हील इन इंडिया योजना : विदेशी मरीजों का इलाज भी अब भारत में
   Date08-Aug-2022

df6
नई दिल्ली ठ्ठ 7 अगस्त (ब्यूरो)
सरकार ने अब तक 44 ऐसे देशों की पहचान कर ली है, जहां से बड़ी संख्या में लोग चिकित्सा जरूरतों के लिए भारत आते हैं। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि इन देशों में इलाज के खर्चे और गुणवत्ता पर भी विचार किया गया है। इनमें अधिकतर अफ्रीका, लातिन अमेरिका, सार्क (स््र्रक्रष्ट) और खाड़ी देश हैं।
विदेश से भारत आकर इलाज कराने वाले मरीजों को अतिरिक्त सुविधा मुहैया कराने और भारत की चिकित्सा व्यवस्था की खूबियों को दुनियाभर में प्रचारित करने के लिए केंद्र सरकार जल्द ही नई योजना लाने जा रही है। हील इन इंडिया ) नाम की इस योजना का एलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस 15 अगस्त को लाल किले से संबोधन के दौरान कर सकते हैं। बताया गया है कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस योजना को अंतिम रूप देने पर काम शुरू कर दिया है।
क्या है सरकार की हील इन इंडिया योजना?-इस योजना के तहत सरकार देश के 10 बड़े एयरपोर्ट्स पर इंटरप्रेटर्स और विशेष डेस्क स्थापित करेगी, जो कि विदेश से भारत में इलाज के लिए आने वाले मरीजों की मदद करेगा। इसके अलावा विदेशी मरीजों के बीच भारत में इलाज की आसान व्यवस्था को प्रचारित करने के लिए एक बहुभाषी पोर्टल और आसान वीजा नियम भी बनाए जाएंगे। सरकार इस योजना के जरिए मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा देने की कोशिश में है।
सरकार ने अब तक 44 ऐसे देशों की पहचान कर ली है, जहां से बड़ी संख्या में लोग चिकित्सा जरूरतों के लिए भारत आते हैं। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि इन देशों में इलाज के खर्चे और गुणवत्ता पर भी विचार किया गया है। इनमें अधिकतर अफ्रीका, लातिन अमेरिका, सार्क और खाड़ी देश हैं।