घाटी में पहली बार वोट डालेंगे पाक शरणार्थी
   Date20-Sep-2022

rf3
पाकिस्तान से आए 5400 परिवारों को 68 साल बाद जमीन का हक मिला
श्रीनगर द्य १९ सितंबर (ए)
जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पश्चिमी पाकिस्तान से आए शरणार्थियों को जमीन का मालिकाना हक देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक, 1947 के बाद 5,400 परिवार पाकिस्तान से जम्मू के सीमावर्ती क्षेत्रों में आए थे। अधिकांश हिंदू और सिख थे।
ये परिवार कठुआ, सांबा और जम्मू जिलों में बस गए। 1954 में जम्मू, सांबा और कठुआ में इन्हें 46,666 कनाल (5,833 एकड़) जमीन दी गई थी, लेकिन 68 साल बीतने के बाद भी जमीन का मालिकाना हक नहीं मिला। दरअसल, इन्हें जम्मू-कश्मीर का नागरिक नहीं माना जाता था। न जमीन खरीदने का हक था और न ही सरकारी नौकरी करने का। अनुच्छेद 370 के खात्मे के बाद सरकार ने इन्हें यहां का बाशिंदा माना। सरकार ने शरणार्थियों को प्रति परिवार 5.5 लाख रुपए भी दिए हैं।