'चच्चÓ को फिर भाये लालू के लाल
   Date10-Aug-2022

ed2
पटना ठ्ठ 9 अगस्त (वा)
बिहार में कभी लालू के लालों से परेशान होने का हवाला देकर जदयू-राजद गठबंधन तोड़कर भाजपा के साथ सरकार बनाने वाले नीतीश कुमार 'चच्चाÓ का एक बार फिर लालू पुत्रों पर दिल आया है। तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के भाजपा से एक बार फिर नाता तोडऩे की घोषणा के बाद नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और अब राष्ट्रीय जनता दल, कांग्रेस तथा वामपंथी दलों के साथ गठजोड़ कर नई सरकार बनाने की कवायद शुरू कर दी है। नीतिश कुमार ने राजभवन जाकर राज्यपाल से कहा कि हम नई सरकार बनाने के लिए तैयार है। हमारा नया गठबंधन राजद के साथ है और हमें 164 विधायकों का पूर्ण समर्थन है। संभवत: नीतीश कुमार आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।
जदयू के सांसद, विधायक और पार्टी के वरीय पदाधिकारियों के साथ बैठक में भाजपा से नाता तोडऩे का निर्णय लिए जाने के बाद मुख्यमंत्री शाम करीब 4 बजे राजभवन पहुंचे और राज्यपाल फागू चौहान को अपना इस्तीफा सौंप दिया। इसके बाद श्री कुमार सीधे पूर्व मुख्यमंत्री तथा राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव की पत्नी राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर पहुंचे। वहां राजद नेता और श्री लालू प्रसाद यादव के छोटे पुत्र तेजस्वी प्रसाद यादव भी मौजूद हैं। कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने कहा कि नीतीश कुमार महागठबंधन की नई सरकार में मुख्यमंत्री होंगे। सब कुछ तय हो चुका है और अब जल्दी ही नई सरकार बनेगी। उल्लेखनीय है कि बिहार में श्री नीतीश कुमार की अगुवाई में बनने जा रही नई सरकार को राजद, कांग्रेस, वामदल और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) का समर्थन प्राप्त है। वर्तमान में जदयू के 45, राजद के 79, कांग्रेस के 19, वामदल के 16 और एक अन्य विधायक हैं।
जदयू के बाद हम ने भी भाजपा का साथ छोड़ा- बिहार में बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के बाद अब हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) ने भी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से अपना नाता तोड़ लिया। पूर्व मुख्यमंत्री एवं हम के संरक्षक जीतनराम मांझी ने मंगलवार को यहां कहा कि उनकी पार्टी राजग को छोड़कर बिना किसी शर्त के श्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार को अपना समर्थन देगी। श्री नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। अब जल्द ही महागठबंधन में शामिल होकर सरकार बनाएंगे। इस महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल (राजद), जदयू, कांग्रेस और वामपंथी दलो के अलावा श्री जीतन राम मांझी की पार्टी हम भी होगी।
विकास केन्द्रित नीति को ठुकराया - शिवराज- मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का साथ छोडऩे को लेकर आज कहा कि उन्होंने राजग की विश्वास और विकास केन्द्रित नीति को ठुकराया है।श्री चौहान ने अपने ट्वीट के माध्यम से कहा 'नीतीश कुमार ने आखऱि राजग की विश्वास और विकास केंद्रित नीति को ठुकरा कर अवसरवादियों से बने महाठगबंधन की सत्ता और भ्रष्टाचार केंद्रित रणनीति को चुन ही लिया। आने वाले समय में बिहार की जनता भी सही चुनाव कर दूध का दूध और पानी का पानी कर ही देगी।Ó
9 साल में 2 बार गठबंधन बदल चुके नीतीश-नीतीश कुमार 2013 में भाजपा और 2017 में राजद से गठबंधन तोड़ चुके हैं। दोनों ही बार उन्होंने सरकार बनाई थी और सूबे के मुख्यमंत्री बने थे।