उद्धव इस्तीफा दें - पवार
   Date25-Jun-2022

rf3
महाराष्ट्र में हिंसक हुई सियासी लड़ाई, राज्य में हाई अलर्ट
मुंबई द्य 24 जून (ए)
महाराष्ट्र में सत्ता का संग्राम अब हिंसक रूप लेने लगा है। शुक्रवार को कुर्ला में शिवसेना के बागी विधायक मंगेश कुंडालकर के दफ्तर पर कुछ लोगों ने हमला किया है। उन्होंने मेन गेट पर तोडफ़ोड़ की है। उनके पोस्टर और नेम प्लेट तोड़े गए हैं। वहीं अहमदनगर में भी बागी विधायकों के नेता एकनाथ शिंदे की तस्वीर पर कालिख पोती गई है। यहां उद्धव समर्थकों ने शिंदे के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, साथ ही उन्हें गद्दार बताया।
साकीनाका इलाके में भी बागी विधायक दिलीप लांडे के पोस्टर फाड़े गए हैं। लांडे गुरुवार को ही गुवाहाटी पहुंचे थे और शिंदे को अपना समर्थन दिया था। बागी विधायकों के समर्थकों का आरोप है कि तोडफ़ोड़ करने वाले ये लोग उद्धव ठाकरे के लोग हैं। तोडफ़ोड़ की घटना के बाद महाराष्ट्र पुलिस ने पूरे राज्य में हाई अलर्ट जारी किया है। इधर, मातोश्री में महाविकास अघाड़ी गठबंधन के प्रमुख सहयोगी राकांपा और उद्धव ठाकरे के बीच 2 घंटे चली बैठक खत्म हो गई है। इसमें राकांपा प्रमुख शरद पवार, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, कैबिनेट मिनिस्टर जयंत पाटिल, पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल और संजय राउत शामिल थे। बैठक में पवार ने उद्धव से साफ शब्दों में कहा है कि बागी विधायकों की संख्या 40 से ज्यादा है। ऐसे में फ्लोर टेस्ट करवाने की स्थिति में गठबंधन की किरकिरी होगी। पवार ने उद्धव को इस्तीफा देने का सुझाव दिया है। वहीं उद्धव ठाकरे ने शनिवार दोपहर एक बजे पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। इसमें आगे की रणनीति पर चर्चा होगी। उद्धव ने बैठक के बाद कहा कि कांग्रेस-राकांपा आज हमारा समर्थन कर रही है। शरद पवार और सोनिया गांधी ने हमारा समर्थन किया, लेकिन हमारे ही लोगों ने हमारी पीठ में छुरा घोंपा। हमने ऐसे लोगों को टिकट दिया जो जीत नहीं सकते थे और हमने उन्हें विजयी बनाया। उन्हीं लोगों ने हमारी पीठ में छुरा घोंपा।