18 गांव खाली कराए, सेना मैदान में
   Date13-Aug-2022

fg3
कारम नदी पर ग्राम कोठीदा में बन रहा मिट्टी का बांध रिसने लगा
धार/धामनोद ठ्ठ स्वदेश समाचार
धार में भरुडपुरा और कोठीदा के बीच कारम नदी पर बनाए जा रहे बांध में लीकेज के बाद पानी का रिसाव बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार सुबह बांध के एक तरफ की मिट्टी बह गई। इससे बांध की दीवार का बड़ा हिस्सा ढह गया। बांध को बचाने के लिए सेना के जवान जुट गए हैं।
खतरे के मद्देनजर प्रशासन ने डैम के आसपास के 18 गांव खाली करा लिए है। इनमें धार जिले के 12 और खरगोन के 6 गांव शामिल हैं। इससे करीब 40 हजार लोग प्रभावित हुए हैं। लोगों को राहत शिविरों में शिफ्ट किया गया है। एनडीआरएफ, एसडीईआरएफ के साथ ही पुलिस, प्रशासन, होमगार्ड और राजस्व विभाग का अमला बचाव कार्य में लगा है।मौके पर पहुंचे इंदौर के संभाग आयुक्त डॉ. पवन शर्मा ने पत्रकारों को बताया कि डैम में कल से रिसाव आरंभ हुआ था। धार और खरगोन समेत तीन जिलों के कलेक्टर पुलिस अधीक्षक और अन्य दल मौके पर उपस्थित हैं।
बांध का पानी कराया जा रहा खाली- बांध के पानी को खाली करने की कोशिश भी की जा रही है। इसके लिए बांध के साइड से एक नहर निकाली जा रही है। पानी निकलने से बांध टूटने की स्थिति में बाढ़ का खतरा नहीं रहेगा। पानी निकालने के लिए 4 पोकलेन मशीने नहर बनाने के काम में लगी हुई हैं।
मरम्मत का काम भी तेजी से जारी -इंदौर के साथ भोपाल से विशेषज्ञों की टीम बांध को देखने पहुंची। डैम के गेट खोलकर पानी निकालने की तैयारी की जा रही है। मरम्मत का काम भी तेजी से शुरू हो चुका है। फिलहाल बारिश रुकी हुई है, लेकिन अगले कुछ घंटों में बारिश होती है तो हालात बिगड़ सकते हैं। इस लिहाज से अगले 10 घंटे महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं।
ग्रामों में अलर्ट -डैम का जल संग्रहण क्षेत्र 183.83 वर्ग किमी है। बांध की लंबाई 564 मीटर और चौड़ाई 6 मीटर है। जल भरण क्षमता करीब 43-98 मीट्रिक घनमीटर रखी जाएगी।