आजम के विश्वविद्यालय की दीवारों ने उगलीं किताबें-पांडुलिपियां
   Date21-Sep-2022

sd2
रामपुर द्य 20 सितंबर (स्वससे)
उत्तर प्रदेश के रामपुर में समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान के मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय में खुदाई अभियान चल रहा है। मंगलवार को खुदाई में चोरी की हजारों किताबें मिलीं। पुलिस ने बताया कि विश्वविद्यालय कैंपस बिल्डिंग में बनी लिफ्ट शाफ्ट में इन्हें छुपा कर रखा गया था। इसमें कई बहुमूल्य पांडुलिपियां शामिल हैं। हालांकि पुलिस ने किताबों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी है। पुलिस ने रिमांड पर लिए गए दो आरोपी अनवर और सालिम की निशानदेही पर इन्हें जब्त किया। ऐसा कहा जा रहा है कि इन्हें ओरिएंटल इंटर कॉलेज से चोरी किया गया था। पहले इस कॉलेज को मदरसा आलिया लाइब्रेरी के नाम से जाना जाता था। इसकी स्थापना 1774 में नवाब रामपुर ने की थी। किताबों की चोरी को लेकर 2019 में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी।
किताबों के बारे में ऐसे हुआ खुलासा
रामपुर पुलिस ने अनवर और सालिम को 4 दिन पहले गिरफ्तार किया था। मदरसा आलिया के प्रधानाचार्य ने पुलिस को सूचना दी थी कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों से अगर इंटर कॉलेज से चोरी हुई किताबों के बारे में भी पूछा जाए। पुलिस ने शिकायत पर कार्रवाई की तो दोनों आरोपियों ने कई खुलासे किए। साथ ही जौहर विश्वविद्यालय के संग्रहालय की लिफ्ट के नीचे किताबें रखी होने की बात बताई। कई किताबों के ऐतिहासिक होने का दावा: पूर्व मंत्री और नवाब खानदान से ताल्लुुक रखने वाले नवाब काजिम अली खान उर्फ नावेद मियां ने जौहर विश्वविद्यालय में बरामद हुई किताबों के ऐतिहासिक होने का दावा किया है। नावेद का कहना है कि रामपुर की जामा मस्जिद बनवाने वाले नवाब कल्बे अली खान की शायरी का दीवान जौहर यूनिवर्सिटी के सर्च ऑपरेशन में बरामद हुआ है। नवाब कल्बे अली खान, मिर्जा गालिब के शागिर्द थे। उनके पूर्वजों ने दुनियाभर से किताबें लाकर रामपुर में रजा लाइब्रेरी और मदरसा आलिया की लाइब्रेरी में रखवाई थीं, लेकिन आजम खान, उनके बेटे और बीवी ने इस धरोहर को चोरी कर अपने विश्वविद्यालय की दीवारों में चुनवा दिया। नावेद मियां ने आगे बताया कि विश्वविद्यालय में सर्च ऑपरेशन के दौरान बुखारी शरीफ अस्त-व्यस्त हालत में मिली है।