अमेरिका-इजरायल की तरह भारत भी हर दुस्साहस का देता है मुंहतोड़ जवाब
   Date04-May-2022

tt4
कर्नाटक में गरजे गृहमंत्री शाह
बेंगलुरु द्य 3 मई (ए)
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत ने इतनी ताकत हासिल कर ली है कि वह उसकी सीमा और सेना के साथ दुस्साहस करने वालों को अमेरिका तथा इजरायल की तरह मुंहतोड़ जवाब देने की ताकत रखता है।
एक दिन के कर्नाटक दौरे पर सुबह बेंगलुरु पहुंचे श्री शाह ने बसव जयंती पर श्री बसवअन्ना को श्रद्धासुमन अर्पित किए। बाद में उन्होंने नृपतुंगा यूनिवर्सिटी के उद्घाटन सहित विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रीय सुरक्षा का जिक्र करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि 2014 से पहले आएदिन पाकिस्तान से प्रेरित आतंकवादी देश में हमला करते थे और केंद्र सरकार की ओर से केवल बयानबाजी की जाती थी। उन्होंने कहा- प्रधानमंत्री मोदीजी के आने के बाद उरी और पुलवामा में हमला हुआ तो 10 दिन के अंदर सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक कर मुंहतोड़ जवाब दिया गया। उन्होंने कहा कि इससे बहुत बड़ा फर्क पड़ा है और आज पूरी दुनिया जानती है कि भारत की सीमाओं के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं कर सकता, क्योंकि इसका माकूल जवाब दिया जाएगा। इस तरह के दुस्साहस का जवाब देने के लिए पहले केवल अमेरिका और इजरायल की सेनाओं को ही जाना जाता था, लेकिन अब इसमें भारतीय सेना का भी नाम जुड़ गया है।
राष्ट्रीय मुद्दों के समाधान में मोदी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए श्री शाह ने कहा- धारा 370, 35ए और सीएए जैसे ढेर सारे मसलों को मोदीजी ने पलक झपकते ही समाप्त कर दिया। उन्होंने कहा कि पांच अगस्त 2019 का दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। कश्मीर से धारा 370 को हटाकर हमेशा के लिए कश्मीर को भारत के साथ जोडऩे का काम इस सरकार ने किया है। साथ ही सरकार ने उद्योग के क्षेत्र में ढेर सारी योजना लाकर भारत को औद्योगिक हब बनाने का काम किया है। उन्होंने कहा- अगर भारत मैन्युफैक्चरिंग हब बनता है तो यह हमारे लिए दो दृष्टि से महत्वपूर्ण है। 130 करोड़ का मार्केट हमारे देश में ही उपलब्ध है और देश के युवाओं को अपॉच्र्यूनिटी भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि अनेक क्षेत्रों में नरेंद्र मोदी सरकार ने ढेर सारी उपलब्धियां हासिल की है और इसी के कारण आज देश की जनता का विश्वास बढ़ा है कि जब हमारी आजादी के 100 साल पूरे होंगे तो भारत दुनिया में सर्वोच्च स्थान पर होगा और इसे कोई नहीं रोक सकता।