सादगी
   Date09-Aug-2022

rf2
प्रेरणादीप
भा रत में परा वनस्पति विज्ञान (पोलियो बॉटनी) के जनक प्रो. वीरबल साहनी सादगी पसंद व्यक्ति थे। केम्ब्रिज में पढ़ते समय 90 पौण्ड वार्षिक की छात्रवृत्ति से ही अपना काम चलाते थे। विलायत जाते समय जो पायजामे एवं कमीजें ले गए थे, उसी से आपने आठ वर्ष तक अपना काम चलाया। एक बार उनका पुराना कोट कॉज के किनारे फट गया था, तो उसे उन्होंने उलटवा लिया। उलटवाने के पश्चात कालर और कोट के रंग में भिन्नता आ गई और वह कोट बदरंगा दिखने लगा, किन्तु इस विचित्र बदलाव का जब लोग कारण पूछते, तो वे सहज ढंग से कहते कि यही नया फैशन है।