जो कोच पदक दिलाते हैं, उन्हें हटा दिया
   Date26-Jul-2022

er5
नई दिल्ली द्य 25 जुलाई (वा)
टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने शीर्ष आयोजन राष्ट्रमंडल खेलों से तीन दिन पहले 'मानसिक उत्पीडऩÓ का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनकी कोच को खेल गांव में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा रही है।
लवलीना ने सोमवार को ट्विटर पर एक पोस्ट साझा करके कहा, आज मैं बड़े दुख के साथ कहती हूं कि मेरे साथ बहुत उत्पीडऩ हो रहा है। हर बार मेरे कोच, जिन्होंने मुझे ओलंपिक में पदक लाने में मदद की, उन्हें हटाकर मेरी ट्रेनिंग में बाधा डाली जा रही है उन्होंने कहा, इनमें से एक कोच संध्या गुरुंगजी द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित हैं। मेरे दोनों कोचों को हज़ार बार हाथ जोडऩे के बाद कैंप में ट्रेनिंग के लिये बहुत देर से शामिल किया जाता है। मुझे इससे ट्रेनिंग में बहुत परेशानियां उठानी पड़ती हैं, और मानसिक उत्पीडऩ तो होता ही है। उनकी कोच संध्या गुरुंग को खेल गांव में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा रही थी।