य 24 मई (वा) संस्कृत भारती मध्यक्षेत्र का 14 दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग का उद्घाटन आज सरस्वती शिशु मंदिर ए सांईनाथ कॉलोनी में क्षेत्र संगठन मंत्री प्रमोद पण्डित तथा वर्ग के पालक मालवा के प्रांत उपाध्यक्ष भरत बैरागी तथा वर्ग बौद्धिक प्रमुख दिवाकर शर्मा के द्वारा सम्पन्न हुवा। इस वर्ग में मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के 47 चयनित कार्यकर्ता प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं।क्षेत्र संगठन मंत्री प्रमोद पण्डित ने वर्ग संचालनगण का परिचय कराया, साथ ही वर्ग का उद्देश्य बताया कि आज सर्वत्र संस्कृत संभाषण करने वालों ..

जम्मू-कश्मीर में 'मोस्ट वांटेडÓ आतंकी ज़ाकिर मूसा मारा गया

जम्मू द्य 24 मई (वा)कश्मीर में सेना और सुरक्षा बलों को बड़ी सफलता हाथ लगी है. राज्य के त्राल इलाके में हुई एक मुठभेड़ में मोस्ट वांटेड आतंकी ज़ाकिर मूसा मारा गया है. प्रदेश के एक वरिष्ठ पुलिस अफसर ने इसकी पुष्टि की है.उन्होंने बताया, 'ज़ाकिर मूसा गज़़वात-उल-हिंद नाम संगठन का प्रमुख था. घाटी में वह ए++ श्रेणी का आतंकी था, जिसकी लंबे समय से तलाश थी. वह आतंकी संगठन अल-क़ायदा से जुड़ा था.Ó उनके मुताबिक, 'ज़ाकिर मूसा 2013 में आतंक की दुनिया में आया. वह 2016 में तब सुखिऱ्यों में आया जब सुरक्षा बलों ..

मोदी का इस्तीफा, राष्ट्रपति ने स्वीकारा

नई दिल्ली द्य 24 मई (वा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार शाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपना इस्तीफा सौंप दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया।श्री मोदी ने राष्ट्रपति भवन में श्री कोविंद से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंपा, जिसे राष्ट्रपति ने तत्काल स्वीकार कर लिया और नई सरकार के गठन तक उनसे पद पर बने रहने का अनुरोध किया। इससे पहले प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक हुई, जिसमें राष्ट्रपति को इस्तीफा सौंपने का निर्णय लिया गया। इसके साथ ही 16वीं लोकसभा को भंग करने की सिफारिश करने ..

आडवाणी-जोशी से मिले मोदी-शाह

नई दिल्ली द्य लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की भारी जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी के घर जाकर उनसे मुलाकात की। श्री मोदी ने इस मुलाकात की एक तस्वीर ट्विटर पर साझा की है और साथ में लिखा है- आदरणीय आडवाणीजी के घर जाकर उनसे मुलाकात की। आज भाजपा की यह सफलता संभव हुई है, क्योंकि उन (श्री आडवाणी) जैसे महान लोगों ने पार्टी को बनाने और लोगों के सामने नई आदर्शवादी गाथा पेश करने के लिए दशकों मेहनत की है। मोदी ने आडवाणीजी के चरण स्पर्श ..

सूरत में कोचिंग क्लासमें लगी आग, १९ विद्यार्थी मरे

सूरत 24 मई (वा)गुजरात में सूरत शहर के सरथाणा क्षेत्र में शुक्रवार को एक इमारत के ट्यूशन क्लास में अचानक भीषण आग लग गई। इस हादसे में १९ विद्यार्थियों की मौत हो गई जबकि दर्जन भर से अधिक विद्यार्थी घायल हो गए।आपातकालीन सेवा 108 के कर्मी ने बताया कि भीषण आग के दौरान सात बच्चों की मौत हो गई तथा 13 बच्चे घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अग्निशमन विभाग के एक कर्मी ने बताया कि पांच मंजिली तक्षशिला आर्केड की दूसरी मंजिल पर चल रहे ट्यूशन क्लास में अपराह्न अचानक आग लग गई। सूचना मिलते ही ..

महात्मा बुद्ध की सीख

प्रेरणादीपगौतम बुद्ध ने सिखाया अपने-अपने लिए प्रयास करना यह अपना कार्य नहीं है, क्योंकि मुक्ति प्राप्त करनी हो तो संपूर्ण मानवता को मुक्ति के मार्ग पर ले जाना होगा और इसके लिए उन्होंने अनेक विधि कार्य बताए। समाज के अंदर ऐसा कोई भी काम जिससे हिंसा होती है, जिससे व्यक्ति कर्मकांडों के बंधन में बंधता है, व्यक्ति को उससे मुक्त करने का मार्ग उन्होंने दिखाया। उन्होंने कहा जीव-हिंसा नहीं चाहिए। अपने सुख के लिए हम दूसरों को कष्ट देते हैं। यह जीवन-प्रक्रिया है, इस कर्म के कारण फिर अगर हम दूसरे को दु:ख देंगे, ..

भारतीय दर्शन को शिक्षा का अंग बनाना जरूरी

धर्मधारामन, वाणी तथा शरीर से मनुष्य को सत्य का पालन करना चाहिए। योग मार्ग में सत्य बहुत महत्वपूर्ण स्तम्भ है। बिना सत्य आचरण के जीवन में आत्मसाक्षात्कार की अनुभूति नहीं हो सकती। जीवन के प्रत्येक स्तर पर व्यवहार में शुद्ध, पवित्र आचरण मनुष्य को सामाजिक तथा आर्थिक स्तर के शिखर पर पहुंचा देता है। जिस समाज और राष्ट्र के व्यवहार में सत्यता होती है वहां भौतिक विकास भी तीव्र गति से होता है और कार्य में भी परिपक्वता दिखाई देती है। जो व्यक्ति सत्य का आचरण करता है, उसका सकारात्मक प्रभाव अन्य लोगों पर भी पड़ता ..

गरीबों के लिए विचार करने वाली सरकार की वापसी हुई

वष्णु चौधरीयह काशी और उत्तरप्रदेश सहित पूरे देश की जनता का प्रगाढ़ प्रेम और विश्वास है कि पांच वर्षों के पश्चात नरेन्द्र मोदी व अमित शाह के नेतृत्व मे राजग एक बार पुन: भारत की बागडोर संभाल रही है। यह बागडोर जनता ने यूं ही नहीं थमा दी। नरेंद्र मोदी के प्रति जनता का स्नेह दीवानेपन की हद तक है। अप्रैल अंत मे काशी में हुए रोड शो मे जनसैलाब के सारे रिकॉर्ड टूट गए। मोदी के नामांकन के पूर्व हुए इस मेगा रोड शो ने ही संदेश दे दिया था कि 23 मई के पश्चात वाराणसी ही नहीं अपितु उत्तरप्रदेश सहित पूरे देश मे भाजपानीत ..

पशु प्रवृत्ति

प्रेरणादीपची न के महान् दार्शनिक कन्फ्यूशियस एक बार घूमते-घूमते दूर के एक देश में पहुँचे। वहाँ के राजा ने उनके सामने तीन पिंजरे रख दिए। एक पिंजरे में चूहा था, उसके सामने ढेर सारे व्यंजन रखे हुए थे, किन्तु वह कुछ भी नहीं खा रहा था। दूसरे पिंजरे में बिल्ली थी, उसके सामने दूध और दूध से बने ढेर सारे व्यंजन थे, लेकिन वह भी न कुछ पी रही थी और न खा रही थी। तीसरे पिंजरे में एक बाज था। उसके सामने ढेर सारे ताजे मांस के टुकड़े रखे थे, लेकिन वह भी ऐसे ही पड़ा हुआ था। कन्फ्यूशियस ने यह सब देखा और अपने शिष्यों ..

सभी भाषाओं की जननी देवभाषा संस्कृत

धर्मधारासं स्कृत विश्व की प्राचीनतम भाषा है। यह एकमात्र वैज्ञानिक भाषा भी है। 'संस्कृतÓ का निहितार्थ है, वह जो कि उत्तम, सभ्य एव शिष्ट है। अतएव यह देव-वाणी कहलाई। संस्कृत देवताओं की भाषा इसलिए मानी जाती है, क्योंकि यह किसी मनुष्य के दिमाग की उपज नहीं है, जैसा कि अन्य सभी प्रकार की भाषाओं के लिए कहा जा सकता है। संस्कृत 'अपौरुषेयÓ है, किसी पुरुष द्वारा जनित नहीं है। इसकी उत्पत्ति दिव्य है। संस्कृत की दिव्यता के बारे में इसलिए दो राय नहीं हो सकती, क्योंकि प्रथम वेद ऋग्वेद की रचना इसी भाषा में ..

राष्ट्रधर्म परमेष्टि की प्राप्ति का सबसे बड़ा साधन

सर्वेश चन्द्र द्विवेदीभा रतवर्ष में हिन्दू सनातन धर्म युगानुरूप अपना विशिष्ट महत्व रखता है। व्यष्टि, समष्टि, सृष्टि, परमेष्टि की समुच्चय दृष्टि राष्ट्रधर्म की श्रेणी में समाविष्ट है, जिसमें भूभाग, उस पर रहने वाले जन उनकी जीवनशैली, प्रवृत्ति तथा प्रकृति का सन्तुलन लोक व्यवस्था आदि पर सम्पूर्णता से विचार कर व्यवहार में लाना धर्मसापेक्षता है। वेदार्थ वित्तमै: कार्य यत्स्मृतं मुनिभि: परा। स ज्ञेय: परमोधर्मों नान्य शास्त्रेषु संस्थित:।। वेदार्थ ज्ञान में श्रेष्ठ मुनियों ने प्राचीन समय में जो कर्म करने ..

आज मतदाताओं की अग्नि परीक्षा...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र के सबसे बड़े एवं महत्वपूर्ण 'राष्ट्रीय उत्सवÓ लोकसभा चुनाव-2019 के लिए लोकतंत्र की वेदी अर्थात् ईवीएम-वीवीपैट में यजमान मतदाताओं द्वारा डाली गई मतरूपी आहुतियों के परिणाम/प्रतिसाद को जानने की वह घड़ी अर्थात् 23 मई आ गई है...आज भारतीय लोकतंत्र के 'जनमनÓ से निकले उस जनादेश की घड़ी है..,जो दलों/नेताओं की हार-जीत का ही कारण नहीं बनेगी..,बल्कि देश की सर्वोच्च नीति-नियंता पंचायत 17वीं लोकसभा के गठन का भी शंखनाद होगा...याद रहे, कोई चुनाव/परिणाम/आदेश और निर्णय अंतिम ..

ममता बनर्जी ने एग्जिट पोल को नकारा, सभी की निगाहें पश्चिम बंगाल पर

< कोलकाता। पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों का परिणाम कल आ जाएगा और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तरफ से एग्जिट पोल्स को खारिज किए जाने के बाद सबकी निगाहें चुनाव परिणामों पर हैं जहां 466 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला कल हो जाएगा। मतगणना गुरुवार को सुबह शुरू होगी। पिछली बार 2014 में राज्य में मात्र दो लोकसभा सीटों पर विजय होने वाली भाजपा को इन एग्जिट पोल में जोरदार बढ़त दिखाई गई है। तृणमूल कांगेस के सूत्रों ने चुनाव नतीजों से पहले एग्जिट पोल को लेकर चिंता जताई है। अधिकतर एग्जिट पोल्स में ..

प्रदेश के 5 जिले लू की चपेट में

भोपाल द्य 22 मई (वा) पश्चिम से आ रही झुलसाती हवाओं के कारण मध्यप्रदेश में आज दूसरे दिन भी कम से कम पांच जिलें लू की चपेट में हैं तथा राजधानी भोपाल सहित अनेक शहरों में लू के हालात बने हुए हैं।चिलचिलाती तेज धूप और गर्म हवाओं के थपेडों से भोपाल में लू के हालात कायम है, हालांकि कल के मुकाबले यहां तापमान में कुछ कमी अवश्य आयी है। यहां अधिकतम तापमान 43़ 5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ है, जो सामान्य से करीब तीन डिग्री ज्यादा है। इसी तरह रात का तापमान भी सामान्य से तीन डिग्री अधिक 28़ 6 दर्ज हुआ है। खरगोन ..

उपग्रह रिसेट-2बी का प्रक्षेपण

श्रीहरिकोटा द्य 22 मई (वा) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को लांच व्हीकल पीएसएलवी-सी46 से पृथ्वी की निगरानी करने वाले रडार इमेजिंग उपग्रह रिसेट-2बी का सफल प्रक्षेपण कर एक बार फिर बड़ी कामयाबी हासिल की। उपग्रह का प्रक्षेपण यहां से करीब 80 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा से बुधवार सुबह पांच बजकर 30 मिनट पर फस्र्ट लांच पैड से किया गया। तीन सौ किलोग्राम आरआईएसएटी-2बी (रिसेट-2बी) इसरो के आरआईएसएटी कार्यक्रम का चौथा चरण है और इसका इस्तेमाल रणनीतिक निगरानी और आपदा प्रबंधन के लिए किया जाएगा। यह ..

अब कमलनाथ ने कर्ज माफी को लेकर शिवराज को लिखा पत्र

भोपाल द्य 22 मई (वा) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कर्जमाफी के मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को पत्र लिखकर कहा है कि आचार संहिता खत्म होते ही राज्य सरकार शेष किसानों के कर्ज माफ करेगी। श्री कमलनाथ ने इसके साथ ही श्री चौहान से जानना चाहा है कि क्या वे लोकसभा चुनाव समाप्त होने के बाद उनसे उम्मीद कर सकते हैं कि वे कर्जमाफी की सच्चाई स्वीकार करेंगे।श्री कमलनाथ की ओर से कल लिखे गए इस पत्र में उन्होंने श्री चौहान को संबोधित करते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री का पद ग्रहण करते ही उन्होंने ..

17वीं लोकसभा के जनादेश की घड़ी

पहले की तरह होगी मतगणना, कानून व्यवस्था चाक-चौबंद नई दिल्ली द्य 22 मई (वा) लोकतंब के सबसे बड़ महायज्ञ के परिणामों की आज घड़ी है। सत्रहवीं लोकसभा की 543 में से 542 सीटों और चार राज्यों की विधानसभाओं के लिए हुए मतदान के बाद गुरुवार को होने वाली मतगणना की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मतों की गिनती पहले की तरह ही होगी तथा गिनती पूरी होने के बाद ही वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाएगा। तमिलनाडु के वेल्लौर में लोकसभा चुनाव रद्द हो गया था। इसलिए 542 सीटों पर चुनाव हुए थे। इस बीच केन्द्रीय गृह मंत्रालय ..

'हथियार उठानेÓ और 'खून की नदियां बहनेÓ के बहाने किसे चुनौती दे रहे

नई दिल्ली द्य 22 मई (वा) भाजपा ने विपक्ष के लोकसभा चुनाव परिणाम अनुकूल नहीं आने पर 'हथियार उठानेÓ और 'खून की नदियां बहनेÓ जैसे बयान देने पर आज सवाल किया कि ऐसे हिंसात्मक और अलोकतांत्रिक बयान से किसे चुनौती दी जा रही है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बुधबार को ट्वीट किया कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) का विरोध देश की जनता के जनादेश का अनादर है। हार से बौखलाई 22 विपक्षी पार्टियां देश की लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर सवालिया निशान उठाकर विश्व में देश और लोकतंत्र की छवि धूमिल कर रही हैं। ..

'पीएम नरेंद्र मोदीÓ का पोस्टर जारी

नई दिल्ली द्य 22 मई (वा) बॉलीवुड कलाकार विवेक ओबेरॉय अभिनीत फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदीÓ के निर्माताओं ने बुधवार को फिल्म का नया पोस्टर जारी किया। फिल्म के निर्देशक उमंग कुमार बी ने माइक्रो-ब्लागिंग साइट ट्विटर पर प्रधानमंत्री की बॉयोपिक का नया पोस्टर साझा किया। पोस्टर का कैप्शन '24 मई, देखेंगे मोदी बॉयोपिक, पीएम नरेंद्र मोदीÓ दिया गया है। निर्माता संदीप सिंह ने ट्वीट किया- उनसे प्रेम करें या नफरत करें, उपेक्षा का सवाल ही नहीं, पीएम नरेंद्र मोदी। यह नया पोस्टर है। जय हिन्द। विवेक ओबेरॉय ..

मुक्ति का दर्शन

प्रेरणादीपए क मनुष्य को संसार से वैराग्य हुआ। उसने कहा- 'यह जगत मिथ्या है, माया है। अब मैं इसका परित्याग करके सच्ची शांति की तलाश करूँगा।Ó आधी रात बीती और वैराग्य लेने वाले ने कहा-'अब वह घड़ी आ गई है, मुझे परमात्मा की खोज के लिए निकल पडऩा चाहिए।Ó निकलने से पहले उसने अपनी धर्मपत्नी और दूधमुंहे बच्चे की ओर सिर उठा करके देखा। दोनों की बड़ी सौम्य आकृतियाँ थीं। वह मन-ही-मन बोला-'कौन हो तुम, जो मुझे माया से बाँधते हो?Ó उसे आकाशवाणी सुनाई पड़ी-'मैं तुम्हारा भगवान हूँ।Ó वह मन ही मन बोला ..

मशीनीकरण के साथ व्यक्तित्व निर्माण भी जरूरी

धर्मधारायु रोपियन संसद में विगत दिनों जमा की गई एक रिपोर्ट के अनुसार आटोमेशन क्षेत्र में एक त्वरित कानून बनाने की आवश्यकता है। यदि रोबोट द्वारा कोई अपराध घट जाए तो उसकी जिम्मेदारी किसकी है? विगत दिनों एक ऑटोमेटिक कार द्वारा एक महिला की सड़क चलते मृत्यु हो गई-ऐसे में जिम्मेदारी किसकी होगी? कार में उपस्थित रोबोट या ऑटोपायलट की अथवा उस कंपनी की, जो उस रोबोट का निर्माण कर रही है। फिर एक समस्या यह भी है कि रोबोट या मशीन तो अंतत: वही कर रहे हैं, जैसी प्रोग्रामिंग उनमें डाली गई है। जैसा कि अभी विगत दिनों ..

कांग्रेस की गंदी राजनीति की उपज हिन्दू आतंकवाद

ाशीष कुमार 'अंशुÓ'मे रे मित्र कहते थे कि मोदीजी हिन्दूवादी हैं। अब तो देखा जा रहा है कि विपक्ष के सारे नेता मंदिरों से अपना चुनाव प्रचार शुरू करते हैं और तो और इन सभी ने अपने को हिन्दू कहना शुरू कर दिया है।Ó एक खबरिया चैनल पर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साक्षात्कार के दौरान यह सवाल एक दर्शक मुकेश लुथरा ने पूछा। इसके जवाब में नरेन्द्र मोदी ने कहा, 'इस बदलाव से भ्रमित होने की जरूरत नहीं है। यह सीजनल कारोबार हैं। नामांकन भरने के बाद तिरंगे झंडे से वोट कम मिलते हैं, हरे झंडे से अधिक ..

विचारधारा केंद्रित समर के मायने...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र का राष्ट्रीय उत्सव 'लोकसभा चुनाव-2019Ó करीब सवा दो माह का लंबा प्रचार अभियान दलों/नेताओं द्वारा मतदाताओं को रिझाने-लुभाने, भ्रमित और प्रेरित करने के साथ ही विचलित करने का भी कारण बना है...अंतत: यह पूरा वैचारिक समर अब जनादेश सुनाने की दहलीज पर आकर खड़ा हो गया है...यह तो स्पष्ट रूप से सबको पता चल ही गया है कि यह आम चुनाव दो विचारधाराओं की लड़ाई का केंद्रबिंदु बन चुका था...जिसमें दो ही पक्ष थे। एक के नेतृत्वकर्ता के रूप में प्रधानमंत्री मोदी का चेहरा था, तो दूसरी तरफ ..

केन्द्र में मोदी के नेतृत्व में फिर बनेगी राजग की सरकार-नीतीश

पटना ठ्ठ 21 मई (वा) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केन्द्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार बनने का दावा करते हुए आज कहा कि लोकतंत्र में जनता मालिक है और देश की जनता ने राजग को भरपूर समर्थन दिया है। श्री कुमार ने यहां राजधानी पटना स्थित बिहार संग्रहालय की अस्थायी प्रदर्शनी दीर्घा में हिम्मत शाह की कलाकृतियों की लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन करने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि केन्द्र में एक बार फिर श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में राजग की ..

एग्जिट पोल विपक्ष का हौंसला तोडऩे का हथियार- प्रियंका

नई दिल्ली ठ्ठ 21 मई (वा) कांग्रेस महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने चुनाव बाद सर्वेक्षणों को विपक्ष का हौंसला तोडऩे का षड्यंत्र बताते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से हिम्मत बनाए रखने और मतदान केंद्रों पर कड़ी नजर रखने की अपील की है। श्रीमती वाड्रा ने यहां जारी एक सन्देश में कहा कि एग्जिट पोल के परिणाम सिर्फ विपक्ष का हौंसला तोडऩे के लिए प्रचारित किए जा रहे हैं इसलिए इस तरह के प्रचार और अफवाहों पर ध्यान देने की बजाय सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा ..

ईरान का अमेरिका के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी का कोई संकेत नहीं- डोनाल्ड ट्रम्प

वाशिंगटन ठ्ठ 21 मई। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि ऐसा कोई संकेत नहीं है कि ईरान पश्चिम एशिया में अमेरिकी हितों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी कर रहा है। उन्होंने कहा कि ईरान के किसी भी उकसावे का करारा जवाब दिया जाएगा।श्री ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस प्रेस पूल की रिपोर्ट के हवाले से कहा हमें इस बात का कोई संकेत नहीं है कि कुछ हुआ है या होगा लेकिन अगर ऐसा होता है तो इसका करारा जवाब दिया जाएगा। श्री ट्रम्प ने यह भी कहा कि अगर ईरान के अधिकारी समझौते के लिए हाथ बढ़ाएंगे तो वह उनके साथ ..

खरगोन में पारा 46 पर

मध्यप्रदेश में झुलसाने वाली गर्मी से जनजीवन अस्त-व्यस्तभोपाल द्य 21 मई (वा) राजस्थान से आ रही शुष्क गर्म हवाओं ने आज राजधानी भोपाल सहित समूचे मध्यप्रदेश को प्रचंड गर्मी से झुलसा दिया और कई जगह लू चलने लगी है। भोपाल में पारा 44 डिग्री पर पहुंच गया, जो इस मौसम का अब तक सर्वाधिक तापमान है। यहां कल के मुकाबले अधिकतम तापमान ढाई (2.5) डिग्री उछला है। यह सामान्य से तीन डिग्री ज्यादा है। न्यूनतम तापमान भी सामान्य से दो डिग्री अधिक 27.6 रिकार्ड हुआ है। भोपाल में भी लू के हालात बन गए हैं। 46 डिग्री के साथ ..

हार के डर से हथकंडेबाजी पर उतरे मुख्यमंत्री कमलनाथ - राकेश सिंह

जबलपुर द्य 21 मई (वा) मुख्यमंत्री कमलनाथ हार के डर से बौखला गए हैं। अपनी हार से बचने के लिए अब वे अनैतिक हथकंडेबाजी पर उतर आए हैं। पहले भाजपा कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमे लादे गए और अब तो मुख्यमंत्री उन्हें सिर्फ इसलिए गिरफ्तार करा रहे हैं कि वे चुनाव की मतगणना के दौरान अपनी मनमानी करके जीत हासिल कर सकें। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव में भाजपा के उम्मीदवार श्री बंटी साहू और 21 मतगणना अभिकर्ताओं की छिंदवाड़ा पुलिस द्वारा एक पुराने मामले में ..

राजीव गांधी की सोच से विश्व में भारत की बनी पहचान - कमलनाथ

जबलपुर द्य 21 मई (वा) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की 21वीं सदी की संचार क्रांति की सोच के चलते भारत की विश्व में पहचान बनी है।श्री कमलनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री गांधी की 28वीं पुण्यतिथि पर प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में उनके चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर उनका पुण्य स्मरण किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि श्री गांधी की सोच भारत को विश्व से जोडऩे की थी, उनकी सोच थी कि किस प्रकार भारत 21वीं ..

जनता ने देश के पुनर्जागरण व पुनरोत्थान के लिए वोट दिया

नई दिल्ली द्य 21 मई (वा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि 2019 का चुनाव उनके लिए निष्कंटक रहा और जनता ने किसी को जिताने या हराने की बजाय देश के पुनर्जागरण एवं पुनरोत्थान के लिए एकजुट होकर वोट दिया है। श्री मोदी ने भाजपा मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह द्वारा बुलायी गयी केन्द्रीय मंत्रिमंडल के सदस्यों की स्वागत एवं आभार मिलन बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने बैठक के बाद मीडिया को यह जानकारी दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने जीवन में बहुत ..

पहले वीवीपैट का मिलान फिर शुरू की जाए मतगणना

22 दलों के नेताओं की आयोग से मांग नई दिल्ली द्य 21 मई (वा) कांग्रेस के नेतृत्व में 22 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से मांग की है कि लोकसभा चुनाव की मतगणना शुरू होते ही पहले वीवीपैट पर्चियों का ईवीएम के मतों के साथ मिलान किया जाए और यदि इसमें कोई गलती हो तो उस विधानसभा क्षेत्र की पूरी मतगणना वीवीपैट के आधार पर ही की जाए। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा से डेढ़ घंटे की मुलाकात के बाद विपक्षी दलों के प्रतिनिधियों ने संवाददाताओं को बताया कि चुनाव आयोग ने उनकी मांगों पर खुले मन से इस विचार करने का आश्वासन ..

सभी अटकलों पर विराम लगाना चुनाव आयोग की जिम्मेदारी

नई दिल्ली द्य 21 मई (वा) पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में कथित धांधली की रिपोर्टों पर चिंता व्यक्त करते हुए मंगलवार को कहा कि ये मशीनें चुनाव आयोग की हिफाजत में हैं और इनकी सुरक्षा तथा सभी अटकलों को निराधार साबित करना उसकी जिम्मेदारी है। श्री मुखर्जी ने इससे पहले सोमवार को एक समारोह में सही ढंग से चुनाव सम्पन्न कराने लिए चुनाव आयोग की सराहना की थी। पूर्व राष्ट्रपति ने आज एक वक्तव्य में कहा कि देश के लोकतंत्र के मूल आधार को चुनौती देने वाली अटकलों के लिए कोई ..

सहकार

प्रेरणादीपएक संत अपने शिष्यों सहित कहीं जा रहे थे। रात्रि में वे एक जगह ठहरे। देखता तो पास में केवल पांच रोटियां थीं, इतने से सबका पेट कैसे भरेगा? यह प्रश्न सामने था। यह समस्या उन्होंने सुनी तो कहा-'सारी रोटियां एक पात्र में टुकड़े-टुकड़े करके डाल दो। सभी लोग एक-एक टुकड़ा निकालकर खाते जाएं। सबको समान रूप से भोजन मिल जाएगा।Ó सबने श्रद्धापूर्वक गुरु आज्ञा मानी। सोचा, जितना सबके पेट में समान रूप से अन्न पहुंचे, वही ठीक है। भोजन प्रारंभ हुआ तो सबका पेट भर गया, टुकड़े हाथ में आते गए। शिष्य बोले-'यह ..

बगैर नैतिकता के मानवता अधूरी

धर्मधाराशाों के अनुसार जब भी ऐसी परिस्थितियां विनिर्मित होती हैं कि अधर्म जीतता हुआ तथा धर्म हारता हुआ दिखता है तब उन परिस्थितियों में संतुलन लाने के लिए भगवान एक अवतारी चेतना के रूप में प्रकट होते हैं। रामायण के समय से लेकर, महाभारत के काल तक इस सत्य को स्पष्टता के साथ अनुभव किया जा सकता है कि उस की विषम परिस्थितियों का चयन परमात्मा ने अपने अवतरण के लिए किया। उस दृष्टि से देखें तो वर्तमान परिस्थितियां भी कुछ उन्हीं चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के समकक्ष हैं। आज मानवता एक चौराहे पर आकर खड़ी हो गई प्रतीत ..

भाजपा में राजतिलक की तैयारी, कांग्रेस में निराशा

जयकृष्ण गौड़19 मई का दिन भी उसी तरह जिज्ञासा रहा, मानो चुनाव परिणाम घोषित हो रहे हैं। आचार संहिता के कारण चुनाव सात चरणों में होने से चुनावी आंकलन और एग्जिट पोल रुके हुए थे, लेकिन 19 मई को जैसे ही अंतिम चरण का मतदान पूर्ण हुआ, इसके तुरंत बाद धड़ल्ले से एग्जिट पोल टीवी के पर्देे पर छा गए। वैसे तो कई एजेंसियों ने चुनावी आंकलन किया है। लेकिन जिन प्रमुख आठ एजेंसियों के एग्जिट पोल के जो आंकलन सामने आए है उसमें प्राय: सभी ने एनडीए को बहुमत दे रहे है। तीन प्रमुख एजेंसियों ने एनडीए को तीन सौ से 313 तक सीटें ..

बम्पर मतदान और एग्जिट पोल...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र के सबसे बड़े महायज्ञ में रविवार को 8 राज्यों की 59 सीटों पर लोकतंत्र की वेदी के यजमानों (मतदाताओं) ने उत्साह-उमंग एवं राष्ट्रधर्म निभाने का जोशीला भाव व्यक्त किया...जी हां, मध्यप्रदेश के मालवा-निमाड़ की 8 लोकसभा सीटों समेत जिस तरह से लोकसभा चुनाव के सातवें व अंतिम चरण में बम्पर मतदान हुआ...यह लोकतंत्र की मजबूती के साथ ही दलों/नेताओं को उत्साह से लबरेज करने एवं बेचैनी बढ़ाने का भी कारण बन गया है...क्योंकि मध्यप्रदेश के इंदौर में तो 1952 में 46.12 प्रतिशत मतदान हुआ था...इसके ..

रांगेय राघव

प्रेरणादीपमहज 39 वर्ष में 150 से अधिक पुस्तकों की रचना करने वाले हिंदी के मूद्र्धन्य उपन्यासकार रांगेय राघव की लेखनशैली भी अद्भुत थी। वे एक बड़ा-सा रजिस्टर लेकर उसमें कई पन्नों को छोड़कर अध्याय बांट लेते और अपने मनोभाव के हिसाब से अध्यायों को आगे-पीछे लिखते। मुरदों का टीला नामक उनका उपन्यास इसी विधि से लिखा गया था। जब उन्यास लेखन से वे ऊब जाते थे तो कहानियां लिखने लगते और जब कहानियों से ऊब जाते तो कविताएं या चित्रकारी करने लगते। वे गंभीर-से-गंभीर पुस्तकों को इतनी गहराई से पढ़ते थे कि किस पृष्ठ पर ..

परिवर्तन के मध्य है सर्वोपरि सत्ता

धर्मधारासंसार और जीवन में दो ही तत्व हैं-एक तत्व वह है, जहां निरंतर परिवर्तन घटित होता रहता है और दूसरा तत्व वह है, जो उस परिवर्तन के बीच भी सदा स्थिर और स्थायी रहता है। प्रकृति में परिवर्तन घटित होते हैं और होते ही रहते हैं। इन परिवर्तनों में कभी कोई विराम नहीं लगता है, कोई ठहराव नहीं होता है। प्रकृति का नियम है कि उसमें परिवर्तन घटित होते रहेंगे। इस नियम को कोई बदल नहीं सकता है। परिवर्तन का यह नियम जितना स्थिर एवं अटल है, उतना ही स्थायी यह नियम भी है कि इस परिवर्तन के मध्य जीवात्मा सदा स्थिर एवं ..

पश्चिम बंगाल की संस्कृति बनती राजनीतिक हिंसा

प्रभुनाथ शुक्लपश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा लोकतंत्र का सबसे घिनौना रूप है। आम चुनावों के दौरान बंगाल कश्मीर से भी बदतर है। लोकतंत्र में हिंसा का रास्ता अख्तियार कर राजनैतिक दल क्या संदेश देना चाहते हैं। 60 साल तक केंद्र की सत्ता में रहने वाली कांग्रेस इस तरह की राजनैतिक हिंसा पर कदम क्यों नहीं उठाए। 34 साल तक वामपंथ का शासन रहा, लेकिन सभी ने आंखें बंद रखा और लोकतंत्र खून से लथपथ होता रहा। अब वहीं नीति तृणमूल और भाजपा अपना रही है। राजनैतिक हिंसा अब पश्चिम बंगाल की संस्कृति बन गई है। पंचायत से आम ..

मोदी, आयोग और बयानी कोहराम...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र की यह खूबी है कि जहां पर जिस किसी को विषय/मुद्दे पर प्राथमिक ज्ञान भी न हो...वहां पर विशेषज्ञों की भांति तर्क-कुतर्क करने वाला झुंड नजर आता है...क्योंकि उन्हें अभिव्यक्ति की आजादी जो मिली है...यही बात तो लोकतंत्र के लिए किसी विडंबना से कम भी नहीं है.., क्योंकि जब बिना विचार किए एवं किसी विषय/मुद्दे को समझे बिना सिर्फ विरोध-आलोचना के लिए हमलावर हुआ जाता है...तब केवल इसके जरिए विभ्रम फैलाने के सिवाय कुछ हासिल होता नजर नहीं आता...लेकिन कुछ लोगों का काम सिर्फ बुराई-आलोचना ..

सत्पुरुष कौन?

प्रेरणादीपसूर्य परिभ्रमण में निरत था। उसने प्रवास काल में कइयों से कई प्रकार की निंदाएं सुनीं।एक बोला-'अभागे को कभी छुट्टी नहीं मिलती।Óदूसरे ने कहा-'बेचारा रोज जन्मता और रोज मरता है।Óतीसरे ने कहा-'निर्जीव होते हुए भी आग उगलता है।Óचौथे ने कहा-'किसी बड़े अपराध का दंड भुगत रहा है।Óसूर्य को इस कृतघ्नता भरे जवाब पर क्रोध आया और दूसरे दिन उगने से इनकार कर दिया। सूर्य की पत्नी ने रूठने का कारण जाना तो हंस पड़ी और बोली-'ढेले की चोट से घड़े फूटते हैं, किंतु ढेले समुद्र में गिरकर गर्त में ..

निष्काम कर्म ही कर्मयोग का आधार

धर्मधाराइस जगत में कोई तो आनंद की लहरों से खेल रहा हैष अठखेलियां कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर कोई गम के समंदर में डूबा हिचकोले खा रहा है। कोई किलकारियां मार रहा है तो कोई सिसकियां भर रहा है। किसी का दामन खुशियों से भरा है तो किसी का जीवन कांटों में उलझा है। कोई अपने स्वर्णमहल में रहकर भी उदास है तो कोई खुले आसमान के नीचे रहकर भी निहाल है। सचमुच जीवन और जगत के इस रूप को देखकर हमें कितना विस्मय व अचरज होता है! पर क्या ऐसा अनायास ही होता है या फिर इसका कोई ठोस कारण है? क्यों किसी के जीवन में सुख-ही-सुख ..

सिख दंगों की अंतर्कथा में अब भी छिपे हैं कई रहस्य

प्रवीण गुगनानीइटली के चिंतक, विचारक व राजनीति विज्ञानी मेकियावेली ने जो कहा है कांग्रेस उसके बहुत ही समीप है 'ज्ञानियों ने कहा है कि जिसका भविष्य देखना हो उसका भूतकाल देख लोÓ। इसके बाद कांग्रेस के सिक्ख दंगों से जुड़ाव को लेकर अमेरिकी कवि, चित्रकार व विचारक इमर्सन की कही एक बात भी स्मरण आती है- 'उचित रूप से देखें तो इतिहास कुछ भी नहीं है सब कुछ मात्र आत्मकथा हैÓ। सिख दंगों के समूचे संदर्भों में ये दो बातें कांग्रेस पर शत-प्रतिशत चरितार्थ होती है।1984 के सिख दंगों पर राजीव गांधी के अभिन्न ..

एक वोट से होंगे दो काम - चौहान

खरगोन द्य शुक्रवार को खरगोन में प्रधानमंमत्री की उपस्थिति में सभा को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि सभा में जो जनसैलाब उमड़ा है, यह देश को बचाने और कांग्रेस को सबक सिखाने के लिए उमड़ा है। उन्होंने कहा कि आपका एक वोट दो काम करेगा। वह मोदीजी को फिर से प्रधानमंत्री बनाएगा और कमलनाथ सरकार को उसकी वादाखिलाफी के लिए सबक भी सिखाएगा। इसके लिए आप खरगोन लोकसभा से गजेंद्र पटेल और धार लोकसभा से छतरसिंह दरबार को कमल का बटन दबाकर जीत दिलाएं।..

सभी दलों के लिए खुले हैं भाजपा के दरवाजे- शाह

नई दिल्ली ठ्ठ 17 मई (वा) लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से पहले भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी को 300 से ज्यादा सीटें मिलने का दावा किया और साथ ही कहा कि कोई अन्य दल यदि उनके गठबंधन में आना चाहे तो उसके लिए दरवाजे खुले हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ भाजपा मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में श्री शाह ने कहा कि मोदी सरकार के कामकाज और चुनाव अभियान के दौरान मिले जनसहयोग के आधार पर उन्हें पूरा विश्वास है कि पार्टी को 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार ..

देश तोडऩे वालों के साथ खड़ी है कांग्रेस

महराजगंज ठ्ठ 17 मई (वा) केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार बनाने के लिए बल्कि देश बनाने के लिए राजनीति करती है जबकि कांग्रेस देशद्रोह के कानून को समाप्त करने की वकालत करके खुलेआम देश तोडऩे वालों के साथ खड़े होने का संदेश दे रही है। निचलौल के राजा रत्न सेन इंटर कॉलेज के खेल मैदान में भाजपा प्रत्याशी पंकज चौधरी के पक्ष में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस का कहना है कि सत्ता मिली तो वह देशद्रोह के कानून को खत्म कर देगी लेकिन भाजपा देशद्रोह कानून को इतना ..

शेयर बाजार में तेजी से निवेशकों ने कमाये 1.36 लाख करोड़

मुम्बई ठ्ठ 17 मई (वा)देश के प्रमुख शेयर बाजार बीएसई में शुक्रवार को हुई जोरदार लिवाली के बल पर उसका बाजार पूंजीकरण 1,36,485.70 रुपए बढ़कर 1,46,58,709.68 रुपए हो गया।बीएसई का बाजार पूंजीकरण गुरुवार को 1,45,22,223.98 रुपए रहा था। एफएमसीजी, वित्तीय और ऑटो कंपनियों में हुई जबर्दस्त लिवाली के दम पर बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स आज 537.29 अंक की तेज छलांग लगाकर 37,930.77 अंक पर पहुंच गया। दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी और मंझोली कंपनियों में भी निवेशकों का रुझान बढ़ा। हालांकि इस माह की शुरुआत ..

अमेरिका में लड़ाकू विमान एफ-16 दुर्घटनाग्रस्त, पांच घायल

वाशिंगटन ठ्ठ 17 मई (वा)अमेरिकी लड़ाकू विमान एफ-16 कैलिफोर्निया के पिरिस शहर में अभ्यास उड़ान के दौरान गुरुवार को दुर्घटनाग्रस्त होकर 'मार्च एयर रिजर्व बेसÓ के पास एक व्यावसायिक इमारत पर गिर गया। इस हादसे में पांच लोग घायल हो गए हालांकि पायलट कूदकर जान बचाने में सफल रहा। एयर बेस के उपप्रमुख टिमोथी होलीडे ने बताया कि लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त होकर हवाई अड्डे से लगी इमारत वैन बरेन बौलेवर्ड पर गिर गया। पायलट ने विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से पहले कूद कर अपनी जान बचा ली। चिकित्सकीय जांच के लिए ..

मन से मुक्ति

प्रेरणादीपएक मनुष्य को संसार से वैराग्य हुआ। उसने कहा-'यह जगत मिथ्या है, माया है। अब मैं इसका परित्याग करके सच्ची शांति की तलाश करूंगा।Ó आधी रात बीती और वैराग्य लेने वाले ने कहा-'अब वह घड़ी आ गई है, मुझे परमात्मा की खोज के लिए निकल पडऩा चाहिए।Ó निकलने से पहले उसने अपनी धर्मपत्नी और दूधमुंहे बच्चे की ओर सिर उठा करके देखा। दोनों की बड़ी सौम्य आकृतियां थीं। वह मन-ही-मन बोला-'कौन हो तुम, जो मुझे माया से बांधते हो?Ó उसे आकाशवाणी सुनाई पड़ी-'मैं तुम्हारा भगवान हूं।Ó वह मन-ही-मन बोला-'ये ..

सृष्टि की प्रत्येक कृति बेजोड़ व अनुपम

धर्मधारामौलिकता बाहरी नहीं, बल्कि हमारे आंतरिक स्वरूप से निर्धारित होती है। अध्यात्म क्षेत्र में तो यह सिद्धांत विशेष रूप से लागू होता है। महर्षि रमण जैसे मौनी संत, रामकृष्ण परमहंस जैसे बालसुलभ सरलता की प्रतिमूर्ति, स्वामी विवेकानंद जैसे बालसुलभ सरलता की प्रतिमूर्ति, स्वामी विवेकानंद जैसे तेजस्वी वक्ता, कबीर जैसे फक्कड़ जुलाहे, रैदास जैसे जूता गांठते संत, मीराबाई जैसी नाचती-गाती भक्त, बाहर से देखने में इनमें अंतर जान पड़ सकता है, लेकिन चेतना के स्तर पर सभी उस परमात्मतत्व से एकात्म चेतना के शिखर पर ..

प्रधानमंत्री पद के दिवास्वप्न में खोये राहुल गांधी

रमेश सर्राफ धमोराकांग्रेस पार्टी के सभी नेता इस प्रयास में लगे हैं कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को इस बार कैसे भी देश का प्रधानमंत्री बनाया जाए। इसके लिए सभी नेता पूरा प्रयास कर रहे हैं। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी चाहती है कि राहुल गांधी देश का प्रधानमंत्री बनकर अपने पूर्वजों की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाए। राहुल गांधी के सामानान्तर सत्ता का दूसरा केन्द्र ना बने इस लिए प्रियंका गांधी को भी सक्रिय राजनीति से दूर रखा जा रहा था, मगर अपने राजनीतिक अस्तित्व को बचाने के लिए कांग्रेस ..

आंतरिक ज्वार तोड़ेगा सारे रिकॉर्ड...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र के लिए 2019 का लोकसभा चुनाव अनेक मिथक तोडऩे के साथ ही नए कीर्तिमान गढऩे का संकेत कर रहा है...दो विचारधाराओं का राजनीतिक समर बन चुका यह 'लोकतंत्र का राष्ट्रपर्र्वÓ चुनावी चरणों की समाप्ति के साथ-साथ दलों-नेताओं की धड़कनें बढ़ाता ही चला जा रहा है...इसमें कोई दो राय नहीं है कि 2014 के लोकसभा चुनाव से 2019 का यह वैचारिक समर अनेक मायनों में बहुत भिन्नता लिए हुए है..! 2014 में मोदी की हवा-लहर थी..,कोई उसे तूफान-आंधी बता रहा था.., तो कोई उसे सुनामी की संज्ञा देकर मोदी ..

मुख्यमंत्री कमलनाथ बोले- हमने कर्जा माफ, बिजली बिल हाफ किया

नागदा द्य 75 दिनों में ही कांग्रेस की सरकार ने काबिज होते ही हमने अपनी नीयत व नीतियों का परिचय दिया है। 2 लाख रुपए तक के उन किसानों के कर्जे माफ किए हैं, जो फिडाल्टर नहीं हैं और चालू खाते हैं। उन्होंने अपनी सरकार की खूबियों का भी बखान करते हुए कहा कि किसानों के कर्ज माफ करने के साथ बिजली बिल आधा किया है। उक्त बात मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नागदा में कांग्रेस प्रत्याशी बाबूलाल मालवीय के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की 25 हजार रुपए से बढ़ाकर ..

शोपियां मुठभेड़ में ३ आतंकी ढेर

श्रीनगर द्य जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में गुरुवार शाम मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए और सुरक्षा बल का एक जवान घायल हो गया। इसके साथ ही गुरुवार को दक्षिण कश्मीर में दो अलग-अलग मुठभेड़ों में छह आतंकवादी मारे गए। विशेष अभियान समूह ने गुरुवार शाम शोपियां के हेनडीव गांव में घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू किया। जब सुरक्षा बल के जवान क्षेत्र से गुजर रहे थे, तभी वहां छिपे आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए और एक जवान घायल हो गया। इससे पहले गुरुवार ..

ममता को सुरक्षा बलों से दिक्कत घुसपैठियों से नहीं

दमदम द्य 16 मई (वा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि ममता दीदी को सीमा पार से आकर पश्चिम बंगाल में अशांति फैलाने वाले घुसपैठियों से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन उन्हें सुरक्षा बलों से काफी समस्याएं हैं। श्री मोदी ने उत्तर 24 परगना के दमदम लोकसभा क्षेत्र में गुरुवार को चुनावी रैली के दौरान कहा कि राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता अब कह रहे हैं कि केंद्रीय बलों को हटाया जाना चाहिए, उनकी पिटाई की जानी चाहिए। यही नीति जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजों ने अपनाई है। उन्होंने कहा कि दमदम लोकसभा ..

कोलकाता हिंसा - कड़ी कार्रवाई के लिए दोबारा आयोग पहुंची भाजपा

नई दिल्ली द्य 16 मई (वा) पश्चिम बंगाल में हिंसा पर चुनाव आयोग की कार्रवाई को अपर्याप्त बताते हुए भाजपा प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को फिर से चुनाव आयोग से मिला तथा इस मामले में और कठोर कार्रवाई करने की मांग की। प्रतिनिधिमंडल में शामिल केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया- हमने चुनाव आयोग से कहा है कि पश्चिम बंगाल के मामले में की गई कार्रवाई अपर्याप्त है। इसमें और कड़े कदम उठाये जाने की आवश्यकता है। उनके साथ केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और विजय गोयल भी चुनाव आयोग गए थे। अमित शाह के रोड शो के दौरान ..

भाजपानीत राजग 350 सीटें जीतेगा

चापानेर ठ्ठ १६ मई (स्वदेश समाचार)भाजपा प्रारंभ से ही मंदिर निर्माण के पक्ष में थी, है और रहेगी और 2014 में भाजपा की सरकार केंद्र में आने के बाद मंदिर निर्माण की ओर हरसंभव प्रयास सरकार के द्वारा किया गया। वह दिन दूर नहीं कि अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त होगा, किंतु कांग्रेस और कांग्रेस के मुखिया राहुल गांधी को स्पष्ट करना चाहिए कि वह मंदिर निर्माण के पक्ष में हैं या नहीं। 23 मई को पूरी दुनिया ही देखेगी कि भाजपानीत राजग 350 और अकेली भाजपा अपने दम पर 300 से अधिक सीटें ..

राष्ट्रभक्ति

प्रेरणादीपसु भद्राकुमारी चौहान प्रयाग के एक राजपूत घराने में जन्मीं। पढ़ती भी रहीं, पर उस समय के प्रचलन के अनुसार उनका विवाह खंडवा के लक्ष्मण सिंह नामक युवक से हो गया। सुभद्राकुमारी आरंभ से ही विद्याप्रेमी थीं। विवाह के बाद पति से आगे पढऩे की प्रार्थना की तो उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर ली। उन्हें कॉलेज में भर्ती करा दिया गया। इस बीच पति ने भी वकालत पास कर ली। अब आगे क्या करना है? इस पर दोनों ने विचार कर निश्चय किया कि देशसेवा करेंगे। उन्हीं दिनों कांग्रेस आंदोलन चल पड़ा। पति-पत्नी दोनों झंडा सत्याग्रह ..

परिवर्तन के क्रम में अपरिवर्तनीय है जीवात्मा

धर्मधारासृ ष्टि के बाद प्रलय आती है और प्रलय के बाद सृष्टि का क्रेम आता है। यह परिवर्तन सतत् चलता रहता है। इस प्रकार परिवर्तन है और परिवर्तन में सौंदर्य है, परंतु सौंदर्य में भी परिवर्तन है। कुछ ठहरता नहीं है, कुछ टिकता नहीं है, कुछ रुकता नहीं है। अगर परिवर्तन परिधि है तो उसमें कुछ शाश्वत हैं, जो केंद्र में स्थित है। केंद्र में स्थित यह शाश्वत तत्व परिधि के सभी परिवर्तनों को बाँधे रहता है। सारे परिवर्तन अपनी गति से बह रहे हैं, अपनी गति से प्रवाहित हो रहे हैं, लेकिन उनको जो नियंत्रित कर रहा है, वह ..

राष्ट्रवाद के पिच पर फूलती सांसों के बीच विपक्ष

अवधेश कुमारलो कसभा चुनाव जिस राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा के पिच पर आरंभ हुआ था, इस समय ठीक उसी पर ज्यादा सुदृढ़ होकर खड़ा दिख रहा है। चुनाव प्रक्रिया के बीच कुछ समय के लिए सतह पर इसका असर कम होने की संभावना अवश्य बनी, लेकिन घटनाओं ने तथा विपक्षी दलों की गलत रणनीति ने फिर इसे वापस ला दिया। वस्तुत: बालाकोट सहित पाक अधिकृत कश्मीर के दो स्थानों पर हवाई बमबारी की साहसिक कार्रवाई के बाद निर्मित राष्ट्रवाद के पिच से पैदा हुए मनोवैज्ञानिक असर को समझते हुए विपक्षी दलों को अत्यंत ही सतर्कता के साथ सुविचारित ..

गाँव बसा नहीं और...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र के सबसे बड़े राष्ट्रीय उत्सव 'लोकसभा चुनाव-2019Ó के सातवें और अंतिम चरण का मतदान 19 मई को होगा... लेकिन पांचवें चरण के बाद से ही सत्ता के लिए छटपटा रहे क्षेत्रीय दलों की बेचैनी देखते ही बन रही है... सत्ता का स्वाद ही ऐसा है कि जिसकी जिव्हा पर चढ़ा तो फिर उसे जनता-जनार्दन उतारती है या फिर उसकी उम्र के साथ बढ़ती समस्याएं... इसलिए 23 मई को आम चुनावों के परिणामों की घोषणा से पूर्व शून्य से चार लोकसभा सीटों वाले नेता भी अगर प्रधानमंत्री पद के सपने देखें तो बुराई क्या ..

बंगाल के लोगों के कारण हमें ३०० से अधिक सीटें मिलेंगी-मोदी

ताकी द्य 15 मई (वा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि पश्चिम बंगाल के लोगों के समर्थन और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की हताशा को देखते हुए दावा किया जा सकता है कि आम चुनाव में भाजपा को तीन सौ से अधिक सीटें मिलेंगी। श्री मोदी ने बसीरहाट लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत ताकी में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा- दीदी, आपकी हताशा और बंगाल के लोगों का समर्थन देखने के बाद मैं कह रहा हूं कि बंगाल के कारण हमें 300 से अधिक सीटें मिलेंगी। भाजपा अपने दम पर सरकार बनाएगी, क्योंकि उसे बहुमत मिल ..

हिंसा के लिए तृणमूल दोषी 300 सीट जीतेगी भाजपा - शाह

नई दिल्ली द्य 15 मई (वा) भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में मंगलवार को उनके रोड शो के दौरान हुई हिंसा के लिए राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए दावा किया है कि उनकी पार्टी अपने दम पर 300 सीटों का आंकड़ा पार करेगी और राजग की सत्ता में वापसी होगी। श्री शाह ने बुधवार को यहां भाजपा मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा- अब तक चुनाव के छह चरण समाप्त हो चुके हैं। सभी छह चरणों में पश्चिम बंगाल के सिवाय कहीं भी हिंसा नहीं हुई। मैं (राज्य की मुख्यमंत्री) ममता बनर्जी को ..

सोनिया को गरीबों की नहीं, राहुल को प्रधानमंत्री बनाने की चिंता - गडकरी

आलीराजपुर द्य 15 मई (वा) केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि श्रीमती गांधी को देश के गरीबों की चिंता नहीं है, बल्कि उन्हे चिंता अगर किसी बात की है तो, वह यह है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को कैसे प्रधानमंत्री बनाया जाए। श्री गडकरी मध्यप्रदेश के आलीराजपुर में भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा को चिंता है देश से गरीबी कैसे हटाई जाए, बेरोजगारों को रोजगार कैसे मिले, किसानों ..

राहुल से लेकर ममता तक मोदीजी से घबरा रहे हैं सारे नेता - शिवराज

मंदसौर, उज्जैन, रतलाम, झाबुआ देश में बड़ा अजीब-सा माहौल है। राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती, ममता दीदी से लेकर सारे नेता प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से घबरा रहे हैं। मोदीजी की लोकप्रियता के सामने उनके पैरों की जमीनें खिसकने लगी है, इसीलिए अब वे हमारी सभाएं नहीं होने दे रहे हैं। पत्थर फिंकवा रहे हैं। मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री कमलनाथ को डर लगने लगा है कि पता नहीं कब कुर्सी चली जाए। ये बातें भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने बुधवार को ..

श्रेष्ठ परम्परा

प्रेरणादीपका शी नरेश की धर्मपत्नी बड़ी सुंदर थीं। एक दिन वे दासियों समेत प्रात:काल गंगा स्नान को गईं। अभ्यास न होने के कारण ठंड से कांपने लगीं। सो अपने कर्मचारियों को आदेश देकर गंगा तट पर बनी झोपडिय़ों को जलाकर ठंड छुड़ाने का प्रयत्न किया। यह सूचना काशी नरेश तक पहुंची। उन्होंने रानी को दरबार में अपराधी की तरह बुलाया और कहा-'वे सारे कीमती कपड़े उतारकर भिखारियों जैसे वस्त्र पहनें।Ó आगे उन्होंने कहा- 'अज्ञात रूप में भिखारियों के साथ रहकर उसी तरह भिक्षा मांगें और उपलब्ध धन से जली हुई झोपडिय़ों को ..

नैतिकता का अर्थ मनुष्य का आंतरिक स्वरूप

धर्मधाराय ह संसार स्रष्टा की विविधतापूर्ण अद्भुत कृति है। इसमें एक दूसरे से तुलना स्वाभाविक है, लेकिन यदि हम व्यक्तिगत जीवन में किसी से तुलना-कटाक्ष के अंतहीन कुचक्र में उलझ गए तो जीवन में सुख और सफलता का मार्ग कंटकाकीर्ण हो जाता है। हमें इस कुचक्र से बाहर निकलने की आवश्यकता है। किसी से तुलना-कटाक्ष करने के चलते हम ईष्र्या-द्वेष में फंस जाते हैं और अनावश्यक तनाव एवं मानसिक संताप को निमंत्रण दे रहे होते हैं।समझने की जरूरत है कि इस सृष्टि में स्रष्टा की हर रचना स्वयं में अनुपम एवं अनूठी है। सबका अपना ..

कांग्रेस की सोच में निकला शब्द है 'हुआ तो हुआ'

जयकृष्ण गौड़अ मेरिकी दार्शनिक जार्ज संतायाना ने कहा है कि जो लोग इतिहास से सबक नहीं सीखते, वे उसे दोहराने का दंड भुगतते हैं। भारत सनातन राष्ट्र है, हजारों वर्षों की सांस्कृतिक विरासत होने के साथ कई प्रकार के संघर्ष और युद्धों की घटनाएं इतिहास में दर्ज है। कई आघातों के बाद भी संस्कृति के प्रवाह को कोई रोक नहीं सका। ऋग्वेद में कहा है कि 'एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्तिÓ अर्थात् उस एक प्रभु को विद्वान लोग अनेक नामों से पुकारते हैं। इसलिए कई पंच सम्प्रदाय विकसित हुए। भारत भूमि पर पैदा हुए सभी पंथ-संप्रदाय ..

ममता का 'त्रियाहठ' खेल...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र में त्रियाहठ की बेजा आहट सुनाई दे रही है... क्या 'त्रियाहठÓ स्वीकार किया जा सकता है..? वह भी सिर्फ स्वार्थपूर्ति की बुनियाद पर.., सुधार, निर्माण तक तो किसी भी स्तर पर जाकर 'त्रियाहठÓ स्वीकार है.., लेकिन जब उस 'त्रियाहठÓ का आधार बिगाड़, विध्वंस, दंभ और सिर्फ स्वार्थ हो, तब आखिर लोकतंत्र या संविधान की दुहाई देकर ऐसी वृत्ति को स्थान देना क्या अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मारने जैसा नहीं है..? भारत में 'त्रियाहठÓ की लंबी श्रंृखला है... लेकिन रामराज्य के ..

विश्व मंच पर भारत का नया अवतार...

शक्तिसिंह परमारअं तरराष्ट्रीय मंच पर जब जैश-ए-मोहम्मद के सरगना दुर्दान्त आतंकवादी मसूद अजहर विश्व का सबसे बड़ा प्रतिबंधित आतंकवादी घोषित हो रहा था, तब भारत विश्व मंच पर अपने नए अवतार के साथ कदमताल करता नजर आ रहा था... सही मायने में यह भारत की पांच वर्षों में कूटनीतिक रूप से सोच-समझकर आगे बढऩे की उस विदेश नीति की शत-प्रतिशत सफलता है, जो प्रधानमंत्री मोदी ने विदेशी भूमि पर दौरे कर-करके बनाई थी... मसूद का वैश्विक आतंकवादी घोषित होना इतना आसान नहीं था.., यह हमने मार्च में देख भी लिया था... क्योंकि चीनी ..

रामलीला मैदान का मंथन...

शक्तिसिंह परमारभारत का इंद्रप्रस्थ (दिल्ली) जो देखता, सुनता, समझता और निर्णय करता है...वही पूरे भारतवासियों की तासीर, तस्वीर बनकर सामने आता है...फिर इंद्रप्रस्थ स्थित रामलीला मैदान सिर्फ 'रामलीला मंचनÓ का ही साक्षी नहीं है...बल्कि 'राजनीतिक लीलाओंÓ के भी समय-समय पर दर्शन-मंथन का यह केंद्रबिंदु बन जाता है...और जब यहां से कोई संदेश निकलता है तो यह अपना लक्ष्य संधान करके ही रहता है...याद करें..? इसी रामलीला मैदान में संप्रग के समय में एक संन्यासी योगगुरु रामदेव को भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन ..

आत्मशोधन जरूरी

प्रेरणादीपविं ध्याचल पर्वत पर दो चींटियाँ रहती थीं, एक उत्तरी चोटी पर, दूसरी दक्षिणी चोटी पर। एक का घर शक्कर की खान में था, दूसरी नमक की खान में रहती थी। एक दिन शक्कर की खान वाली चींटी ने दूसरी चींटी को निमंत्रण दिया-'बहन! कहाँ इस नमक की खान में पड़ी हो, मेरे यहाँ चलो, वहाँ शक्कर ही शक्कर है। खाकर मुँह मीठा करो और अपना जीवन सफल करो।Óदूसरी चींटी ने निमंत्रण स्वीकार कर लिया। बड़े सवेरे नहा-धोकर पहली चींटी के घर जा पहुँची। चींटी ने उसे घूम-घूमकर शक्कर की खान दिखाई और कहा-'बहन! जी चाहे जितनी शक्कर ..

जीवन में सफलता के स्वर्णिम सूत्र

धर्मधाराजी वन में लक्ष्य निर्धारण के बाद भी जब सफलता नहीं मिल पाती तो व्यक्ति में निराशा एवं कुंठा के भाव पनपने लगते हैं, जो कि स्वाभाविक है। ऐसे में हमें थोड़ा गहराई में उतरकर आत्मनिरीक्षण करने की आवश्यकता है कि हम सफलता के लिए आवश्यक ऐसे किन कारकों को नजरअंदाज कर रहे हैं, जिनके अभाव में हम सफलता के समीप होते हुए भी इससे वंचित रह गए। प्रस्तुत हैं ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण कारक, जिनके प्रकाश में हम आत्मसमीक्षा कर सकते हैं।सोच की समग्रता का आशय ऐसे जीवन लक्ष्य से है, जिसकी वर्तमान प्रासंगिकता और भावी उपयोगिता ..

विपक्ष की बैसाखी जातिवाद और मजहबी तुष्टिकरण

ओमप्रकाश पाण्डेयदे श में लोकतंत्र और राष्ट्ररक्षा के असिधारा व्रत के निर्वाह हेतु संकल्पित भारतीय मतदाता सम्प्रति कठिन परीक्षा के दौर से गुजर रहा है। आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। वंशवादी, जातिवादी और मजहबी सीढिय़ों को थामकर सत्ता के शिखर पर आरूढ़ होने के लिए बेताब खुर्राट राजनीतिक खिलाड़ी लुभावने वायदों, नकली नारों और झूठे आरोपों का भ्रमजाल फैलाने में सम्पूर्ण निष्ठा से संलग्न हैं। प्रथम चक्र के चुनाव से ही गंभीर राजनीतिक विश्लेषक यह आंकलन कर चुके हैं कि इस बार पुन: भारतीय ..

परलोक का सुख

प्रेरणादीपय दि लोक में रहते हुए परलोक की चिंता होती रहे तो परमार्थ स्वत: संपादित होने लगता है। एक ऋषि अपनी भक्तमंडली को एक कथा कहकर लोक-परलोक के विषय में बतला रहे थे। कथा इस प्रकार थी कि एक देश का यह रिवाज था कि जो राजा वहाँ चुन लिया जाता था, उसे मात्र पाँच वर्ष राज्य करने दिया जाता। इसके बाद उसे ऐसे निर्जन द्वीप में उतार दिया जाता, जिसमें निर्वाह के कोई साधन न थे। बेचारा भूखा-प्यासा दम तोड़ता।अनेक राजा इसी प्रकार दुर्गति को प्राप्त होते रहे। एक बार एक बुद्धिमान राजा की गद्दी पर बैठने की बारी आई। ..

सफलता के लिए जरूरी है समूह भावना

धर्मधाराटी म वर्क यानी दो से अधिक व्यक्तियों द्वारा एक ही दिशा में, एक ही उद्देश्य को लेकर मिलकर कार्य करने की भावना। प्रबंधन की भाषा में कहा जाए तो एक जुझारू नेतृत्वकर्ता अपने दम पर कमजोर टीम को कामयाब नहीं बना सकता, लेकिन चुनिंदा क्षमतावान, प्रतिबद्ध, उत्साही एवं व्यक्तिगत उपलब्धियों की भावना से परे लोग एक साधारण नेतृत्वकर्ता की अगुआई में भी किसी टीम को विजेता बना सकते हैं। लगातार अच्छे प्रदर्शन के लिए टीम की ताकत को समझते हुए उसे निरंतर प्रोत्साहित करने की जरूरत होती है। संगठनों की बात यदि की ..

चुनाव आयोग को दंड प्रक्रिया संहिता की दरकार

वि.के. डांगेव र्तमान चुनाव में चुनाव आयोग विशेष सक्रिय दिख रहा है, जिस तरह कुछ प्रत्याशी आपत्तिजनक वक्तव्य दे रहे हैं, उसे देखते हुए आयोग द्वारा उन्हें चेतावनी स्वरूप दंड दिया जा रहा है, यह तो उचित है, परन्तु एक बात यह भी है कि किस भाषा/शब्दों के प्रयोग के लिए कौन सा दंड दिया जाए। न्यायालय के पास अपराधिक प्रकरणों के लिए दंड प्रक्रिया संहिता व दंड संहिता होती है- इन्हीं के आधार पर न्यायालय निर्णय देता है। अब प्रश्न है कि क्या चुनाव आयोग के पास प्रत्याशियों के विरुद्ध कदम उठाने के संबंध में प्रक्रिया ..

जूता-प्याज को दोहराती कांग्रेस...

शक्तिसिंह परमारभारतीय राजनीति में बयानों, दावों और वादों को लेकर किस तरह से नेता पलटी मार जाते हैं..,बयान को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाते हैं...और यह कहने से भी नहीं चूकते कि मेरे द्वारा व्यक्त विचार के भावों को छापने-दिखाने वाले ने समझा ही नहीं...यानी अपने कहे से पलट जाने वाली राजनीति के अनेक उदाहरण हमारे यहां मौजूद हैं...फिर चाहे उन्हें इसके लिए राष्ट्रहित को दांव पर लगाना पड़े...सेना या न्यायालय को भी विवादों में घसीटना पड़े...संवैधानिक पद की गरिमा को तार-तार करने में भी उन्हें कोई शर्म ..

कंजूस का दर्द

प्रेरणादीपएक व्यक्ति के पास बहुत धन था, पर वह स्वभाव से बहुत कंजूस था। न खुद अच्छे से रहता था और न दूसरे का ही कुछ भला कर पाता था। वह अपने घर में धन इसलिए नहीं रखता था, ताकि कोई चोर-डाकू चुरा न लें। अत: गांव के बाहर एक जंगल में गड्ढा करके उसने अपना सारा धन वहीं गाड़कर रख दिया था। हर दूसरे-तीसरे दिन जाता और उस स्थान को चुपचाप देख आता। उसे यह देखकर बड़ा संतोष होता कि उसका धन वहां सुरक्षित रखा हुआ है। एक बार एक चोर को शक हुआ तो वह कंजूस के पीछे-पीछे चुपचाप गया और छिपकर उस स्थान को देख आया, जहां कंजूस ..

आग की तपन के बाद ही बनता है शुद्ध स्वर्ण

धर्मधारामारे जीवन में, जगत में विस्तारित जीवन में कृत यानी किया तो बहुत कुछ जाता है। कृत के विस्तार की कोई सीमा नहीं है, लेकिन वहां अर्थ शून्य है, अर्थ अनुपस्थित है। प्रकृति के गुण-सत्, रज व तम, पुरुष को जीवन देकर, एक के बाद एक नया जीवन देकर कृत तो बहुत कुछ कर रहे हैं, लेकिन उसमें अर्थ नदारद है। इसलिए जिसे जीवन मिला, वह स्वयं भी कृतार्थ नहीं हो पा रहा है और जिसने जीवन दिया, प्रकृति के वे गुण भी कृतार्थ नहीं हो पा रहे हैं, इसीलिए परिणामक्रम भी नहीं समाप्त हो रहा। एक जीवन में हम जो कर्म करते हैं, जिन ..

राष्ट्र को महाव्याधि से बचाए रखने की विधि मतदान

डॉ.पं. लक्ष्मीनारायण 'सत्यार्थीÓ1947 को मिली आजादी के बाद 1950 को लागू हमारा संविधान, विश्व में प्रजातंत्रीय भारत की पहचान, भारत देश उन शहीदों के सपनों को रंग भरता हुआ 72 वर्ष की यात्रा कर चुका है। काफी राजनीतिक उथल-पुथल के बाद एक दूर दृष्टा जांबाज, विश्व प्रजारंजन श्री नरेन्द्र मोदी जी को प्रधानमंत्री के आसन पर विराजने का मौका मिला। इसके पूर्व प्रधानमंत्रियों ने अपने स्तर पर भारत की बागडोर संभाली। आशा से ज्यादा उम्मीदें भारतीय जन मोदीजी से जुड़ा बैठे थे। वही मोदीजी पूरी तरह राष्ट्रीय उत्थान ..

हताशा में थप्पड़, दुर्योधन की याद...

शक्तिसिंह परमारभारतीय राजनीति का यह वह कालखंड है, जिसमें नेता एक-दूसरे के दामन पर दाग दिखाकर स्वयं को पाक-साफ बताने से नहीं अघा रहे हैं...लोकसभा चुनाव के इस वैचारिक समर के पांच चरणों का सिंहावलोकन करें तो पता चलता है कि चुनावी समर के मैदान में मुद्दों और ज्वलंत समस्याओं से इतर बयानी बोल को ही 'हर मर्जÓ की दवा के रूप में पेश किया जा रहा है...दो विचारधाराओं पर केंद्रित हो चुका यह वैचारिक समर जिस तेज गति से परिणामों की तरफ बढ़ रहा है..,उतनी ही तेजी से नेताओं और जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों की जुबान ..

आज खुलेंगे केदारनाथ धाम के कपाट

रुद्रप्रयाग द्य उत्तराखंड के केदारनाथ धाम यात्रा की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। नौ मई को खुलेंगे केदारनाथ धाम के कपाट। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं की आगवानी की तैयारी पूरी कर ली गई है। पर्याप्त मात्रा में राशन केदारपुरी पहुंचा दिया गया है और यात्रियों के रहने की समुचित व्यवस्था की गई है, इसके लिए 300 टेंट लगाए गए हैं और स्थानीय युवाओं को 250 टेंट लगाने की अनुमति दी गई है। नौ मई से केदरनाथ धाम के कपाट खुल जाएंगे। दस स्थानों पर अलाव के भी इंतजाम किए ..

नोटबंदी-जीएसटी पर चुनाव लड़कर दिखाएं मोदी

नई दिल्ली द्य 8 मई (वा)कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए उन्हें लोकसभा चुनाव के आखिरी दो चरण नोटबंदी और जीएसटी जैसे मुद्दों पर लडऩे की चुनौती दी है। श्रीमती वाड्रा ने बुधवार को उत्तर-पूर्वी लोकसभा क्षेत्र के सीलमपुर इलाके में कांग्रेस उम्मीदवार एवं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के पक्ष में रोड शो करने के बाद लोगों को संबोधित करते हुए कहा- एक दिल्ली की लड़की आपको चुनौती दे रही है - चुनाव के आखिरी दो चरण नोटबंदी पर लडिय़े, जीएसटी पर लडिय़े, ..

साध्वी प्रज्ञा ने जारी किया भोपाल के लिए संकल्प-पत्र

भोपाल द्य 8 मई (वा)भोपाल संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञासिंह ठाकुर ने आज भोपाल के लिए अपना विजन डॉक्युमेंट जारी करते हुए कहा कि वे अभी इसमें कुछ ही बिंदुओं को समाहित कर पाई हैं और सभी अहम मुद्दे इसमें शामिल नहीं हैं। सुश्री ठाकुर के इस विजन डॉक्युमेंट को संकल्प-पत्र का नाम दिया गया है। इसे जारी करते हुए सुश्री ठाकुर ने कहा कि बहुत प्रतीक्षा के बाद अंश मात्र विजन तैयार हो पाया, उसे जनता के समक्ष लाया गया है। सारे मुद्दे अभी इसमें नहीं आ पाए हैं। बच्चों, महिलाओं, रोजगार और भोपाल के ..

राहुल की हार तय-स्मृति

अशोकनगर/सागर द्य 8 मई सागर में केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने आज कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अमेठी में हार सुनिश्चित है, इसलिये वे दक्षिण से भी चुनाव लड़ रहे हैं। श्रीमती ईरानी सागर संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी राजबहादुर सिंह के पक्ष में बीना में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रही थीं।उन्होंने आरोप लगाते हुये कहा कि कांग्रेस ने सेना का पराक्रम का मनोबल गिराया है। उधर गुना में भाजपा के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित करने के दौरान केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को आज कांग्रेसी कार्यकर्ता..

दिल्ली में 'नाकामपंथÓ की राजनीतिक संस्कृति लाई आम आदमी पार्टी

नई दिल्ली द्य 8 मई (वा)।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सभी प्रमुख विपक्षी दलों की कड़ी आलोचना करते हुए आज कहा कि आजादी के बाद देश की राजनीति में मुख्य रूप से चार राजनीतिक संस्कृतियों को देखा गया लेकिन दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने 'नाकामपंथÓ की पांचवीं संस्कृति स्थापित की है। श्री मोदी ने यहां रामलीला मैदान में भाजपा की ओर से आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि पहले देश की राजनीति में नामपंथी, वामपंथी, दाम एवं दमनपंथी तथा विकासपंथी परंपराएं हैं लेकिन दिल्ली ने एक नयी पांचवी राजनीतिक संस्कृति ..

कांग्रेस के भ्रष्टाचार का एटीएम मप्रसरकार

उज्जैन/खाचरौद द्य हाल ही में मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है, लेकिन पूत के पांव पालने में दिखने लगे हैं। चार महीनों में ही इस सरकार ने 281 करोड़ कमाकर दिल्ली भेज दिए हैं। ये लोग 60 महीनों में क्या करेंगे? मध्यप्रदेश की यह कांग्रेस सरकार प्रदेश की जनता की भलाई के लिए नहीं बनी है। यह सरकार कांग्रेस के करप्शन का एटीएम है। यह बात भाजपा के राष्ट्रीय ध्यक्ष श्री अमित शाह ने बुधवार को उज्जैन के खाचरौद में उज्जैन-आलोट संसदीय क्षेत्र के प्रत्याशी अनिल फिरोजिया के समर्थन में आयोजित सभा को संबोधित करते ..

'चौकीदार चोर हैÓ मामले में राहुल ने मांगी बिना शर्त माफी

नई दिल्ली द्य 8 मई (वा) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 'चौकीदार चोर हैÓ मामले में उच्चतम न्यायालय में बिना शर्त माफी मांग ली है। श्री गांधी ने शीर्ष अदालत में दाखिल नए हलफनामे में कहा है कि 'चौकीदार चोर हैÓ संबंधी बयान में न्यायालय का हवाला दिए जाने को लेकर वह बिना शर्त माफी मांगते हैं। उन्होंने इस प्रकरण में अदालत की अवमानना का मामला खत्म करने का भी न्यायालय से अनुरोध किया है। शीर्ष अदालत अब राफेल मामले में पुनर्विचार याचिकाओं के साथ-साथ अवमानना मामले पर एक साथ सुनवाई करेगी। श्री गांधी ..

सह अस्तित्व

प्रेरणादीपकिसी स्थान पर एक विशाल भवन का निर्माण हो रहा था। निर्माण स्थल के समीप ही लगा हुआ था- ईंटों का ढेर। ईंटों के ढेर में जमी ईंटों ने कहा-'गगनचुंबी अट्टालिकाओं का निर्माण हमारे अस्तित्व पर ही आधारित है। भवन जब बनकर तैयार हो जाएगा तो निस्संदेह उसके निर्माण का श्रेय हमें ही मिलेगा।Ó मिट्टी-गारे ने ईंटों की यह गर्व भरी बातें सुनीं तो उनसे रहा न गया। वे बोले-'तुम झूठ बोलती हो। क्या तुम नहीं जानती कि एकसूत्र में पिरोकर, ईंट-से-ईंट जोड़कर इस भवन को सुदृढ़ बनाने का श्रेय तो हमें ही है। हमारे अभाव ..

कर्तव्य-पथ की प्रेरणाशक्ति का नाम 'नारीÓ

धर्मधारानारी शक्ति व्यक्ति, परिवार ही नहीं, बल्कि समाज की भी आधी शक्ति है। प्राचीन भारत में जब तक इस विषय में स्वस्थ दृष्टिकोण एवं जाग्रत भाव रहा, देश भी जाग्रत रहा। कालक्रम में कुछ ऐसी विकृतियां आती गई कि समाज का आधा हिस्सा पंगु होता चला गया। इसी के साथ देश की लंबी दासता की कहानी भी जुड़ती चली गई। बीसवीं सदी के प्रारंभ में फिर जागरण की लहर आई और आजादी के बाद यह क्रमश: गति पकड़ती गई। आज हर क्षेत्र में नारी शक्ति का तीव्रता से अभ्युदय हो रहा है। जीवन के हर क्षेत्र में यह अपनी बुलंदी के झंडे गाड़ रही ..

शीर्ष न्यायालय की विश्वसनीयता को संदेह से मुक्ति जरूरी

अवधेश कुमारआम चुनाव के शोर के बीच हमारी शीर्ष न्यायपालिका उच्चतम न्यायालय के समक्ष आए गंभीर संकट पर देश का ध्यान उतना नहीं है जितना होना चाहिए। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर जबसे उच्चतम न्यायालय की एक पूर्व महिला कर्मचारी ने यौन उत्पीडऩ का आरोप लगाते हुए सभी न्यायाधीशों को पत्र लिखा तभी से हलचल मची हुई है। यह आरोप चल ही रहा था कि एक वकील उत्सव बैंस ने न्यायालय में एक याचिका दायर कर आरोप पर विचार कर रही पीठ के सामने अपनी राय रखने की मांग की। बैंस ने कहा है कि न्यायालय में पीठ फिक्सिंग का खेल चल रहा ..

ईवीएम पर रुदाली का पटाक्षेप...

शक्तिसिंह परमारभारत की निर्वाचन प्रक्रिया जितनी निष्पक्ष, पारदर्शी एवं परिष्कृत है...उतनी ही यह विश्वसनीय भी है...क्योंकि समय-समय पर हमारी निर्वाचन प्रक्रिया में सामयिक सुधार, संशोधन एवं आवश्यक सुझावों के समावेश का खुलापन ही हमें सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में ना केवल खड़ा करता है..,बल्कि हमारी निर्वाचन प्रक्रिया को भी सबसे बेहतर होने का प्रमाण-पत्र भी देता है...2002 में जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों की उपस्थिति में विधानसभा के चुनाव हुए थे..,क्योंकि पाकिस्तान लंबे समय से जम्मू-कश्मीर ..

मोदी सरकार के लिए रहें तैयार - अमित शाह

घाटाल 7 मई (वा) भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी श्री नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री मानती हैं या नहीं, लेकिन उन्हें अगले पांच वर्ष और मोदी शासन के लिए तैयार रहना चाहिए। शाह मेदिनीपुर जिले में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे, उन्होंने कहा- आप माने या न माने, लेकिन मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं और आप अगले पांच साल मोदी सरकार के लिए तैयार रहें। करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि संविधान के अनुसार भारत की जनता प्रधानमंत्री ..

अनिल अंबानी समेत कुछ खास लोगों के चौकीदार हैं मोदी - राहुल गांधी

चाईबासा द्य कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमं नरेंद्र मोदी पर उद्योगपति अनिल अंबानी समेत चुनिंदा लोगों के लिए चौकीदारी करने का आरोप लगाया। प्रधानमंत्री ने देश के आम लोगों की जेब से रुपए निकालकर उन्हें अंबानी, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे चोरों को दे दिया। श्री गांधी ने महागठबंधन उम्मीदवार गीता कोड़ा और चंपई सोरेन के समर्थन में सभा में प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए कहा कि खुद को देश का चौकीदार कहने वाले गरीब किसानों के घरों के बाहर नहीं मिलते, लेकिन वह अरबपतियों के घर के बाहर आसानी से मिल जाते ..

मन करता है मोदी को लोकतंत्र का जोरदार थप्पड़ मारूं

ममता के फिर बिगड़े बोलनई दिल्ली द्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आरोप से नाराज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि नरेंद्र मोदी को लोकतंत्र का एक जोरदार तमाचा लगना चाहिए। ममता ने मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि जब उन्होंने बंगाल में आकर मेरी पार्टी पर टोलाबाज होने का आरोप लगाया था, तो मैं उन्हें लोकतंत्र का एक करारा तमाचा मार देना चाहती थी। साथ ही कहा कि मेरे लिए पैसा कोई मायने नहीं रखता है। ममता ने मोदी पर निशाना साधते हुए कहा- वो पहले हाफ पैंट पहनकर घूमते थे, अब लाखों-करोड़ों ..

निर्वाचन आयोग की आड़ में प्रशासन का दुरुपयोग कर रही कांग्रेस - राकेश सिंह

भोपाल द्य 7 मई (वा)।कमलनाथ सरकार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के समर्थन के लिए प्रशासन का दुरूपयोग कर रही है। निर्वाचन आयोग की आड़ में स्थानीय प्रशासन से अपनी मर्जी अनुसार कार्यक्रम को स्वीकृति देने और निरस्त कराने का काम कांग्रेस कर रही है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने भारत विचार मंच द्वारा निर्मित डाक्यूमेंट्री 'भगवा आतंकवाद एक भ्रमजालÓ की स्क्रीनिंग की अनुमति निरस्त किये जाने पर मीडिया के समक्ष प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।पहले दी, फिर निरस्त की अनुमति ..

कांग्रेस ने कर्जमाफी वाले किसानों की सूची व दस्तावेज शिवराज को सौंपे

भोपाल द्य 7 मई (वा) लोकसभा चुनाव के दौरान मध्यप्रदेश में किसानों की कर्जमाफी को लेकर चल रहे आरोप-प्रत्यारोपों के बीच सत्तारूढ़ दल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुरेश पचौरी के नेतृत्व में आज यहां एक प्रतिनिधिमंडल ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के निवास पर पहुंचकर किसानों की कर्जमाफी संबंधी दस्तावेज और 21 लाख किसानों के नाम श्री चौहान को सौंपे।श्री पचौरी के साथ ही राज्य के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा, प्रदेश कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा और प्रदेश संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ..

गठबंधन एक-दूसरे के पापों को छिपाने वाली रिश्तेदारी

बस्ती ठ्ठ 7 मई (वा) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पाटी गठबंधन को पापों को छिपाने वाली रिश्तेदारी बताते हुए कहा यह रिश्तेदारी सिर्फ 23 मई तक चलेगी। चुनाव के बाद बुआ बोलेंगी की बबुआ गुंडों का सरदार है और बबुआ बोलेगा बुआ बेइमानी की प्रतिमूर्ति हैं। श्री योगी ने मंगलवार को यहां बैड़वा (भानपुर) में चुनावी जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि सपा-बसपा गठबंधन की रिश्तेदारी 23 मई तक चलेगी। उन्होंने कहा गठबंधन मात्र पापों को छिपाने वाली रिश्तेदारी के अलावा और कुछ ..

नेहरू की बदौलत कश्मीर है आज हिंदुस्तान का हिस्सा - गुलामनबी

सोनीपत ठ्ठ 7 मई (वा) राज्यसभा में विपक्ष के नेता एवं कांग्रेस के हरियाणा के प्रभारी गुलामनबी आजाद ने भाजपा हमला बोलते हुए मंगलवार यहां कहा कि जम्मू-कश्मीर को लेकर राजनीति करने वाली भाजपा को मालूम होना चाहिए पंडित जवाहरलाल नेहरू की वजह से ही आज कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। श्री आजाद ने हरियाणा के सोनीपत में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जब श्री नरेंद्र मोदी पैदा भी नहीं हुए थे, तब पं. नेहरू ने ही भारतीय सेना की मदद से पाकिस्तान के हमले से कश्मीर को बचाकर देश का हिस्सा बनाया था। उन्होंने ..

सहजता

प्रेरणादीपअमेरिकी राष्ट्रपति रूजवेल्ट दैनिक कार्यों से निवृत्त होकर सुबह-ही-सुबह अपने जूतों पर पालिश कर रहे थे। उसका एक मित्र आया। एक राष्ट्रपति को अपने जूतों पर पालिश करते हुए देखकर उसे अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हुआ। उससे नहीं रहा गया तो वह बोला 'रूजवेल्ट! यह क्या करते हो? तुम्हें अपने जूतों पर स्वयं पॉलिश करनी पड़ती है?Ó रूजवेल्ट ने कहा-'तो क्या तुम दूसरों के जूतों पर पॉलिश करते हो।Ó इस बात पर कुछ देर के लिए कमरा कहकहों से गूंज उठा। मित्र ने कहा-'मैं तो जूतों पर पॉलिश स्वयं न करके दूसरों ..

विविधता में एकता भारतीय संस्कृति की मौलिकता

धर्मधाराआज देश ही नहीं, वरन् पूरा विश्व जिस विप्लवी दौर से गुजर रहा है, उसके बीच अपनी समृद्ध विरासत के आधार पर भारत समूची मानव जाति के हित में कुछ ठोस योगदान दे सकता है। उसके लिए उसे पहले अपना घर संभालना होगा। बाहर मुंह ताकने के बजाए अपने समृद्ध कोश की ओर झांकना होगा। विश्व की प्राचीनतम संस्कृति की प्राचीनतम विरासत वेद-उपनिषदों में सुरक्षित है। इनकी रचना ऋग्वेद को विश्व का सबसे प्राचीन ग्रंथ माना जाता है। आगे चलकर उसमें नए आयाम जुड़ते हैं व ज्ञान-विज्ञान एवं दर्शन-साहित्य की विविध धाराएं प्रभावित ..

कांग्रेस की परेशानी : पप्पू अभी तक समझदार नहीं?

जयकृष्ण गौड़लोकसभा चुनाव का पांचवां चरण समाप्त हो गया है। आगामी दो चरणों के बाद 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित होंगे। प्रचंड जीत के दावे भाजपा की ओर से किए जा रहे है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि हमारी ओर से जनता चुनाव लड़ रही है। दूसरी ओर राहुल गांधी भी जीत का दावा करते हुए कहते है कि मोदी के कर्म उनका इंतजार कर रहे है। चुनाव के इस अंतिम दौर में राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा के लिए सबसे अधिक चुभने वाली नरेन्द्र मोदी की वह बात रही कि राजीव गांधी प्रारंभ में मिस्टर क्लीन थे, लेकिन बोफोर्स ..

तूफान को मात की मिसाल...

शक्तिसिंह परमारभारत ने गत सप्ताह भीषण चक्रवाती तूफान 'फोनीÓ से लड़कर और इस आपदा की घड़ी में भी हार ना मानने की जिस जिजीविषा का परिचय दिया है, वह अद्भुत है..,क्योंकि प्राकृतिक आपदा से लड़कर उसे मात देने की मिसाल कायम करना अपने आप में किसी पराक्रम से कम नहीं...यह उस समय और अधिक मायने रखता है और महत्वपूर्ण हो जाता है, जब देश में लोकसभा चुनाव चल रहे हों और आपदा पीडि़त उस राज्य में विधानसभा चुनाव भी चल रहे हों...जी हां..! ओडिशा ने जिस तैयारी के साथ समय रहते आमजन को प्राकृतिक आपदा का कोपभाजन बनने से ..

संत की सीख

प्रेरणादीपदा र्शनिक हिक्री उन दिनों तंवा में रहते थे। कई लोग उनसे उलझी गुत्थियाँ सुलझाने संबंधी परामर्श करने आते। एक दिन एक व्यक्ति अपनी धर्मपत्नी सहित उनके पास पहुँचा और अपनी पत्नी की आलस्य तथा कंजूसी की आदत के बारे में सब कुछ बताने लगा। सचमुच ये दोनों बुराइयाँ उसमें थीं भी। हिक्री ने उस औरत को स्नेहपूर्वक पास बुलाया। एक हाथ की मु_ी बाँधकर उसके सामने की और पूछा- 'यदि यह ऐसे ही सदा रहे तो क्या परिणाम होगा?Ó पत्नी सिटपिटाई तो, पर हिम्मत समेटकर बोली- 'यदि सदा यह मु_ी ऐसी ही बँधी रही तो हाथ अकड़कर ..

भारतीय संस्कृति सार्वभौम और सर्वकालिक

धर्मधाराक ई लोग, सभ्यता एवं संस्कृति को शब्दों के रूप में साथ-साथ उपयोग में लाते हैं, परंतु दोनों के अर्थों में जमीन-आसमान का अंतर है। सभ्यता का अर्थ बाहरी व सतही पहलुओं से है। किसी देश के निवासियों का रहनसहन, भाषा, वेश, भोजन, बोलियाँ इत्यादि उस देश की सभ्यता के परिचायक हैं। पिज्जा, पास्ता, मैकेरोनी कहने से इटली के निवासियों के भोजन इत्यादि के तौर-तरीकों का पता चलता है, परंतु बोलचाल में लोग इसे ही इटेलियन कल्चर या इटेलियन संस्कृति मान बैठते हैं; जबकि भारतीय चिंतन में संस्कृति का अर्थ, आंतरिक गुणों ..

वैश्विक आतंकी मसूद : भारत की कूटनीतिक विजय

प्रवीण गुगनानीदु र्योग ही है कि इस्लाम के धार्मिक स्थानों व प्रतीकों में जिस चांद को दिखाया जाता है उसे ही अजहर कहते हैं। अजहर मसूद यानी हंसता हुआ चांद! किंतु इस अजहर मसूद में तो चांद जैसे कोई भी लक्षण न थे, यह तो शीतलता व मुस्कान से मीलों दूर पाप, आतंक, मार काट व भारत विरोध का पर्याय बन गया है। कहा जा सकता है कि अंतत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने प्रथम कार्यकाल का चिर प्रतीक्षित मिशन सीरिज का एक और मिशन पूर्ण कर लिया। निस्संदेह मोदी जी की मिशन सूचि में अभी बहुत कुछ करना बाकी है, जिसके लिए ..

जूता-झापट से संवाद का दौर...

शक्तिसिंह परमारभारत में 'राजनीतिÓ और 'राजनेताÓ को बर्बादी या कहें कंगाली के कगार पर लाकर खड़े करने वाले भी इसी बिरादरी से जुड़े हैं...क्या सामान्य चर्चा एवं कटाक्ष में भी हम यह नहीं सुन रहे हैं कि- कृपया आप राजनीति न करें...आप नेता मत बनिए...आखिर लोकतंत्र की मर्यादा का दायित्व जिनके कंधों पर है, उन्हें ही सामान्य समाज में किसी अछूत की भांति क्यों देखा जाता है.., आखिर राजनीति एवं नेताओं से हर कोई दूरी बनाता क्यों नजर आता है..? क्या राजनेता एवं राजनीति किसी गड़बड़ी या विकृत मानसिकता का तेजी ..

स्वच्छता ने खोले अनेक द्वार...

शक्तिसिंह परमारभारत में स्वच्छता का अलख जगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर 'स्वच्छ भारत अभियानÓ राष्ट्रीय आंदोलन के रूप में प्रारंभ किया था...जिसके अंतर्गत महात्मा गांधी की 150वीं जयंती यानी 2 अक्टूबर 2019 तक 'भारत को स्वच्छता में सिरमौरÓ बनाने का संकल्प लिया गया था...प्रधानमंत्री ने स्वयं झाड़ू लगाकर, फावड़े से मिट्टी भरकर अपनी पूरी टीम को स्वच्छता के मिशन में लगाया था... 'ना गंदगी करेंगे, ना करने देंगेÓ का संकल्प भी प्रधानमंत्..

क्या जनादेश पर धनबल कसेगा नकेल..!

शक्तिसिंह परमारभा रतीय लोकतंत्र के राष्ट्रीय उत्सव 'आम चुनाव-2019Ó की बात करें या राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव की... या फिर नगरीय निकाय से लेकर पंचायत के सरपंच से पंच तक के चुनाव में 'धनबलÓ यानी पैसे का बड़ा तगड़ा खेल खेला जाता है... हो भी क्यों नहीं.., जब सरपंच के एक पद के लिए 3000 मतदाता वाली पंचायत में कम से कम 10 उम्मीदवार खड़े होंगे, तब एक प्रत्याशी के हिस्से में 300 वोट ही तो आते हैं... फिर ऐसे में जो सर्वाधिक तौलमोल कर लेगा, उसका जीतना तय है... कई बार हमने देखा है कि पंचायत ..

35-ए के नाम पर 1954 में संविधान से हुई गद्दारी

35-ए के नाम पर 1954 में संविधान से हुई गद्दारी..

पहली बार भारत ने चीन से आंख में आंख मिलाकर बात की - श्री आप्टे

तत्पश्चात अध्यक्षीय उद्बोधन परम विशिष्ट और अतिविशिष्ट चक्र से राष्ट्रपति से सम्मानित सेवानिवृत्त एयर मार्शल जयंत आप्टे ने देते हुए कहा कि, यह विषय पहले भी प्रासंगिक था और आगे भी प्रासंगिक रहेगा। इस विषय पर सोचना होगा, सोच में बदलाव लाएं आज से पहले सोच अलग थी, एक्शन ही हमारी सुरक्षा है, पर सीमा की सुरक्षा की परिभाषा बदल चुकी है। साइबर सुरक्षा, सामाजिक सुरक्षा और आतंरिक सुरक्षा आदि सब इसमें है। सरकार बदलते ही इसमें बदलाव आता है। इसमें राजनीतिक बदलाव आया, स्थिर सरकार, निडर सरकार मिली, जिसमें निर्णय ..

35-ए के नाम पर 1954 में संविधान से हुई गद्दारी

स्वदेश के वैचारिक अनुष्ठान 'मंथनÓ में प्रखर वक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ का जन-जन को झकझोरने वाला उद्बोधनइंदौर द्य स्वदेश समाचारयहां सेना प्रमुख (चीफ ऑफ आर्मी) को गाली देने का शौक है। हमारे देश में राजनीतिक लोगों को करेक्ट दिखने का शौक है। पाक क्या करेगा, चीन क्या करेगा, आतंकवादी कहां से आएंगे इस सब पर खूब चर्चा होती है। भारत के अंदर 500 से अधिक पाकिस्तान हैं पर राजनीतिक दल अपने मतलब के कारण सच नहीं बोलते हैं। समाज में बदलाव करना है सच्चाई बताएं समाज साथ में उठ खड़ा होगा। कश्मीर में धारा 370 ..

अब तक ८ की मौत, १६० से अधिक घायल

भुवनेश्वर द्य 3 मई (वा) भयंकर चक्रवाती तूफान 'फोनीÓ 170 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ओडिशा में पुरी के तटीय इलाकों में पहुंच गया है और शुक्रवार सुबह से पुरी तथा अन्य तटीय इलाकों में बारिश हो रही है तथा तेज हवाएं चल रही हैं। चक्रवाती तूफान में 8 लोगों की मौत हो गई, जबकि १६० से अधिक लोगों के घायल होने की सूचना मिली। तूफान के कारण भारी नुकसान होने की खबर है। राज्य के 14 जिलों के करीब 12 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। केंद्र और राज्य सरकारों ने तूफान से निपटने की पूरी ..

पाकिस्तान रो-रोकर कह रहा मोदी ने मारा

सीकर द्य 3 मई (वा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर शहीदों का अपमान करने, वन रैंक वन पेंशन देने का दिखावा करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि दुनियाभर में पाकिस्तान रो-रोकर कह रहा है कि मोदी ने मारा है, लेकिन कांग्रेस सर्जिकल स्ट्राइक पर ही सवाल खड़े कर रही है।श्री मोदी ने आज यहां जनसभा में कहा कि कांग्रेस को शहीदों की कभी चिंता नहीं रही तथा शहीदों का राष्ट्रीय स्मारक भी इसलिए नहीं बनाया कि इंडिया गेट की शोभा खत्म हो जाएगी, लेकिन हमने यह काम करके दिखाया, क्योंकि इंडिया गेट की शोभा से ज्यादा शहादत ..

आत्मविजय की साधना

प्रेरणादीपयु वक अंकमाल भगवान बुद्ध के सामने उपस्थित हुआ और बोला- 'भगवन्! मेरी इच्छा है कि मैं संसार की कुछ सेवा करूं। आप मुझे जहां भी भेजना चाहें, भेज दें, ताकि मैं लोगों को धर्म का मार्ग सिखा सकूं।Ó बुद्ध हंसे और बोले-'तात्! संसार को कुछ देने से पहले अपने पास कुछ होना आवश्यक है। जाओ, पहले अपनी योग्यता बढ़ाओ, फिर संसार की भी सेवा करना।Ó अंकमाल वहां से चल पड़ा और विभिन्न कलाओं के अभ्यास में जुट गया। बाण बनाने से लेकर चित्रकला तक, मल्लविद्या से लेकर मल्लाहकारी तक, जितनी भी कलाएं हो सकती हैं, ..

हास्य जीवन का आधार व सर्वश्रेष्ठ चिकित्सक

धर्मधाराव र्तमान भागमभाग की अति व्यस्त तनावभरी जिंदगी में हास्य हमारे जीवन से लुप्त होता जा रहा है। छोटे-बड़े, वृद्ध, स्त्री-पुरुष, बच्चे, विद्यार्थी आदि सभी सुबह से रात तक तनावों में रहकर अपनों से हो निरंतर कटता जा रहा है, जिससे अनेकों बीमारियों से ग्रसित होकर पूरा परिवार, समाज व देश प्रभावित होता है। हंसना ईश्वर की आराधना है। ईश्वर ने केवल मानव को ही हास्य का विशिष्ट उपहार दिया है। उत्तम स्वास्थ्य के लिए हास्य को ही ऋषि-मुनियों व वैज्ञानिकों को अत्यंत जरूरी बताया है। सौ रोगों की एक ही दवा है हास्य-योग। ..

कांग्रेस की राजनीतिक रतौंधी की शिकार साध्वी प्रज्ञा

डॉ. अशोक बाबूलाल सनोठियाम हाभारत काल की राजसभा बैठी हुई है। रजस्वला पंचकन्याओं में एक प्रात: वंदनीया द्रौपदी का वस्त्र हरण किया जा रहा है, करवाया जा रहा है, अट्हास लगाए जा रहे हैं, तालियां पीटी जा रही हैं, दुर्वाद बोले जा रहे है, गंदी, अशिष्ट भाषा का प्रयोग करते हुए गालियां दी जा रही हैं, द्रौपदी रक्षा के लिए पुकार रही है, निवेदन कर रही है, अपने प्राणों से प्यारे शील, लज्जा, सतित्व, स्त्रीत्व व चरित्र की रक्षा की पुकार कर रही है, लेकिन कोई भी बचाने के लिए, रक्षा करने के लिए सभा में खड़ा नहीं होता ..

चुनावी प्रचार और खर्च का तंत्र...

शक्तिसिंह परमारभारत में परंपरागत चुनाव प्रचार के तौर-तरीकों में व्यापक या कहें कि आसमानी बदलाव 2014 में ही आया था...तब से लेकर आज हो रहे लोकसभा चुनाव-2019 की एक थीम तो बहुत साफ है कि सोशल मीडिया के जरिए हमारा चुनाव प्रचार भी अमेरिकी चुनाव प्रचार की राह सीमित समय में बहुत तेजी से पकड़ चुका है...आज सही मायने में सोशल मीडिया द्वारा लड़ा जा रहा चुनाव अपने परंपरागत चुनाव से बहुत भिन्न एवं महंगा भी है...पहले मतदान पूर्व की रात को शराब और पैसों का खेल चलता था...संभवत: अब भी चल रहा होगा..? इसमें कोई दो राय ..

जात-पांत के 'जापÓ में छुपा है राष्ट्रघात...

शक्तिसिंह परमारभारत की राजनीति लोकतंत्र के सबसे बड़े राष्ट्रीय उत्सव 'लोकसभा चुनाव-2019Ó में एक नई करवट लेती दिख रही है...विकास केंद्रित मुद्दों के साथ आशा-विश्वास एवं सबके सहभाग पर वोट की मुहर का चौतरफा माहौल दिखाई दे रहा है...4 चरणों का जो मतदान प्रतिशत भी सामने आ रहा है, वह भीषण गर्मी के बावजूद मतदाताओं में किसी तरह के नैराश्य भाव के बजाय उन्हें उत्साह एवं आत्मविश्वास से लबरेज दिखा रहा है... ऐसे में लाख टके का सवाल यह है कि-क्या यह वैचारिक समर बन चुका आम चुनाव 'जात-पांतÓ की सियासी तिकड़मों ..

अवसर का सदुपयोग

प्रेरणादीपए क बार एक कलाकार ने अपने चित्रों की प्रदर्शनी लगाई। उस प्रदर्शनी को देखने उस नगर के अनेक धनाढ्य लोग भी पहुँचे। प्रदर्शनी देखने आए लोगों में एक लड़की भी थी। उसने देखा कि सब चित्रों के अंत में एक ऐसे मनुष्य का चित्र भी टंगा है, जो मुँह को बालों से ढके हुए है। उस मनुष्य के पैरों पर पंख लगे थे। चित्रकार ने उस चित्र का नामकरण-अवसर के नाम से किया था। चित्र कुछ भद्दा-सा था, इसलिए लोग उस पर उपेक्षित दृष्टि डालकर आगे बढ़ जाते थे, परंतु वह लड़की उसी चित्र को ध्यान से देखती रही। चित्रकार इस बात को ..

दैवीय कृपा के लिए जरूरी तप का चरम

धर्मधाराम नुष्य की मूल प्रकृति दैवीय है, लेकिन यह प्राय: अव्यक्त रहती है। दैनिक जीवन में हर इनसान में श्रेष्ठता एवं उकृष्टता के लिए जो एक जन्मजात ललक रहती है, इसमें अपनी इस दैवीय प्रकृति के दर्शन किए जा सकते हैं। जग में जो भी श्रेष्ठता, सुंदरता, शिवत्व, शांति, आनंद भरा पड़ा है, उन सबसे मिलकर ही हमारी आध्यात्मिक प्रकृति बनती है। इसको रोजमर्रा के जीवन में देखने व अभिव्यक्त करने का मार्ग ही आध्यात्मिक पथ है। यह जिस विधि से संपन्न होता है, वह अध्यात्म का बहुत ही निजी मार्ग है। यह नैतिकता के नियमों से ..

इतिहास करता है तथ्यों के आधार पर मूल्यांकन

अवधेश कुमारहे मंत करकरे का नाम अचानक सुर्खियों में आ गया है। भोपाल से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अपनी उत्पीडऩ की व्यथा बताते हुए कह गईं कि हेमंत करकरे को मैने शाप दिया था। साध्वी की उम्मीदवारी के बाद से ही मौन धारण कर चुकी कांग्रेस बाहर आई और इसे शहीदों का अपमान बताया एवं भाजपा ने त्वरित प्रतिक्रिया दे दी कि हेमंत करकरे हमारे लिए शहीद हैं। साध्वी ने भी कह दिया कि इससे राष्ट्र विरोधियों को लाभ होगा मैं अपना बयान वापस लेती हूँ। किंतु, इससे अध्याय खत्म नहीं, बल्कि दोबारा आरंभ हुआ है। सोशल ..

कांग्रेस राज और बत्ती गुल...

शक्तिसिंह परमारभारत के हृदय प्रदेश 'मध्यप्रदेशÓ का करीब दो दशक पुराना कालखंड याद कीजिए..? तब बिजली, सड़क, पानी के मामले में किस तरह के देशभर में जुमले गढ़े जाते थे...गड्ढों के बीच सड़कें ढूंढऩा उस समय असंभव था...इसीलिए सरकारी ही नहीं, निजी परिवहन व्यवस्था भी पूर्णत: चरमरा गई थी...बिजली के मामले में तो मध्यप्रदेश में लालू का लालटेन युग लौट आया था...घुप अंधेरे में किसानों, व्यापारियों-विद्यार्थियों के लिए अपना दायित्व निर्वाह दूभर हो चुका था...फिर जलसंकट के चलते कृषि क्षेत्र में सिंचित रकबे का ..

मानवीय आदर्श

प्रेरणादीपब ड़े लाड़ के साथ मां ने अपने पुत्र से कहा-'बेटा, ले ये दो टुकड़े मिठाई के हैं। इनमें से यह बड़ा टुकड़ा तू स्वयं खा लेना और छोटा टुकड़ा अपने साथी को दे देना।Ó 'अच्छा मांÓ-कहकर वह बालक दोनों टुकड़े लेकर घर से बाहर आ गया। वह साथी को मिठाई का बड़ा टुकड़ा देकर स्वयं छोटा खाने लगा। मां यह सब खिड़की में से देख रही थी। उसने आवाज देकर बालक को बुलाया व बोली-'अरे क्यों रे! मैंने तुझसे बड़ा टुकड़ा खुद खाने और छोटा उस बच्चे को देने के लिए कहा था, किंतु तूने छोटा स्वयं खाकर बड़ा उसे क्यों ..

परिग्रह का मूल कारक है मनुष्य का भय

धर्मधाराअ ध्यात्म एक उच्च स्तरीय पुरुषार्थ है। वास्तविक अध्यात्म जब आंतरिक सफलताओं का पथ प्रशस्त करता है। तो साधक को संपन्न नहीं, बल्कि सुसंस्कारित, निश्चित और निद्व्र्रद्व बनाता है। अध्यात्म के कारण संपत्तिपरक वैभव का भार घटता है और एक उच्च स्तरीय पराक्रम उभरता है। इतिहास साक्षी है कि आत्मचेतना के विकास ने किसी को संपन्न नहीं बनाया, वरन समृद्धि को आदर्शों के लिए समर्पित करने एवं स्वयं हलका-सामान्य रहने के लिए प्रेरित किया है। महामानवों ने सदा से ही साधनों के अभाव में रहने का स्वेच्छा से वरण किया ..

संघर्ष राष्ट्रवादी विचार और देश विरोधी विचारों का

जयकृष्ण गौड़चा र चरणों के मतदान के बाद चुनाव परिणाम की अटकलें लग रही है। हर प्रत्याशी अपने भविष्य को लेकर तनाव में है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह दावा कर रहे हैं कि 2014 से भी अधिक समर्थन जनता का उन्हें मिलेगा। मोदी लहर को रोकने के लिए जो महागठबंधन का हो-हल्ला हो रहा था, वह बन नहीं सका। अब विपक्ष के बिखराव का विलाप प्रारंभ हो गया है। कांग्रेस को उप्र, सपा, बसपा ने नकार दिया है। आंध्र, प. बंगाल, उड़ीसा आदि में क्षेत्रीय दलों के नेता ने कांग्रेस को चारा डालने को तैयार नहीं है। दिल्ली, पंजाब, ..

न्यायमंदिर और साजिश के तार...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र में सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति को माना गया है.., लेकिन राष्ट्रपति को अपने पद की शपथ दिलाने का कार्य जब भारत के सर्वोच्च न्यायमंदिर के मुख्य न्यायाधीश करते हों, तब विचार किया जा सकता है कि बाबा साहब आम्बेडकर ने कितनी कुशलता से संविधान निर्माण एवं संवैधानिक व्यवस्थाओं के तारों को जोड़ा है कि प्रत्येक स्तंभ की न केवल 'स्वतंत्रताÓ आबाद रहे.., बल्कि लोकतंत्र जब खतरे में नजर आए तो एक-दूसरे के साथ एवं विरोध में खड़े होने की व्यवस्था भी उन्होंने की है...यानी भारतीय लोकतंत्र ..

सत्साहित्य की महत्ता

प्रेरणादीपजॉ र्ज वाशिंगटन के मन में स्वतंत्रता की अमर आग पुस्तकों ने ही लगाई थी। रोम्या रोलां के उपन्यास 'जां क्रिस्तोफÓ ने हजारों लोगों में नई जीवन-दृष्टि जगाई । हैरियट स्टो की पुस्तक 'टाम काका की कुटियाÓ ने अमरीका एवं पाश्चात्य जगत में हलचल मचा दी थी तो गोर्की की पुस्तक 'माँÓ ने रूस को हिला दिया था। लेनिन को रूसी समाजवादी क्रांति की प्रेरणा कार्ल माक्र्स की प्रभावी रचनाओं से ही मिली। इस प्रकार अमरीका और रूस, दोनों के स्वतंत्रता संग्राम में पुस्तकों की विशेष भूमिका रही। अफ्रीकी देशों ..

संस्कृति राष्ट्रद्रोह की जड़

धर्मधाराआ ज देश संक्रमण के दौर से गुजर रहा है। एक ओर विश्वशक्ति के रूप में उभरता भारत तो दूसरी ओर भ्रष्टाचार की दलदल में धँसता समाज। लोकतंत्र का कोई भी स्तंभ इससे अछूता नहीं है। सामाजिक जीवन के हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार जैसे कैंसर की तरह घुस चुका है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार, आधे भारतीय भ्रष्टाचार को प्रश्रय देने में लिप्त हैं। कुल मिलाकर पूरा देश भ्रष्टाचार की दलदल में फँसा पड़ा है। अपरिग्रह का पाठ पढ़ाने वाला देश विश्व के सबसे भ्रष्टाचारी देशों में शुमार है। साथ ही देश में एक ओर धनकुबेरों की संख्या ..

इतिहास की आँखों में बसा है घटनाओं का सच और झूठ

वि.के. डांगेआ जकल साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के विषय में कहा जा रहा है कि उन्होंने विशेष सम्मान प्राप्त, महाराष्ट्र के पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे की शहादत (हौतात्म्य) को अपमानित किया है। आइपीएस एसोसिएशन ने तो साध्वी की कटु आलोचना करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। सच्चाई तो यह है कि साध्वी ने साध्वी के विरुद्ध एटीएस महाराष्ट्र ने जो शारीरिक व मानसिक प्रताडऩा का काम किया है, उसके विरुद्ध मात्र कहा है - करकरे की मृत्यु पर कुछ भी नहीं कहा है। यह सीधी सी बात आइपीएस एसो. के सदस्यों को क्यों समझ में नहीं आ रही है? क्या ..

न्याय तो अब होकर रहेगा...

शक्तिसिंह परमारभारत में गरीबी-भुखमरी मिटाने और रोजगार बढ़ाने के चुनावी वादे-इरादे दल/नेता आजादी के बाद से ही करते आ रहे हैं...गांधी परिवार की राजनीति का मुखड़ा ही गरीबी मिटाना रहा है...अब भगवान जाने इंदिराजी से लेकर सोनिया गांधी तक ने गरीबी मिटाने में वो कौन-सी कमी रख दी.., जो राहुल गांधी अब 'गरीबी मिटाने के लिए न्यायÓ की बात कह रहे हैं...लोकसभा चुनाव-2019 के इस वैचारिक समर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी चुनावी सभाओं में सिर्फ दो-तीन बातों-मुद्दों से आगे बढ़कर बात करने की कोई तैयारी ही ..

एकता का बल

प्रेरणादीपघ र के सामने कई पीढिय़ों से खड़े पर्वत ने चुनौती दी है, कोई माई का लाल जो मुझे अपने स्थान से हटा दे। पर्वत की यह गर्वोक्ति किसी ने सुनी, किसी ने नहीं सुनी। किसी ने सुनकर भी अनसुनी कर दी, पर सामने वाले मकान में बैठे हुए एक बूढ़े किसान ने सोचा-यदि पहाड़ इस स्थान से हट जाता तो कई बीघे जमीन खेती के लिए निकल आती, बाल-बच्चों का उदर-पोषण होता। उसने दाढ़ी पर हाथ फेरा, घरवालों को आवाज लगाई। पिता की आवाज सुनकर सब लड़के और पोते घर से बाहर निकल आए और बोले-'बाबा! कहिए, क्या आज्ञा है?Ó वृद्ध ने ..

सफलता का अर्थ केवल धनोपार्जन नहीं

धर्मधाराफ ल से ही 'सफलÓ शब्द बना है और सफल से ही 'सफलताÓ शब्द बना है। सफलता यानी फलस्वरूपता किए गए उपाय के फल के रूप में या फल सहित। यदि बेहतर उपायों से मिली सफलता सुंदर हो तो उसे 'सुफलताÓ कहते हैं यानी सुंदर रूप में फलना-फूलना, निरंतर सत्यम्, शिवम् और सुन्दरम् रूप में विकसित होना। अधिकतर लोग सिर्फ धन कमाने की योग्यता को ही सफलता मान लेते हैं और इसी कारण उनके जीवन के रोमांच, उमंग और आनंद उनसे दूर चले जाते हैं; जबकि गुणों को अर्जित करने वाले लोगों के पास धन एक सहज परिणाम की तरह स्वत: ..

लोकतांत्रिक प्रक्रिया के प्रति राजनेताओं की गिरती निष्ठा

ललित गर्गआ म भारतीय लोगों में लोकतंत्र एवं लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति संतुष्टि एवं निष्ठा का स्तर दुनिया के तमाम विकसित देशों से ज्यादा है। मगर लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुनाव प्रक्रिया को संचालित करने में राजनेताओं की निष्ठा का गिरता स्तर घोर चिन्तनीय है। सत्रहवीं लोकसभा के लिये जारी चुनाव अभियान में चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन की बढ़ती घटनाएं एक आदर्श लोकतंत्र को धुंधलाने की कुचेष्टा है। निर्वाचन आयोग की सख्ती के बाद भी बड़बोले नेताओं की बेतुकी, अपमानजनक, अमर्यादित बयानबाजी थमती न दिखना चिंताजनक ..

दिल्ली में नहीं लगी ठगबंधन की गांठ...

शक्तिसिंह परमारभारतीय राजनीति का इंद्रप्रस्थ अर्थात दिल्ली भले ही केंद्र शासित राज्यों में शुमार हो.., लेकिन यहां की सत्ता का रसूख ऐसा है कि - हर कोई दल/नेता इसे अपने पाले में रखना चाहता है...फिलहाल तो 2014 के बाद से ही दिल्ली राज्य की सत्ता और केंद्र की सत्ता के अलग-अलग ध्रुव होने के चलते दोनों में बयानी एवं निर्णय की तलवार हमेशा खिंची रही...दिल्ली की सत्ता का वास्तविक मुखिया कौन..? चुना हुआ मुख्यमंत्री या केंद्र द्वारा बैठाया गया उपराज्यपाल..? इस तू-तू, मैं-मैं के समाधान के लिए न्यायालय की संवैधानिक ..

भारत में पाकिस्तानी प्रवक्ता...

शक्तिसिंह परमारभारत के आम चुनाव में ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है कि- भारत में रहकर भारत की खाने वाले नेता/दल न केवल वोटों की तुष्टिकरण राजनीति को बढ़ावा देने के लिए देश के खिलाफ ही राजनीतिक साजिशों को परवान चढ़ा रहे हैं... बल्कि इसके लिए वे पाकिस्तान के सबसे बड़े हमदर्द बनने की भी होड़ लगा रहे हैं...क्या यह स्वस्थ लोकतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव प्रक्रिया के मान से सही है..? आखिर चुनाव में आप विकास, रोजगार, पिछड़ापन, गरीबी, भुखमरी एवं नीतिगत मुद्दों पर भले ही राजनीतिक बयानबाजी के जरिए एक-दूसरे को ..

समर्पण का अर्थ

प्रेरणादीपनि यत धारणाएं दुख देती हैं, लेकिन जैसे ही मन में समर्पण की धारणा विकसित होगी, जिंदगी में खुशियों के फूल खिलने लगेंगे... समर्पण सिर झुकाकर किया जाता है। जो सिर अकड़कर रहता है, उसको कभी न कभी झुकना ही पड़ता है- लज्जावश! जो मस्तक समर्पण में झुकता है उसे कभी शर्म से नहीं झुकना पड़ता है। ध्यान रखें शर्मीलापन अलग बात है। बच्चे कैसे शर्माते हैं - यह भाव उनमें स्वाभाविक है। शर्म समाज की देन है। जहां एक ओर यह अपराध बोध दर्शाती है, वहीं दूसरी ओर शर्मीलापन हमारे सौंदर्य को बढ़ाता है। हम शर्मीलापन ..

पहला सुख निरोगी काया

धर्मधारारो ग की तीन अवस्थाएं होती हैं - शारीरिक, मानसिक और आत्मिक। जिस अवस्था का रोग होता है, उसके अनुरूप यदि उपचार नहीं किया जाता है तो रोग से मुक्ति सम्भव नहीं होती। आजकल अधिकांश व्यक्ति मानसिक और आत्मिक रोगों को तो रोग मानते ही नहीं, क्योंकि मन की एवं आत्मा की शक्ति का न तो उन्हें सम्पूर्ण ज्ञान होता है और न वे उसको जानने एवं समझने का अपेक्षित प्रयास ही करते हैं। शरीर से मन की शक्ति बहुत ज्यादा होती है। और मन से आत्मा की शक्ति अनन्तगुणी होती है। जब आत्मा पर आये कर्मों के आवरण दूर हो जाते हैं तो ..

पाकिस्तान में भय और संत्रास के बीच अल्पसंख्यक

डॉ.बचन सिंह सिकरवारपा किस्तान के पंजाब प्रान्त से एक 17 वर्षीय युवती का एक दबंग शख्स ने अपहरण कर उसका धर्म परिवर्तन कराके निकाह किये जाने की फिर से खबर आने पर शायद ही किसी को हैरानी हुई होगी, क्योंकि वहाँ तो एक तरह से ऐसी घटनाएँ आए दिन की होकर कर जो रह गई हैं। ऐसा लगता है कि इस मुल्क में सरकार से लेकर मजहबी रहनुमाओं, पुलिस, अदालतें भी तो एक ही मकसद लेकर चल रही हैं। इन सभी का एक ही मकसद है कि किसी भी तरह से गैर मुसलमान को अपने ईमान पर लाना यानी उसे मुसलमान बनाना है, तभी अल्पसंख्यकों की समस्याओं ..

कांग्रेस ने एचएएल को खत्म किया था हमने मेक इन इंडिया से रक्षा उत्पादन बढ़ाया

मुम्बईद्य 22 अप्रैल (वा) महाराष्ट्र में एक रैली प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने एचएएल को खत्म कर दिया था। हमने मेक इन इंडिया के तहत रक्षा उत्पादन बढ़ाया। उन्होंने कहा कि जैसे ही मैं वंशवाद, राष्ट्रीय सुरक्षा की बात करता हूं, तो कुछ लोगों को मानो करंट लग जाता है। आतंकवादी हमलों पर जवाबी कार्रवाई के बारे में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वे (संप्रग) रोते रहे, हमने आतंकवादियों को उनके ठिकानों में घुसकर मारा। इस चौकीदार ने आतंकवादी हमलों पर कांग्रेस नीत सरकार की कायराना नीति को बदल दिया। लोकसभा ..

राफेल पर झूठी बयानबाजी पर राहुल गांधी ने मांगी माफी

नई दिल्ली द्य 22 अप्रैल (वा) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मामले पर उच्चतम न्यायालय में चल रही कार्रवाई का हवाला देकर दिए गए अपने बयान पर सोमवार को एक हलफनामा दाखिल करके खेद जताया और कहा कि वह भविष्य में इस तरह के बयान देने से गुरेज करेंगे। श्री गांधी ने उच्चतम न्यायालय की ओर से जारी नोटिस का हलफनामे के जरिए दिए अपने जवाब में कहा कि उनके बयान का राजनीतिक विरोधियों ने गलत इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि चुनावी सरगर्मी के दौरान अदालती कार्रवाई को लेकर गलत बयान दिया था, जिस पर उन्हें खेद ..

साध्वी प्रज्ञासिंह ठाकुर ने जमा किया नामांकन-पत्र

भोपाल द्य 22 अप्रैल (वा)मध्यप्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी प्रज्ञासिंह ठाकुर ने आज यहां अपना नामांकन-पत्र जमा कर दिया।भाजपा प्रत्याशी सुश्री ठाकुर दोपहर लगभग साढ़े बारह बजे यहां जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय पहुंची और जिला निर्वाचन अधिकारी सुदाम खाड़े के समक्ष नामांकन-पत्र पेश किया। जिला कलेक्टर कार्यालय के आसपास उनके कुछ समर्थक भी जुटे थे। नामांकन-पत्र दाखिले के समय भोपाल के वर्तमान सांसद आलोक संजर और पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता भी मौजूद थे। पार्टी सूत्रों के अनुसार ..

ऊंचाई का सूत्र

प्रेरणादीपए क महान दार्शनिक अपने शिष्य के साथ वटवृक्ष के नीचे बैठा हुआ था। शिष्य ने वृक्ष को देखकर कहा - गुरुदेव! यह वृक्ष भी कितना पक्षपाती है। सभी डालियों के साथ उसे एक समान व्यवहार करना चाहिए। नीचे वाली डालियां कितनी मोटी हैं, पर ज्यों-ज्यों डाली ऊपर गई है, कितनी पतली हो गई। वृक्ष को चाहिए कि सभी को समान पोषक तत्व प्रदान करे। दार्शनिक ने चिंतन के सागर में डुबकी लगाई व कहा- वत्स! तुम इसका रहस्य नहीं जानते। जड़, जो पोषक तत्व है, उसे अपने पास एकत्रित करती है। वहीं से शाखाएं ग्रहण करती हैं। जिन शाखाओं ..

ईश्वर की अनुभूति का मार्ग है ध्यान

धर्मधाराज ब कभी आप किसी भौतिक वस्तु से मोहित हो जाएं तो अपनी आंखों को बंद करें, अंतर में देखें और इसके स्त्रोत का चिंतन करें। आप कुछ नहीं देख पाते और न ही कुछ अनुभव कर पाते हैं। फिर भी समस्त दृश्यमान वस्तुएं उस अदृश्य से प्रकट हुई हैं। आकाश दो भागों अथवा रूपों में विभाजित है। एक तरफ सृष्टि है तथा दूसरी ओर केवल ईश्वर है, सृष्टि का पूर्णरूप से अभाव है। यही 'अंधकाररहित अंधकारÓ और 'प्रकाशरहित प्रकाशÓ का संसार है। गीता में भगवान कहते हैं - 'जहां न कोई सूर्य, न चंद्रमा और न अग्नि प्रकाशित है, ..

हिन्दू विरोधी साजिश का प्रमाण हैं साध्वी प्रज्ञा

जयकृष्ण गौड़ सा ध्वी प्रज्ञा भारती के राजनीति में प्रवेश से जो धमाका हुआ, उससे न केवल भोपाल के कांग्रेस प्रत्याशी भयभीत हैं वरन् देश की राजनीति में खलबली मची हुई है। चुनावी युद्ध की इस सच्चाई को नकारा नहीं जा सकता कि ध्रुवीकरण रणनीति के आधार पर होता..

मुंबई जैसी हैवानियत की पुनरावृत्ति...

शक्तिसिंह परमारभारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में 12 मार्च 1993 को 12 स्थानों पर हुए सिलसिलेवार बम धमाकों और 2008 में मुंबई में ही 26/11 के आतंकवादी हमलों के उस रक्तरंजित हैवानियत की पराकाष्ठा की पुनरावृत्ति भारत के पड़ोसी श्रीलंका में रविवार 21 मार्च 2019 को ईस्टर के खुशनुमा माहौल में मातम पसार गई...श्रीलंका की राजधानी कोलंबो, नेगोंबो और बट्टिकलोवा शहरों में तीन चर्च, तीन होटल के साथ 8 स्थानों पर 300 से अधिक शव के क्षत-विक्षत रूप में टुकड़े चर्च, होटल और सड़कों पर बिखरे पड़े थे...तीनों शहरों में हाहाकार ..

प्रेरणादीप

जीवन का अर्थभ गवान बुद्ध एक रात प्रवचन दे रहे थे। एक शिष्य बार-बार नींद के झोंके ले रहा था। तथागत ने उस ऊंघते हुए शिष्य से पूछा वत्स! सो रहे हो? शिष्य हड़बड़ाकर बोला, नहीं भगवन। प्रवचन शुरू हुआ, फिरवह शिष्य ऊंघने लगा। भगवान बुद्ध ने उसे तीन-चार बार जगाया। परन्तु वह हर बार नहीं भगवन्, कहकर फिर सो जाता। अंतिम बार तथागत पूछ बैठे, वत्स! जीवित हो? शिष्य ने हर बार की तरह कहा, नहीं भगवन्। सारे श्रोता हँस पड़े। बुद्ध भी मुस्कराए, फिर गंभीर होकर बोले - वत्स निद्रा में तुमसे सही उत्तर निकल गया है। वास्तव में ..

समर्पण में अहंकार का विगलन जरूरी

धर्मधाराभ क्तशिरोमणि तुलसीदास ने समर्पण के लिए अहंकार के विलय को ही अनिवार्य साधन के रूप में स्वीकार किया है। लंकादहन के बाद जब हनुमान श्री प्रभु के सम्मुख उपस्थित होते हैं तो भक्त और भगवान के बीच बड़ा सरस और मार्मिक संवाद होता है, जिसके विषय में तुलसी ने कहा है कि इस संवाद के मर्म को समझने वाले साधकों को राम के चरणों की भक्ति प्राप्त होती है -यह संवाद जासु उर आवारघुपति चरन भगति सोइ पावा।।(सुंदरकाण्ड 33/4)हनुमान जी को हृदय से लगाकर भगवान ने उन्हें परम निकट बैठाकर पूछा कि तुमने रावण की लंका कैसे जलाई? ..

सैन्य अधिकारियों के नाम पर कांग्रेस की कुटिल चाल

अवधेश कुमारघ टनाक्रम पर ध्यान दीजिए। कांग्रेस मुख्यालय पर पार्टी प्रवक्ता ने पत्रकार वार्ता बुलाकर बताया कि 156 पूर्व सैन्य अधिकारियों ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर अपील की है कि सेना के राजनीतिकरण को रोका जाए। कांग्रेस के नेता उस पत्र की कॉपी लेकर चुनाव आयोग के पास पहुच गए। बाहर आकर बयान दिया कि भाजपा सेना का वोट के लिए राजनीतिक इस्तेमाल कर रही है जिससे पूर्व सैन्य अधिकारी नाराज हैं। अगर वाकई सेना के पूर्व अधिकारियों ने मिल-बैठकर ऐसा पत्र लिखने का निर्णय किया तो वे खुद राष्ट्रपति से समय मांग कर मिल ..

राहुल गांधी या राउल विंसी..?

शक्तिसिंह परमारभारतीय राजनीति में सोनिया गांधी, राहुल गांधी का राजनीतिक चरित्र तो हमेशा ही एक विवादास्पद पहेली रहा है...क्योंकि मतों/मतदाताओं को लुभाने के लिए जिस तरह के निर्णय कांग्रेस पार्टी के मंच पर होते रहे हैं या फिर कांग्रेस सरकार के समय हुए हैं..,इसकी बानगी के लिए एक-दो उदाहरण ही पर्याप्त हैं...कांग्रेसनीत संप्रग-1, 2 के कार्यकाल में सोनिया सरकार द्वारा मुस्लिमों के लिए सच्चर कमेटी बनाना, रामसेतु व श्रीराम का काल्पनिक होने का हलफनामा देना और देश के संसाधनों पर पहला हक मुस्लिमों का बताना...वहीं ..

खादी के सम्मान की वापसी...

शक्तिसिंह परमारभारतीय राजनीति में नेताओं एवं राष्ट्र नेतृत्वकर्ताओं के विचारों-कार्यों, त्याग-समर्पण एवं बलिदान ने ही जग प्रसिद्धि नहीं पाई है..,बल्कि अपने रहन-सहन, खान-पान एवं पहनावे को भी बदलाव एवं क्रांति के हथियार के रूप में सफलतापूर्वक उपयोग किया था...यानी भाषा, वेशभूषा भी कई बार कुछ कर गुजरने और बदलाव का द्योतक बन जाती है...इसे खादी के संदर्भ में समझना होगा...पहला : महात्मा गांधी ने नमक कानून तोड़कर, चरखा चलाकर स्वयं निर्मित वों एवं खादी को बढ़ावा देकर अंग्रेजों की चूलें हिला दी थीं...आजादी ..

दो चरण के मतदान ने 'स्पीड ब्रेकर दीदीÓ की नींद पर 'ब्रेकÓ लगा दिया

बुनियादपुर द्य 20 अप्रैल (वा)प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि शुरुआती दो चरण के मतदान के बाद 'स्पीड ब्रेकर दीदीÓ (ममता बनर्जी) की नींद उड़ गई है और 23 मई को लोकसभा चुनावों के परिणाम आने के बाद उन्हें पता चल जाएगा कि लोगों के पैसे लूटने और उनका विकास रोकने का परिणाम क्या होता है। श्री मोदी ने 17वीं लोकसभा के लिए तीसरे चरण के मतदान से पहले यहां एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा- मैं यहां के लोगों की जबरदस्त प्रतिक्रिया से अभिभूत हूं। शुरुआती दो चरण के मतदान ने 'स्पीड ब्रेकर दीदीÓ ..

साध्वी प्रज्ञासिंह ठाकुर को कलेक्टर भोपाल का नोटिस

भोपाल द्य 20 अप्रैल (वा)महाराष्ट्र पुलिस के वरिष्ठ एवं शहीद पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे को लेकर दिए गए बयान के सिलसिले में भोपाल कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने भोपाल संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को आज नोटिस जारी कर जवाब-तलब किया है।सुश्री ठाकुर से एक दिन में नोटिस का जवाब देने के लिए कहा गया है। इसमें मुख्य रूप से श्री करकरे को लेकर दिए गए बयान के बारे में स्थिति स्पष्ट करने की बात कही गई है। सूत्रों ने कहा कि जवाब मिलने के बाद आगे की विधिवत कार्रवाई की जाएगी। वहीं ..

आईएसआईएस मॉड्यूल : एनआईए ने हैदराबाद- वर्धा में मारे छापे, 4 संदिग्धों को हिरासत में लिया

हैदराबाद/मुंबई द्य 20 अप्रैल (वा)राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आईएसआईएस मॉड्यूल से जुड़े एक मामले में शनिवार को यहां तीन स्थानों और महाराष्ट्र में वर्धा में छापे मारे और चार संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया। एजेंसी ने यह जानकारी दी। विश्वस्त सूचना के आधार पर एनआईए ने 2016 के अबूधाबी मॉडयूल मामले की जांच के तहत छापा मारा और चार संदिग्धों के पास से कई डिजिटल उपकरण व अन्य दस्तावेज जब्त किये। इन लोगों से पूछताछ की जा रही है। एजेंसी ने एक प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी दी है। विज्ञप्ति ..

समाधान की सीख

प्रेरणादीपरा यगढ़ के राजा धीरज के अनेक शत्रु हो गए। एक रात शत्रुओं ने पहरेदारों को अपने साथ मिला लिया और महल में जाकर राजा को दवा सुंघाकर बेहोश कर दिया। इसके बाद उन्होंने राजा के हाथ-पाँव बाँधकर एक पहाड़ की गुफा में ले जाकर उन्हें बंद कर दिया। राजा को जब होश आया, तो वे अपनी दशा देखकर घबरा उठे। उस अँधेरी गुफा में उनसे कुछ करते-धरते न बना। तभी उन्हें अपनी माँ का बताया हुआ एक सिद्धांत याद आया-किसी भी परिस्थिति में घबराए बगैर कुछ करने का प्रयत्न करना चाहिए। राजा की निराशा दूर हो गई और उन्होंने पूरी शक्ति ..

मनुष्य की चेतना के परिष्कार का नाम अध्यात्म

धर्मधाराजि नके पास आध्यात्मिक क्षमता होती है, क्या उनके जीवन सुखी हो जाते हैं? युवक के मन में उभरी जिज्ञासा, प्रश्न बनकर प्रकट हुई। 'सुख तो बहुत सतही चीज है, जिसका अध्यात्म से ताल्लुक नहीं। अध्यात्म अपनी चेतना के परिष्कार का नाम है, अपने चित्त की शुद्धि का नाम है और जिनके जीवन में आध्यात्मिक उन्नति होती है, उन्हें सुख नहीं शांति मिलती है, साधन नहीं संतुष्टि मिलती है।Ó स्वामी शंकर की प्रखर वाणी ये सब कुछ कहे जा रही थी कि युवक के मन में सवाल उठा- 'ऐसे व्यक्तियों के क्या लक्षण होते होंगे, उन्हें ..

सत्ता की लिप्सा में स्मृति भ्रम का शिकार होती कांग्रेस

अवधेश कुमारकां ग्रेस के घोषणा-पत्र के कुछ अंशों पर देश में जिस तरह की सघन बहस चल रही है वह स्वाभाविक है। वस्तुत: उसमें देश की सुरक्षा, उनसे संबंधित कानूनों एवं कश्मीर के बारे में जो वायदे किए गए हैं उनको पूरा पढऩे के बाद किसी दल निरपेक्ष व्यक्ति के अंदर चिंता का भाव पैदा हो जाएगा। ऐसा लगता ही नहीं कि यह उस पार्टी का घोषणा-पत्र है, जिसने देश पर सबसे ज्यादा समय तक शासन किया, जिसके काल में पहले नक्सलवाद फिर माओवाद पैदा हुआ, पूर्वोत्तर, पंजाब एवं जम्मू कश्मीर का आतंकवाद आरंभ हुआ और इन सबसे उसे लडऩा पड़ा। ..

तमिलनाडु व बंगाल की कलंक कथा...

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र के लिए चुनाव में धनबल-बाहुबल का दुरुपयोग किसी कलंक से कम नहीं है...क्योंकि इसके जरिए अनेक बार पात्र के बजाय अपात्र व्यक्ति जनप्रतिनिधि बनकर देश की सर्वोच्च पंचायत 'संसदÓ एवं विधानसभाओं को भी अपवित्र करने का काम ही करते रहे हैं...क्योंकि जब धनबल-बाहुबल से जीता गया चुनाव और वहां से निकला सांसद-विधायक बाद में भी अपने उसी नापाक खुराफाती खेल की तिकड़में सदन व सदन के बाहर भिड़ाता नजर आएगा...और कई बार नजर भी आए हैं...लेकिन चुनाव को साजिशों, षड्यंंत्रों या कहें वोट बैंक ..

बोध

प्रेरणादीपआ चार्य पिप्पलाद छात्रों को ज्ञानविज्ञान के अनेक विषय पढ़ाते, वहाँ साथ-साथ यह भी कहते कि 'ईश्वर के सान्निध्य से ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। छात्रों में अधिक तार्किक थे-आश्वलायन। उन्होंने जिज्ञासा प्रस्तुत की-देव! ईश्वर की निकटता से शांति मिले इतना तो समझ में आता है, पर ऐश्वर्य मिले इसका क्या तुक? आचार्य ने समयानुसार उत्तर देने की बात कहकर प्रसंग टाल दिया। शिक्षण सत्र समाप्त हुआ। पुराने छात्रों की विदाई और नए छात्रों की भर्ती का क्रम चल रहा था। पुराने छात्रों में राजकुमार सुतीक्ष्ण भी थे। ..

संकीर्णता सत्यस्वरूप की अनुभूति में बाधक

ए क बोध कथा है-कूपमंडूक की या कुएँ में रहने वाले मेंढक की। एक छोटे से कुएँ में उसका निवास था। उससे बाहर की दुनिया उसने देखी न थी और उसके विस्तार का उसे कोई अनुभव भी न था। उसी कुएँ की अपनी नन्ही-सी दुनिया में वह मस्त था कि एक दिन एक हंस कुएँ की मुँडेर पर आकर बैठा। मेंढक ने उससे बातें करनी शुरू की तो हंस ने उसे बाहर की दुनिया का बड़ा विस्तृत विवरण दिया। उसे सुनकर मेंढक को बड़ा अचरज हुआ। अपने मन में उसे लगा कि ये बातें काल्पनिक हैं, दुनिया तो इस कुएँ के अतिरिक्त और कुछ भी नहीं।उसने अपनी आशंका हंस से ..

अपने गौरवशाली अतीत से मुक्त होती कांग्रेस

प्रवीण गुगनानीस्व तंत्रता के बाद कांग्रेस का वैचारिक आधार दरकने लगा और इसने अपना कोई वैचारिक स्त्रोत संगठन बनाने का प्रयास ही नहीं किया। शनै: शनै: कांग्रेस ने वामपंथियों को अपना गुरु मानना प्रारंभ किया और बहुत शीघ्र ही उसने स्वयं को वामपंथ का वैचारिक पुत्र या मानस पुत्र ही मान लिया। कांग्रेस की नीति, रीति, चाल चलन, हाव भाव, अभिव्यक्ति सभी कुछ पर कम्युनिस्टों ने बड़ी चतुराई से अपना कब्जा जमा लिया और उसका डीएनए ही बदल दिया। आज की कांग्रेस स्वतंत्रता पूर्व की कांग्रेस से आमूल चूल अलग होकर शत प्रतिशत ..

आयोग की 'बेबसी' और बयानी तालाबंदी...

शक्तिसिंह परमारभारत में निर्वाचन आयोग को लोकतंत्र के सबसे बड़े राष्ट्रीय उत्सव 'चुनावÓ का मुख्य पुरोहित माना गया है...लेकिन क्या उस मुख्य पुरोहित के दिशा-निर्देशों के अनुरूप हमारे नेता/दल अपनी बयानी समिधा लोकतंत्र की वेदी में डालने को प्रतिबद्ध हैं..? क्योंकि किसी भी तरह के अनुष्ठान में नियमों-निर्देशों का पालन अतिआवश्यक है...जब विचाररूपी समिधा अर्थात् चुनावी सभा, रैली में नेता के भाषण अथवा संवादशैली जनता को मतदान के लिए वैचारिक रूप से प्रेरित करने के बजाय उद्वेलित, आक्रोशित करने वाली या फिर ..

ओलावृष्टि के साथ आंधी-तूफान से पेड़ गिरे, ६ की मौत

भोपाल द्य 16 अप्रैल (वा) राजधानी भोपाल सहित मध्यप्रदेश में आज भी कई स्थानों पर तेज हवाएं चलने और गरज चमक के साथ हल्की-तेज बारिश होने से मंडियों व खलिहानों में रखा गेहूं व अन्य अनाज गिला हो गया। तेज हवाओं के बीच अनेक स्थानों पर हरे वृक्ष धराशाही हो गए, जबकि शाजापुर, मंदसौर, अलीराजपुर व अन्य स्थानों पर मौसमी चने के अकार के ओले भी गिरे। उधर बिजली गिरने से रतलाम में २, शाजापुर में १ एवं इन्दौर में ३ लोगों की मौत होने की जानकारी है। इंदौर जिले के हातोद थाना क्षेत्र के निवाड़ी गांव में बिजली गिरने से मंगलवार ..

कांग्रेस नक्सलियों ही नहीं, देश के टुकड़े-टुकड़े करने वालों के भी साथ

कोरबा द्य 16 अप्रैल (वा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पर नक्सलियों से सहानुभूति रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस का पंजा नक्सलियों ही नहीं बल्कि देश के टुकड़े-टुकड़े करने वालों के भी साथ है। श्री मोदी ने आज यहां राज्य के दंतेवाड़ा में पिछले सप्ताह नक्सल हमले में मारे गए भाजपा विधायक भीमा मंडावी एवं सुरक्षा बलों के चार जवानों को श्रध्दाजंलि अर्पित करने के साथ शुरू किए अपने सम्बोधन में कहा कि यह हमला उस क्षेत्र में हुआ जहां नक्सलियों का प्रभाव काफी कम कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि ..

पश्चिम बंगाल को राजनीतिक आतंक से मुक्ति की दरकार

मंगलवार द्य 16 अप्रैल। सभी बंगाली बंधु और बहनों को शुभो नोबो बोरसो। नववर्ष बंगाल के लोगों के लिए लोकतंत्र की खुली बयार लेकर आए। बंगाल के लोग नववर्ष में खुली हवा में सांस लें। उक्त शुभकामनाएँ पश्चिम बंगाल में प्रभारी एवं भाजपा के महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय ने प्रेषित की है। श्री विजयवर्गीय ने कहा कि बंगाल के लिए नववर्ष नई-नई खुशियां लाएं। पिछले कुछ वर्षों से राज्य में रुकी हुई विकास की गति में तेजी जाए। भ्रष्टाचार कम हो और लोगों को राहत मिले। ऐसी शुभकामनाओं के साथ नववर्ष का स्वागत करते हैं, अभिनंदन ..

लोस में २०१४ के परिणाम दोहराएंगे मप्र में हम

मंगलवार द्य 16 अप्रैल - शैलेन्द्रसिंह पंवारभाजपा के पक्ष में 2014 जैसा ही माहौल है कई कांग्रेसी भी दबी जुबान से स्वीकार रहे है कि केन्द्र में फिर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने जा रही है, इसलिए हमें उम्मीद ही नहीं पूरा विश्वास है कि मप्र में भाजपा 2014 जैसा प्रदर्शन फिर से दोहराने जा रही है। यह बात स्वदेश से चर्चा करते हुए भाजपा के तेजतर्रार नेता व मप्र विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कही। पेश है उनसे बातचीत के मुख्य अंश-ठ्ठ सत्ता विरोधी रूझान नहीं दिख रहा है, पर ..

मोदीजी का नहीं, 130 करोड़ भारतीयों का अपमान कर रही कांग्रेस- शिवराज

हलोल द्य 16 अप्रैल (वा)एक तरफ सारा देश मोदी-मोदी की धून पर नाच रहा है, लेकिन कांग्रेस और विपक्षी नेताओं को यह पसंद नहीं है। इनको लगता है कि चौकीदार इनको जेल भेज कर ही दम लेगा। इसलिए ये मोदीजी पर घिनौने आरोप लगाते हैं। चौकीदार का अपमान करते हैं। इनके संस्कार ऐसे ही हैं। सपा के एक नेता तो मां-बहनों का भी अपमान करते हैं। लेकिन ये अकेले नरेंद्र मोदी का अपमान नहीं है। ये 6 करोड़ गुजरातियों और 130 करोड़ भारतीयों का अपमान है, जिसे कांग्रेस को याद रखना चाहिए। यह बात मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा ..

तप और योग

प्रेरणादीपभू लोक पर की गई कड़ी तपस्या द्वारा अर्जित तप-ऊर्जा को लिए देवगण खुशी-खुशी देवलोक को प्रस्थान कर ही रहे थे कि मार्ग में अवस्थित ऋषि के आकस्मिक दर्शन हुए। अभिवादनस्वरूप चरण वंदन कर स्वयं के कठोर तप संबंधी साहसिकता का संपूर्ण विवरण देवों ने उनसे कह सुनाया एवं प्रत्युत्तर में किसी सकारात्मक संकेत की प्रतीक्षा में उन्हें देखने लगे।ऋषि मुस्कराए एवं देवों से उनके तप का प्रयोजन पूछा। ऋषि के समक्ष भोगरूपी मूल प्रयोजन के उजागर का दुस्साहस देवगण न कर सके एवं असमंजस भरी निगाहों से बगलें झंकने लगे। ऋषि ..

ईश्वर के प्रति श्रद्धा व समर्पण का भाव है भक्ति योग

ई श्वर प्राप्ति के यों तो अनेकों मार्ग हैं, पर उन सभी में भक्ति का मार्ग अवश्य ही अधिक सरल, सुगम व स्वाभाविक है। अमीर, गरीब, मूर्ख, विद्वान, बाल, वृद्ध, स्त्री, पुरुष आदि सबके लिए यह समान रूप से सहज, सुगम व सरल है। प्रेमयोग, समर्पणयोग, उपासनायोग आदि भक्तियोग के ही विविध नाम हैं। भक्ति, भज्, शब्द से बना है, जिसका अर्थ है ईश्वर सेवा। इस तरह से भक्ति का अर्थ स्वयं का ईश्वर के प्रति पूर्ण समर्पण है। जीवात्मा का परमात्मा में संपूर्ण समर्पण, विसर्जन व विलय ही भक्ति है। यही भक्तियोग है। जगत में जो सबसे महान ..

मोदी को ही देना होगा सेना की विजय का श्रेय

जयकृष्ण गौड़चु नाव में जनता को प्रभावित करने के झूठे-सच्चे मुद्दे उछाले जाते हैं। यह चुनाव इसलिए महत्व का है कि कांग्रेस अपने अस्तित्व को बचाने के लिए लड़ रही है और भाजपा देश के लिए चुनाव लड़ रही है। विकास के लिए लड़ा जाने वाला चुनाव अब सुरक्षा के सवाल पर आ गया है। मीडिया भी अपनी टीआरपी बढ़ाने में लगा हुआ है। सेना के पूर्व अधिकारियों के नाम एक फर्जी पत्र जारी हुआ, यह सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। 24 घंटे सोशल मीडिया पर अधिकांश बिना पुष्टि के समाचार छाए रहते हैं। राफेल लड़ाकू विमान खरीदी के मामले को ..

पश्चिम बंगाल में 'गंभीर' के मायने...

शक्तिसिंह परमारभारतीय जनता पार्टी की लोकसभा चुनाव को लेकर पश्चिम बंगाल में तैयार की गई रणनीति ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की नेत्री ममता बनर्जी की नींद उड़ा रखी है...संभवत: साढ़े तीन दशक के कम्युनिस्टों के हिंसक रक्तपात वाला कालखंड और अब करीब एक दशक का ममता का तुष्टिकरण की पराकाष्ठा पार करने वाला अराजक राज पहली बार अपने ही बुने जाल में उलझता नजर आ रहा है...इस उलझन को ममता तुष्टिकरण के दांव-पेंचों से जितना सुलझाने का प्रयास कर रही हैं, उतना ही उसमें उलझती चली जा रही हैं...हो भी क्यों नहीं, क्योंकि ..

हिन्दुत्व के सन्निकट महात्मा गांधी के विचार और दर्शन

डॉ. मनमोहन वैद्यचु नाव का शंख बज चुका है। सभी दल अपनी-अपनी संस्कृति और परम्परा के अनुसार चुनावी भाषण भी दे रहे है। एक दल के नेता ने कहा कि इस चुनाव में आपको गांधी या गोडसे के बीच चुनाव करना है। एक बात मैंने देखी है। जो गांधी जी के असली अनुयायी है वे अपने आचरण पर अधिक ध्यान देते है, वे कभी गोडसे का नाम तक नहीं लेते है। संघ में भी गांधी जी की चर्चा तो अनेक बार होती देखी है पर गोडसे के नाम की चर्चा मैंने कभी नहीं सुनी है। परंतु अपने राजनैतिक स्वार्थ के लिए गांधी जी के नाम को भुनाने के लिए, ऐसे-ऐसे लोग ..

चुनावी चंदे पर नियमों का पहरा..!

शक्तिसिंह परमारभारतीय लोकतंत्र में क्या अब राजनीतिक चंदे की परिभाषा ही बदल जाएगी..? क्या यह बदला हुआ स्वरूप यानी चुनावी चंदे का 'चुनावी बांडÓ रूप फिलहाल तो शुचिता-पारदर्शिता का पैमाना तय करने की हसरतें दिखा रहा है...सरकार, न्यायालय और दानदाताओं का समीकरण इसे किस परिणिती तक पहुंचाया गया..? देखने लायक रहेगा..! इस विषय में सवाल-जवाब के रूप में इतना तो कहा जा सकता है कि कांग्रेस एवं कम्युनिस्टों ने हमेशा ही राजनीतिक चंदे का लंबा गोरखधंधा चलाया है...कांग्रेस जहां उद्योगपतियों, व्यापारियों से चुनावी ..

क्रिया की प्रतिशोध प्रतिक्रिया...

शक्तिसिंह परमारभारतीय राजनीति की यह विडंबना ही है कि जब चुनावी दौर चल रहा होता है, तब हर तरह की राजनीतिक गतिविधियों को ही चुनावी चाशनी में डूबा मानकर विश्लेषण नहीं होता..,बल्कि संवैधानिक, प्रशासनिक एवं न्यायिक नीति-निर्णय-आदेश अथवा गतिविधियों को सियासी चश्मे से देखने का दृष्टिदोष कम से कम राजनेताओं में आज भी विद्यमान है...और इसके बाद जब पूरे मामले/मुद्दे से ध्यान भटकाने की होड़ लगाई जाती है.., तब मूल बात से परे उस पर बिना सिर-पैर की बयानबाजी या कहें कि किसी भी तरह की क्रिया के विपरीत प्रतिशोध (बदले) ..

विचारों की लहरों के साथ उपजती है जिज्ञासा

जिज्ञासा का अर्थ है-जानने की इच्छा। यह मानव की सहज प्रवृत्ति है। मनुष्य सदैव ही क्या, कौन, कैसे के उत्तर खोजने में लगा रहता है। आज जितने भी आविष्कार हम देखते हैं, वे सब जिज्ञासा की ही परिणति हैं। यह जिज्ञासा विचारों की लहरों के साथ उपजती है। जीवन की प्रत्येक घटना जो मन को स्पंदित करती है, अनायास ही नए प्रश्नों व जिज्ञासाओं को जन्म देती है। इसी तरह परिस्थितियों व परिवेश की हलचलें जो विचार व भाव में लहरें पैदा करने में समर्थ हैं, स्वाभाविक ही अंतश्चेतना में जिज्ञासा को भी जन्म देती हैं। यह क्रम कभी ..

कांग्रेस के पाप का दुष्परिणाम भोगता देश

अरूण कुमार सिंहसत्ता के लिए 'हिन्दू आतंकवादÓ या 'भगवा आतंकवादÓ के नाम पर कांग्रेस ने जो कुकर्म किया था, उसकी सच्चाई अब दुनिया के सामने आ चुकी है। जिन हिन्दुओं को 'आतंकवादीÓ कहकर जेल में डाल दिया गया था, वे जमानत पर बाहर आ चुके हैं। कुछ लोग बरी भी हो चुके हैं। बरी होने वालों में सबसे चर्चित नाम है स्वामी असीमानंद का। वही असीमानंद, जो गिरफ्तारी से पहले गुजरात के वनवासी बहुल डांग जिले में नि:स्वार्थ रूप से वनवासियों की सेवा करते थे। उन दिनों उनके पास वनवासी कल्याण आश्रम में अखिल भारतीय ..

जीत गया लोकतंत्र

लोकसभा चुनाव 2019 का पहला चरण समाप्त हो गया है। चुनाव लोकतंत्र का उत्सव होता है, जिस तरह लोकतंत्र की परिभाषा को जनता के लिए, जनता के द्वारा और जनता का लोकतंत्र कहते है, जनता लोकतंत्र के केंद्र में होती है। चुनाव के दौरान आरोप-प्रत्यारोपों में भी सभी जनहित..

आतंकी हमले में घायल चंद्रकांतजी का निधन

जम्मू द्य 9 अप्रैलकिश्तवाड़ में आतंकी हमले में गंभीर रूप से घायल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जम्मू-कश्मीर के प्रांत सहसेवा प्रमुख चंद्रकांत शर्मा का निधन हो गया। किश्तवाड़ जिला अस्पताल में चिकित्सा सहायक के पद पर कार्यरत चंद्रकांत शर्मा पर मंगलवार को अस्पताल परिसर में ही आतंकियों ने हमला कर दिया था। जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे।चन्द्रकांतजी बाल्यकाल से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जुड़े थे। जिला, विभाग कार्यवाह सहित विभिन्न दायित्वों का निर्वहन करते हुए वर्तमान में प्रांत सहसेवा प्रमुख थे। उन्होंने ..

पहली बार मतदान करने वाले देश और मजबूत सरकार बनाने के लिए करें वोट

लातूर/चित्रदुर्ग द्य 9 अप्रैल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार मतदान करने वाले मतदाताओं से कहा है कि क्या आपका पहला वोट पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई कार्रवाई करने वाले वीर जवानों के लिए समर्पित हो सकता है?लातूर में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए श्री मोदी ने मंगलवार को कहा मैं पहली बार मतदान करने वाले युवाओं से कहना चाहता हूं कि क्या आपका पहला वोट पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक करने वाले वीर जवानों के लिए समर्पित हो सकता है? क्या आपका पहला ..

२० राज्यों की ९१ सीटोंके लिए मतदान कल

नई दिल्ली द्य 9 अप्रैल (वा)लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिये 11 अप्रैल को होने वाले मतदान के लिये चुनाव प्रचार मंगलवार शाम को थम गया। पहले चरण में 20 राज्यों की 91 लोकसभा सीटों के लिये मतदान होगा। चुनाव आयोग द्वारा पहले चरण के मतदान के लिये 18 मार्च को अधिसूचना जारी होने के बाद प्रचार अभियान जोर शोर से शुरु हो गया था। आयोग ने 17वीं लोकसभा के गठन के लिये सात चरण में होने वाले चुनाव का कार्यक्रम दस मार्च को घोषित किया था। चुनाव आयोग के अनुसार पहले चरण के लिये आठ अप्रैल तक चुनाव मैदान में कुल उम्मीदवारों ..

भाजपा विधायक मंडावी सहित 5 सुरक्षाकर्मी शहीद

दंतेवाड़ा द्य 9 अप्रैल (वा) छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों द्वारा किए गए बारूदी सुरंग विस्फोट से विधायक भीमा मंडावी एवं चार सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए।दंतेवाड़ा के भाजपा विधायक भीमा मंडावी बस्तर संसदीय सीट पर प्रचार के अन्तिम दिन बचेली में सभा लेने के बाद शाम लगभग चार बजे नकुलनार वापस जा रहे थे कि रास्ते में कुंआकोड़ा से चार किलोमीटर दूर नक्सलियों ने बारूदी सुरंग विस्फोट कर उनके वाहन को उड़ा दिया। यह विस्फोट इतना भयंकर था कि विधायक के वाहन के परखच्चे उड़ गए। सूत्रों ने बताया कि इस विस्फोट ..

indore

इंदौर ठ्ठ स्वदेश समाचाररंगपंचमी पर्व पर सोमवार को पूरा शहर रंगों, गुलाल, फूलों और पानी की बौछारों से सतरंगी हो गया। सुबह से निकली गेर और फाग यात्राओं में नगरवासियों की भारी भीड़ उमड़़ी। दोपहर बाद तक रंग-गुलाल उड़ते रहे।रंगपंचमी पर निकली परंपरागत गेर ने सबको अपना कर दिया। कोई भी रंगों के इस त्योहार में 'गैरÓ नहीं रहा। हजारों लोग इनमें शामिल हुए। राजबाड़ा पर अलग ही नजारा था। मिसाइलों और तोपों से रंग-गुलाल और फूलों की बरसात होती रही। शहर में गेर की परंपरा 72 वर्षों से चली आ रही है। टोरी कार्नर, ..

कांग्रेस आतंकवाद की संरक्षक भाजपा खिलाती है गोली-योगी

मथुरा ठ्ठ 25 मार्च (वा) कांग्रेस को तबाही की संज्ञा से नवाजते हुए उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस आतंकवादियों को संरक्षण देती है, जबकि भाजपा सरकार उन्हे बिरयानी की बजाय गोली खिलाती है।मथुरा में विजय संकल्प सभा को संबोधित करते हुए श्री योगी ने सोमवार को कहा कि देश में तबाही का नाम कांग्रेस है, इस तबाही को मत आने दीजिए। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी किसानों से कहते हैं कि वे खेत में टाइल्स लगा देंगे। वास्तव में कांग्रेस हमारे अन्नदाता को तबाह करने में जुटी है। कांग्रेस ..

लादेन को मारने वाला 'चिनूकÓ वायुसेना में शामिल

नई दिल्ली ठ्ठ 25 मार्च (वा)अमेरिका से खरीदे गए 'चिनूकÓ हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना में शामिल कर लिए गए हैं। वायुसेना प्रमुख बी. एस. धनोआ ने कहा कि इन हेलीकॉप्टरों और इसी साल शामिल होने जा रहे लड़ाकू विमान राफेल से वायुसेना को मजबूती मिलेगी। वायुसेना ..

हर कोई चाहता है मोदी को हराना लेकिन चुनाव लडऩा नहीं चाहता

आगरा ठ्ठ 24 मार्च (वा)भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को उत्तरप्रदेश के आगरा में पार्टी की विजय संकल्प सभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम लिए बगैर उन पर निशाना साधा।श्री शाह ने कहा कि किसी को जनता सिर्फ इसलिए वोट नहीं दे सकती कि उसकी प्रधानमंत्री बनने की उम्र निकली जा रही है या उसे प्रधानमंत्री बनने का शौक है। शाह ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि हर कोई पीएम मोदी को हराना चाहता है लेकिन कोई भी चुनाव लडऩा नहीं चाहता है। यहां उनका इशारा मायावती, ममता बैनर्जी और ..

किसानों पर अत्याचार देश पर अत्याचार है - राहुल

नई दिल्ली ठ्ठ 24 मार्च (वा)कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर किसानों की उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि किसानों का निरादर करने वाला कभी देशभक्त नहीं हो सकता। श्री गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए अपने फेसबुक पेज पर लिखा- आपकी असफलता आपकी है। उसकी सजा आप किसानों को क्यों दे रहे हैं। हमारे किसान हमें जीवन देते हैं। उन पर किया गया अत्याचार देश पर किया गया अत्याचार है। भारत के किसानों का निरादर करने वाला कभी देशभक्त नहीं हो सकता। इससे पहले पार्टी की वरिष्ठ ..

पाकिस्तान में 2 हिन्दू किशोरियों को जबरन मुसलमान बनाया

इस्लामाबाद ठ्ठ 24 मार्च (वा)पाकिस्तान में दो हिंदू किशोरी बहनों को जबरन मुसलमान बनाये जाने की घटना ने अब तूल पकड़ लिया है और प्रधानमंत्री इमरान खान ने विवश होकर रविवार को सिंध और पंजाब सरकारों को मिलकर इन दोनों किशोरियों को सुरक्षित निकालने का आदेश दिया है। इस बीच दोनों बहनों ने अपनी सुरक्षा के लिए बहावलपुर की अदालत से गुहार लगाई है। बताया जा रहा है कि दोनों किशोरियों का अपहरण कर उन्हें मुसलमान बनाया गया और इसके बाद उनका निकाह मुस्लिम समुदाय के लोगों से करा दिया गया। दोनों सगी बहनों को घोटकी से रहीम ..

टेरर फंडिंग : ईडी ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी सैयद सलाहुद्दीन की 13 संपत्तियों को किया जब्त

नई दिल्ली 19 मार्च। आतंकवाद का वित्त पोषण करने के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ी कार्यवाही की है। ईडी ने मंगलवार को कहा कि उसने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी सैयद सलाहुद्दीन के खिलाफ आतंकवाद के वित्तपोषण मामले में जम्मू-कश्मीर में 13 संपत्तियां जब्त कीं। सलाहुद्दीन वैश्विक स्तर पर प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का प्रमुख है। ईडी ने धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत 1.22 करोड़ रुपए की संपत्तियां जब्त करने का आदेश दिया। ये संपत्तियां आतंकी संगठन के लिए कथित तौर पर काम करने वाले बांदीपुरा ..

धर्मधारा

प्रत्येक मनुष्य में मौजूद विपुल आध्यात्मिक संपदा अ पार जनसमुदाय के बीच भी यदि कोई व्यक्ति स्वयं को अकेला महसूस करे तो यह विडंबना ही है। अकेलापन यानी स्वयं को सबसे अलग कर लेना, सबसे संबंध तोड़ लेना, किसी को अपना न मानना और न ही किसी से अपना नाता जोडऩा। वर्तमान समय में मनुष्यों की इस भीड़ में अकेलापन एक विकराल समस्या हो गई है। यह समस्या कुछ इसी तरह से है, जैसे अथाह समुद्र हमारे सामने हो और हमें पीने के लिए एक बूंद पानी भी उपलब्ध न हो। सके। दुर्भाग्यवश आधुनिक जीवन की यही सचाई है।वर्तमान में शहरों में ..

श्वेत युवक की हिंसा से उपजे सवाल?

जयकृष्ण गौड़वै श्विक आतंकवाद के मूल में जो इस्लामी आतंकवाद है, उसका मकसद है दुनिया का इस्लामीकरण करना, इसकी प्रतिक्रिया में भी नए प्रकार के आतंकवाद का उत्पाद सामने आया है। इसका चेहरा दक्षिण-पश्चिम प्रशांत महासागर के देश न्यूजीलैंड में शुक्रवार की जुम्मे की नमाज के दौरान दिखाई दिया। बंदूकधारी हमलावर ने अंधाधुंध गोलियां चलाकर 49 को मार दिया। वहां के पुलिस आयुक्त बुश ने बताया कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हमले एक ही व्यक्ति ने किए। पुलिस ने एक कार से दो आईईडी बरामद किए है। उन्होंने यह भी बताया कि पहला ..

भारत को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से अभूतपूर्व समर्थन मिला

नई दिल्ली। आतंकी सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी के रूप में सूचीबद्ध करने के मामले में कांग्रेस के कूटनीतिक विफलता के आरोपों को खारिज करते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को कहा कि जो नेता इसे राजनयिक विफलता बता रहे हैं, वे स्वयं देख लें कि साल 2009 में भारत इस मुद्दे पर अकेला था, जबकि साल 2019 में उसे दुनियाभर से समर्थन प्राप्त है। विदेश मंत्री ने अपने ट्वीट में कहा- मैं मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति के तहत सूचीबद्ध करने के बारे में तथ्यों से अवगत कराना चाहती हूं। इस बारे ..

मुख्यमंत्री ने मंत्रालय को बनायाकांग्रेस कार्यालय - विजयवर्गीय

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री कमलनाथ की शिकायत चुनाव आयोग से की है। अपनी शिकायत में भाजपा ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने वल्लभ भवन (मंत्रालय) को कांग्रेस पार्टी का कार्यालय बना दिया है। मुख्यमंत्री यही से बैठकर चुनाव की प्लानिंग कर रहे हैं और लोगों को पार्टी की सदस्यता दिलवा रहे हैं, जो कि आचार संहिता का उल्लंघन है। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय के नेतृत्व में पहुंचे प्रतिनिधिमंडल ने साक्ष्य सौंपकर चुनाव आयोग से मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग ..

मैक्स विमान का निर्माण रहेगा जारी, आपूर्ति रुकी

वाशिंगटन 15 मार्च (स्पूतनिक)। अमेरिकी विमान निर्माता कंपनी बोइंग ने कहा है कि कंपनी 737 मैक्स विमानों के परिचालन पर फिलहाल लगी रोक के बावजूद इसका निर्माण जारी रखेगी, लेकिन नए विमानों की आपूर्ति फिलहाल नहीं की जाएगी। बोइंग ने बयान जारी कर कहा कि बोइंग ने 737 मैक्स विमानों के परिचालन पर लगी अस्थायी रोक के कारण इसकी आपूर्ति रोक दी है, लेकिन हम इसका निर्माण जारी रखेंगे। गौरतलब है कि इंडोनेशिया में हुई विमान दुर्घटना के पांच महीनों के भीतर ही बोइंग 737 मैक्स का एक और विमान रविवार को इथोपिया में हादसे का ..

गाजा पट्टी से इजरायल पर ४ रॉकेट दागे, ३ को रोका

तेल अवीव 15 मार्च (स्पूतनिक)। गाजा पट्टी से इजरायल पर शुक्रवार को चार और रॉकेट दागे गए, जिनमें से तीन को आयरन डोम हवाई रक्षा प्रणाली ने बेअसर कर दिया।इजरायल रक्षा बलों (आईडीएफ) ने यह जानकारी दी। फिलीस्तीनी क्षेत्र से शुक्रवार तड़के रॉकेटों से तेल अवीव और देश की कई अन्य हिस्सों पर हमला किया गया है। हमलों के बाद इजराइल ने गाजा पट्टी के हमास इस्लामिक आंदोलन के लगभग 100 से अधिक ठिकानों को लक्ष्य बनाया। आईडीएफ ने ट्वीट किया- गाजा पट्टी से इजरायल पर चार रॉकेट दागे गए। आईडीएफ आयरन डोम रक्षा प्रणाली ने तीन ..

ज्यादा नहीं चलेगी सपा, बसपा, निर्दलीयों की बैसाखी पर खड़ी प्रदेश सरकार- शिवराज

शिवपुरी। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कांग्रेस की लंगड़ी सरकार है, जो सपा, बसपा और निर्दलियों की बैसाखी पर खड़ी है। यह सरकार ज्यादा दिन चलने वाली नहीं है। पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने यह बात बुधवार को शिवपुरी जिले के बैराड़ में विजय संकल्प यात्रा के दौरान आयोजित सभा को संबोधित करते हुए कही। श्री चौहान ने कहा कि विधानसभा चुनाव में पोहरी में भले ही चूक हो गई हो, लेकिन लोकसभा में हमें मोदी जी को जिताना है। सभा ..

परंपरागत कला के अर्थशास्त्र को भी समझें- कमलनाथ

भोपाल 13 मार्च (वा)। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि हर समाज और समुदाय अपनी परम्परागत कला और कौशल से अपनी जीविका कमाता है, ऐसे में यदि उसे आर्थिक आधार न मिले तो कला और कौशल दोनों खतरे में पड़ जाएंगे। कांग्रेस की ओर से आज जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक श्री कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश का दौरा करते हुए उनसे समुदाय विशेष के कुछ युवाओं ने मिलकर कहा कि वे बेरोजगार हैं और काम चाहते हैं। उन्होंने बताया कि वे सिर्फ ढोल बजाना जानते हैं। श्री कमलनाथ ने कहा कि जो समुदाय पहले से कौशल सम्पन्न है उसे बेरोजगार ..