वीर कौन?
   Date28-Jul-2022

prernadeep
प्रेरणादीप
ए क बार अल्मोड़ा के राजा ने आक्रमणकारियों से अपने पर्वतीय राज्य की रक्षा करने के लिए अपनी सेना में एक नए दल की रचना करने का निश्चय किया। तदर्थ अनेक नौजवानों को भर्ती कर प्रत्येक को एक नई तलवार प्रदान की। पश्चात राजा ने आज्ञा दी, प्रचल! तुरंत सारे लोगों ने म्यान से तलवारें निकाल लीं और उन्हें हिलाते हुए जोर से हल्ला करने लगे। राजा ने पूछा, यह क्या कर रहे हो? उन्होंने उत्तर दिया, महाराज हम सदा सन्नद्ध रहना चाहते हैं, जिससे शत्रु कहीं अचानक हमला न कर बैठे। राजा ने कहा, तुम सब घर चले जाओ। तुम सरीखे अधीर और सहज उत्तेजित होने वालों को मेरे लिए कोई उपयोग नहीं। जो सचमुच वीर होते हैं, वे न हल्ला-गुल्ला करते हैं, न ही लड़ाई की चिंता।