प्रियंका से 2 करोड़ में पेंटिंग खरीदने को मजबूर किया - राणा कपूर
   Date25-Apr-2022

ty3
ईडी की तरफ से विशेष अदालत में दायर चार्जशीट से निकली जानकारी
नई दिल्ली द्य 24 अप्रैल (ए)
यस बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को बताया है कि उन पर प्रियंका गाधी से एमएफ हुसैन की एक पेंटिंग खरीदने का दबाव बनाया गया था। गांधी परिवार ने इससे मिले पैसे का इस्तेमाल न्यूयॉर्क में सोनिया गांधी के इलाज के लिए खर्च किया था। ईडी की तरफ से विशेष अदालत में दायर चार्जशीट से यह जानकारी निकलकर सामने आई है। मार्च, 2020 में गिरफ्तारी के बाद से कपूर न्यायिक हिरासत में हैं।
चार्जशीट में कपूर ने कहा है कि वो इस पेंटिंग को खरीदने के लिए कभी तैयार नहीं थे और उन्हें इसके लिए मजबूर किया गया था। मिलिंद देवड़ा इसके लिए उन्हें राजी करने को कई बार उनके घर और कार्यालय आए थे। कपूर ने दावा किया कि मुरली देवड़ा और उनके बेटे मिलिंद ने उन पर दबाव बनाया और इसके चलते न चाहते हुए भी उन्हें वह पेंटिंग खरीदनी पड़ी। प्रियंका गांधी के कार्यालय में यह प्रक्रिया पूरी हुई थी।
संदिग्ध लेनदेन के जरिए 5,050 करोड़ का हेरफेर-ईजी ने राणा कपूर और दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएचएफएल) के प्रमोटरों
कपिल और धीरज वाधवान पर आरोप लगाया है कि उन्होंने संदिग्ध लेनदेन के जरिए 5,050 करोड़ रुपए का हेरफेर किया है। ईडी अब तक इस मामले में कुल तीन चार्जशीट दायर कर चुकी है। चार्जशीट में कहा गया है कि मामले की जांच शुरू होने के बाद कपूर ने जब्त होने से बचाने के लिए अपनी विदेशी संपत्तियों को बेचना शुरू कर दिया था।
मृत लोगों पर जानबूझकर आरोप लगाए - कांग्रेस-एक कांग्रेस नेता ने कहा कि राणा कपूर ने जानबूझकर उन लोगों पर आरोप लगाए हैं, जो जिंदा नहीं हैं। उन्होंने कहा कि आप 5,000 करोड़ रुपए के घोटाले के एक आरोपी व्यक्ति से और क्या उम्मीद रख सकते हैं। उसने बड़ी चालाकी से ऐसे लोगों पर आरोप लगा दिए, जो अब जिंदा नहीं हैं। कपूर ने अपने बयान में मुरली देवड़ा और अहमद पटेल का नाम लिया है, जो अब इस दुनिया में नहीं हैं।