योग को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाएं - मुख्यमंत्री
   Date22-Jun-2022

sx6
भोपाल द्य 21 जून (वा)
मध्यप्रदेश में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत इस वर्ष 8वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पूरे प्रदेश में उत्साह के साथ मनाया गया। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भोपाल में राज्यस्तरीय कार्यक्रम में शिरकत की, वहीं केन्द्रीय मंत्री और मध्यप्रदेश के मंत्रीगण भी विभिन्न जिलों में आयोजित सामूहिक योग कार्यक्रम में शामिल हुए। जिला, विकासखंड और ग्राम पंचायतों में भी छात्र-छात्राओं, ग्रामीणजन, महिला स्व-सहायता समूह सहित मनरेगा के श्रमिकों ने कार्य स्थल और अमृत सरोवर के तटों पर सामूहिक योग किया। प्रदेश के पुरातत्व और पर्यटन स्थलों पर भी जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों और नागरिकों ने मानवता के लिए योग थीम पर योगाभ्यास किया।
मुख्यमंत्री ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रदेशवासियों को योग के प्रति प्रोत्साहित करते हुए उन्हें प्रतिदिन योग करने का संकल्प दिलाया। उन्होंने कहा कि योग करने से न केवल मन प्रसन्न रहता है,बल्कि शरीर सकारात्मक ऊर्जा से भर जाता है और व्यक्ति के कार्य करने की क्षमता भी बढ़ जाती है। मेरा सभी से आह्वान है कि योग को अपने जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाएं। सिर्फ अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर ही नहीं, प्रतिदिन योग करने के लिए समय निकालें।
मुरैना जिले के प्रसिद्ध पुरातत्व स्थल बटेश्वर मंदिर समूह में केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर, नर्मदा नदी के उद्गम स्थल अमरकंटक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान मध्यप्रदेश में निर्मित हो रहे अमृत सरोवरों के तटों पर भी योग के विशेष सत्र हुए। इनमें सरोवर के निर्माण में लगे श्रमिक, ग्रामीण और पंचायत प्रतिनिधियों ने मिलकर योग साधना की। इसी प्रकार आंगनवाड़ी केन्द्रों में भी योग सत्र हुए। सतपुड़ा की रानी पचमढ़ी सहित अन्य पर्यटन स्थलों पर ब्रह्म मुहूर्त में योग के आयोजन शुरू हुए। धूपगढ़ की पहाड़ी के मनोरम स्थल पर पर्यटक, नागरिक एवं स्कूली बच्चों के साथ जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक सैलानियों ने भी बढ़-चढ़कर उत्साह के साथ योग किया। पचमढ़ी में ही बायसन लॉज परिसर में भी योग का आयोजन हुआ, जिसमें आयुष विभाग, साडा पचमढ़ी, पर्यटन विकास निगम और पचमढ़ी के स्थानीय नागरिक तथा सैलानियों ने प्रात:काल योग किया।
इटारसी के तिलक सिंदूर, सिवनी मालवा के आंवलीघाट, नर्मदापुरम के पावन सेठानी घाट एवं बांद्राभान में भी योग सत्र हुए, जिनमें योगाचार्यों द्वारा प्रकृति के करीब नागरिकों को योग साधना कराई गई।
स्कूल शिक्षा विभाग के सहयोग से प्रदेश के सभी स्कूलों में भी सामूहिक योग के आयोजन हुए, साथ ही महाविद्यालयों में भी विद्यार्थियों ने योग साधना की। स्काउट, गाइड, एनसीसी, एनएसएस के युवाओं और शिक्षकों ने भी योग सत्रों में सहभागिता की। सभी जिलों में सामाजिक संगठनों और समाजसेवियों ने भी योग कार्यक्रमों में सक्रिय भूमिका निभाई। जन अभियान परिषद के सदस्यों ने भी जिला, विकासखंड और ग्राम पंचायत स्तर पर नागरिकों को जोड़ते हुए योग सत्र करवाए।