मुस्लिमों का देशभर में प्रायोजित हिंसा का नंगा नाच
   Date11-Jun-2022

fv3
शुक्रवार द्य स्वदेश समाचार
पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को जुमे की नमाज के बहाने देशभर में हिंसक-अराजक प्रदर्शन करते हुए मुस्लिमों ने मुख्य शहरों की सड़कों पर घंटों जाम लगाकर ना केवल नारेबाजी की बल्कि पुलिस पर पथराव के साथ फायरिंग भी की। आगजनी व तोडफ़ोड़ की घटना में सैकड़ों लोग घायल हुए, अनेक पुलिसकर्मियों के लहूलुहान होने के दृश्य आम हैं। नमाज की आड़ में कट्टरपंथी मुस्लिमों ने पूरे देश को हिंसा की आग में झोंकने का खुराफाती खेल योजनाबद्ध तरीके से शहर-शहर शुक्रवार को खेला है। मुस्लिमों ने प्रयागराज, रांची, कोलकाता, कानपुर, मेरठ, आगरा, अलीगढ़, वाराणसी, दिल्ली, महाराष्ट्र, मप्र, गुजरात, असम में हिंसक विरोध-प्रदर्शन कर देशभर में प्रायोजित हिंसा का नंगा नाच किया।
बीते सप्ताह शुक्रवार को कानपुर में इस मसले पर जमकर हिंसा हुई थी और इसे लेकर उत्तरप्रदेश सरकार बेहद सतर्क रही। उप्र में तो प्रयागराज और सहारनपुर को छोड़कर कमोबेश शांति बनी रही, लेकिन देश के अन्य राज्यों में विरोध प्रदर्शन हुए। इसकी पहली तस्वीर दिल्ली की जामा मस्जिद से सामने आई, जहां जुमे की नमाज के बाद बड़ी संख्या में लोग नारेबाजी करने लगे। इन लोगों के हाथों में नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की तस्वीरों वाले पोस्टर थे। इनकी मांग थी कि नूपुर शर्मा और जिंदल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। हालांकि मस्जिद के शाही इमाम ने इस प्रदर्शन से किसी भी तरह के संबंध से इनकार किया।