प्रकृति और इंसान
   Date14-Jun-2022

fc2
प्रेरणादीप
कि सी समय बाघ और वन में अच्छी मित्रता थी। यदि कोई बाघ को मारने आता तो वन उसे छिपा लेता और यदि कोई वन में लकड़ी काटने आता तो बाघ उसे डराकर भगा देता। इस प्रकार दोनों एक-दूसरे की रक्षा करते थे। एक बार किसी छोटी-सी बात के कारण दोनों के मध्य झगड़ा हो गया। बाघ वन छोड़कर चला गया। उसके जाने के बाद लोगों ने वन को काटना शुरू कर दिया और वन के अभाव में बाघ को भी छिपने का स्थान न मिला और वह भी मारा गया। प्रकृति और इंसान, ऐसे ही एक-दूसरे के पूरक हैं। एक-दूसरे का विरोध करके हम मात्र स्वयं को ही नष्ट कर रहे हैं।