उदयपुर में तालिबानी बर्बरता के तार पाकिस्तान से जुड़े
   Date30-Jun-2022

df3
गौस मोहम्मद व रियाज जब्बार ने 15 दिन कराची में मौलाना से ट्रेनिंग ली
जयपुर द्य 29 जून (ए)
उदयपुर में हुए तालिबानी हत्या के तार पाकिस्तान से जुड़ रहे हैं। नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) ने 8 से 10 मोबाइल नंबर ट्रेस किए हैं। इनकी लोकेशन पाकिस्तान से लेकर भारत में आ रही है। इन्हीं नंबरों पर रियाज जब्बार और गौस मोहम्मद की लगातार बातचीत भी हो रही थी। इस इनपुट ने खुफिया तंत्र के कान खड़े कर दिए हैं।
राजस्थान के गृह राज्यमंत्री राजेंद्रसिंह यादव ने भी इस मामले को लेकर खुलासा किया कि दोनों पाकिस्तान और अरब देशों के लोगों से कॉन्टेक्ट में थे। इनके मोबाइल में पाकिस्तान और अरब देशों के नंबर मिले हैं। रियाज और गौस की पाकिस्तान के नंबरों पर खूब बातचीत होती थी। राज्यमंत्री यादव ने इनके कराची में ट्रेनिंग लेने का भी दावा किया है। बताया गया कि दोनों ने 2014-15 में करीब 15 दिन की ट्रेनिंग ली थी। पाकिस्तान के आका के बुलावे पर दोनों नेपाल के रास्ते वहां गए थे।
फैला रहे थे नफरत की आग
एनआईए की जांच में गौस और रियाज के पाकिस्तानी कनेक्शन के पुख्ता सबूत मिले हैं। इन दोनों ने कराची से लौटने के बाद उदयपुर में युवाओं को भड़काना शुरू कर दिया था। उनके मन में नफरत की आग को भड़का रहे थे। यह भी जानकारी सामने आई है कि दोनों दावत-ए-इस्लामी नाम के पाकिस्तानी संगठन से जुड़े हैं।
कर रहे थे ब्रेनवॉश
रियाज पाकिस्तान में कराची के एक मौलाना के संपर्क में था। यह भी आशंका जताई जा रही है कि कन्हैयालाल का मर्डर पूरी तरह से प्री-प्लांड था। दोनों मिलकर दहशत फैलाना चाहते थे।
कराची से लौटने के बाद रियाज और गौस मोहम्मद ने वॉट्सएप ग्रुप बनाए थे। इस ग्रुप के जरिए ही रियाज भड़काऊ वीडियो भेजकर युवाओं का ब्रेन वॉश कर रहा था। दोनों मिलकर उदयपुर और आसपास के इलाकों में कट्टर समर्थक तैयार कर रहे थे।