शंकराचार्य जयंती पर आद्य शंकराचार्यजी की मूर्ति स्थापित
   Date07-May-2022

fv5
सनावद द्य (स्वदेश समाचार)
खेड़ीघाट मां राजराजेश्वरी मंदिर में त्रिपुर सुंदरी प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव के तहत खेड़ीघाट मोरटक्का में आद्य शंकराचार्यजी की जयंती पर शंकराचार्यजी की मूर्ति की स्थापना की गई, जिसमें डॉ. हेडगेवार समिति के अध्यक्ष ईश्वरदास हिंदुजा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक गोरेलालजी, प्रांत प्रचारक बलिराम पटेल, जिला संघचालक राजेन्द्र साद, प्रांत शारीरिक प्रमुख कैलाश आंवले एवं समिति के सदस्य कमलेश शर्मा एवं उदय सिंह चौहान उपस्थित थे।
अध्यक्ष ईश्वरदास हिंदुजा ने बताया की यह भूमि आदि शंकराचार्य की तपोभूमि है, इसी स्थान पर शंकराचार्यजी का मां नर्मदा से साक्षात्कार हुआ था। वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को आद्य गुरु शंकराचार्य जयंती मनाई जाती है। इस साल यह जयंती 6 मई दिन शुक्रवार को मनाई जा रही है। आद्य शंकराचार्य का जन्म दक्षिण भारत के केरल राज्य में नंबूदरि ब्राह्मण के घर हुआ था। गुरु शंकराचार्य ने बहुत ही कम उम्र में वेदों में महारत हासिल की। उल्लेखनीय है कि खेड़ीघाट में मां राजराजेश्वरी मंदिर में त्रिपुर सुंदरी प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव को लेकर चार दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं, जिसकी शुरुआत 5 मई को कलश यात्रा के रूप में हुई थी। 6 मई को प्रधान स्थापना, अग्नि स्थापना, होम वैदिक पूजन, वास्तु पूजन और सुंदरकांड का आयोजन किया गया। 7 मई को आवाहित देवताओं का पूजन, होम अन्नधिवास मूर्तियों को स्नान, प्रासाद शिखर स्नान, शय्याधिवास होगा। 8 मई को देवता प्रबोधन, शिखर प्रतिष्ठा, प्राण-प्रतिष्ठा, महापूजा, पूर्णाहुति महानैवेद्य और प्रसाद का वितरण होगा। समिति के सदस्यों ने सभी धर्मप्रेमियों से महोत्सव में सपरिवार उपस्थित होकर दिव्यानंद करने का आग्रह किया है।