वीरांगना रानी दुर्गावती की शौर्य गाथा स्कूली पाठ्यक्रम में होगी शामिल
   Date25-Jun-2022

rf7
जबलपुर द्य 24 जून (वा)
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज वीरांगना रानी दुर्गावती के बलिदान दिवस पर जबलपुर स्थित समाधि स्थल पहुंचे। जहां उन्होंने वीरांगना रानी दुर्गावती की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने आज रानी दुर्गावती के नाम पर बड़ी घोषण भी की। उन्होंने कहा कि वीरांगना रानी दुर्गावती की शौर्य गाथा पाठ्यक्रम में शामिल होगी और उनकी वीरगाथा को रानी दुर्गावती का पाठ के नाम से बच्चों को पढ़ाया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नारी शक्ति और स्वाभिमान का रानी दुर्गावती हमेशा से ही प्रतीक रही है। उन्होंने जल संवर्धन के लिए हमेशा से ही काम किया था और अब उनके बाद जल प्रबंधन पर सर्वाधिक कोई ध्यान दे रहा है तो वह है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी हमेशा से ही जनजाति नायकों को सम्मान देते आ रही है। भारत के राष्ट्रपति के नाम को लेकर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि द्रोपति मुर्मू का राष्ट्रपति बनना पूरी तरह से तय है। राष्ट्रपति का पद जाति से लेकर आदिवासी समाज में राष्ट्रपति बनना बहुत ही सुखद है। मेरा सौभाग्य है कि मैं राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का प्रस्तावक बना हूं।