शराब माफिया का एसडीएम व तहसीलदार पर जानलेवा हमला
   Date14-Sep-2022

sd7
कुक्षी/धार द्य स्वदेश समाचार
प्रदेश में गुंडा माफिया के खिलाफ बुलडोजर के बाद भी बदमाशों के हौंसले बुलंद हैं। मंगलवार तड़के कुक्षी में अवैध शराब परिवहन को पकडऩे के लिए गए एसडीएम नवजीवन पवार एवं नायब तहसीलदार राजेश भिड़े की टीम पर शराब माफियाओं गुर्गों ने हमला कर दिया, जिससे दोनों को चोट आई है। पूरे मामले की मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दिए गए हैं।
दरअसल जिले के कुक्षी में अवैध शराब परिवहन की सूचना मुखबिर द्वारा मिली थी। मुखबिर ने बताया था कि ग्राम ढोलिया व ग्राम आली से होता हुआ एक ट्रक आलीराजपुर जा रहा है। सूचना पर कुक्षी एसडीएम नवजीवन पवार एवं नायब तहसीलदार राजेश भिड़े ने ट्रक का पीछा किया और ग्राम पलासी स्थित ढाबे पर अवैध शराब से भरे ट्रक को रोका गया। तभी ट्रक के पीछे आ रही स्कार्पियो में बैठ शराब माफियाओं के 6-7 गुर्गों ने अफसरों की गाड़ी पर हमला कर दिया। नायब तहसीलदार को अपनी गाड़ी में बैठाकर भाग गए। इस दौरान आरोपियों ने फायरिंग भी की। घटना की सूचना मिलते ही कुक्षी पुलिस मौके पर पहुंची और अवैध शराब से भरे ट्रक (एमपी 69 एच 0112) जब्त कर दो आरोपियों को पकड़ लिया और नायब तहसीलदार को आरोपियों से छुड़वा लिया। शेष आरोपियों की तलाश है। इस दौरान एसडीएम के गनमैन पुनित पांचाल, ड्रायवर अलाउद्दीन व अन्य प्रायवेट 4-5 लोगों के संघर्ष से ट्रक छोड़कर आरोपितों को भागना पड़ा। इस दौरान एक आरोपी मुकाम धरा गया था। घटना की जानकारी मिलते ही धार पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र पाटीदार भी कुक्षी पहुंचे थे। कुक्षी पुलिस ने 5 आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है। जिले में प्रशासनिक टीम पर हमले की घटना के बाद कांग्रेस प्रदेश भाजपा सरकार पर हमलावर हो गई है। दरअसल मुख्य आरोपी सुखराम पूर्व भाजपा कैबिनेट मंत्री व पूर्व विधायक का भांजा नजदीकी रिश्तेदार है।
पुलिस की तत्परता से टला बड़ा हादसा - अलसुबह हुई उक्त घटना की सूचना मिलते ही कुक्षी थाना प्रभारी सी. बी. सिंह के साथ निकले पुलिस दल ने नायब तहसीलदार श्री भिड़े को शराब माफिया के गुर्गों से मुक्त कर दो आरोपियों को भी गिरफ्तार किया। टीआई सी बी सिंह की तत्परता से किसी बड़े हादसे को टालने में पुलिस सफल रही।
मजिस्ट्रियल जांच दल गठित - आईएएस अफसर और अन्य शासकीय कर्मियों पर हमले की घटना के बाद धार कलेक्टर ने तीन सदस्यीय मजिस्ट्रियल जांच दल गठित किया है। दल तीन बिंदुओं पर जांच करेगा। जिसमें मुख्य रूप से शराब परिवहन, भंडारण, स्टॉक, अभिलेखीकरण सहित आबकारी नियमों में चुक एवं निर्देशों के पालन में हुई चूक सहित घटना स्थल पर संदिग्ध लोगों की भूमिका, इलेक्ट्रानिक उपकरण, सीसीटीवी कैमरे, मोबाइल नंबरों की घटना में भूमिका की जांच करेगी। सके अतिरिक्त घटना की पुनर्रावृत्ति ना हो इसको लेकर सुझाव भी देगी। दल में अध्यक्ष एडीएम शृंगार श्रीवास्तव रहेंगे। वहीं सदस्य के तौर पर धार एसडीएम सुश्री दीपाश्री गुप्ता और तहसीलदार विनोद राठौर शामिल रहेंगे।