बांध बचाने के हरसंभव प्रयास
   Date14-Aug-2022

tg1
सेना के जवान मोर्चे पर, अधिकारी जुटे, भारी बारिश के कारण आ रही परेशानी, पूजा पाठ भी, नहर से निकाला पानी
धामनोद/धार द्य 13 अगस्त
भारी बारिश के बीच कारम नदी पर बन रहे बांध को बचाने की कोशिशें जारी है। रिसाव वाली वॉल पर पानी का प्रेशर कम करने के लिए बांध के साइड से नहर खोदी जा रही है। लेकिन काली चट्टान आने से खुदाई कार्य में दिक्कतें आ रही है। इससे पहले बांध को फूटने से बचाने के लिए सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। शनिवार को सेना का 15 सीटर हेलिकॉप्टर खरगोन जिले के महेश्वर पहुंचा। यहां हेलिकॉप्टर उतरा, इसमें सेना के 15 जवान सवार थे। जवानों ने यहां के हालात देखे। कुछ देर बाद हेलिकॉप्टर यहां से उड़ा और कारम नदी ऊपर का एक चक्कर लगाकर लौट गया।
कारम डैम में दाहिने तरफ चैनल बनाकर पानी निकासी की व्यवस्था की जा रही है। पहले दो मशीनें खुदाई कर रहीं थीं, अब मशीनों की संख्या बढ़ाकर 5 कर दी गई है।
अब तक 30 फीट से ज्यादा गहरा गड्ढा किया जा चुका हैं। जमीन में सोलडर पत्थर और मिट्टी के कारण मशीनों को काम करने में दिक्कत आ रही है। रॉक कटर मशीन से भी काम लिया जा रहा है।
एनडीआरएफ की टीम भी पहुंची - एनडीआरएफ की सूरत, वडोदरा, दिल्ली और भोपाल से एक-एक टीम भी पहुंच गई है। हर टीम में 30 से 35 ट्रेंड जवान शामिल हैं। अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा ने बताया कि डैम को लेकर एक हाईलेवल मीटिंग मंत्रालय में बुलाई गई थी। इसमें सेना की मदद लेने का फैसला लिया गया था।