मैं लड़ रहा हूं विचारधारा की लड़ाई
   Date28-Jun-2022

fv4
राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने जमा किया नामांकन
नई दिल्ली द्य 27 जून (ए)
राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने सोमवार को संसद भवन जाकर अपना नामांकन-पत्र दायर किया। इस अवसर पर यशवंत सिन्हा ने कहा कि राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी के तौर पर वह विचारधारा की लड़ाई लड़ रहे हैं और उन्हें खुशी है कि देश में लोकतंत्र को बचाने के लिए पूरा विपक्ष एकजुट होकर उनका समर्थन कर रहा है।
श्री सिन्हा आज विपक्ष के अनेक नेताओं के साथ संसद भवन गए और राज्यसभा महासचिव के कार्यालय में राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामांकन-पत्र दायर किया।
नामांकन-पत्र दायर करते समय श्री सिन्हा के साथ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार, कांग्रेस के सांसद मल्लिकार्जुन खडग़े और राहुल गांधी, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव, तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद सौगत राय, माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी, द्रमुक के तिरुचि शिवा, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रफुल्ल पटेल तथा कई अन्य वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे।तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के आह्वान पर बुलाई गई विपक्षी दलों की बैठक में श्री सिन्हा को राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का साझा उम्मीदवार चुना गया था। आम आदमी पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति, शिरोमणि अकाली दल, वाईएसआर कांग्रेस और बीजू जनता दल के नेताओं ने हालांकि इस बैठक में हिस्सा नहीं लिया था। श्री सिन्हा पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वित्तमंत्री रह चुके हैं। श्री सिन्हा ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए नामांकन पत्र भरने के बाद यहां संवाददाता सम्मेलन में भारतीय जनता पार्टी पर हमला करते हुए कहा कि उनकी विचारधारा हमारे देश तथा लोकतंत्र को खत्म करना चाहती है, जबकि विपक्षी दलों की विचारधारा देश में आजादी का माहौल बनाए रखकर लोकतंत्र को मजबूत करने की है। भाजपा की विचारधारा सत्ता के लिए देश को तोडऩे वाली और झूठ पर आधारित है, जबकि विपक्षी दलों की विचारधारा संतुलित होकर देश को जोडऩे वाली तथा सत्य पर आधारित है। उनका कहना था कि वे सत्य की लड़ाई लड़ रहे हैं और गलत कदम का साथ नहीं दे रहे हैं, इसलिए जीत उनकी होगी।