हिंसा कम होने पर और भी क्षेत्रों से हटाया जाएगा अफस्पा
   Date02-Nov-2022

rf8
कोलकाता, स्वससे।
भारतीय सेना के पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल आर पी कालिता ने मंगलवार को कहा कि जिन-जिन क्षेत्रों में हिंसा के मामले स्वीकार्य मानकों के तहत कम होंगे, वहां-वहां से (सशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम) अफस्पा को वापस ले लिया जाएगा। पूर्वी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (जीओसीसी) कालिता ने कहा कि गत नौ महीने में उत्तर पूर्व के उग्रवाद प्रभावित इलाकों में हिंसा की घटनाओं में उल्लेखनीय कमी आई है और कुछ क्षेत्र अफस्पा के दायरे से बाहर होने की दिशा में बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों में शांति और विकास हो रहा है। पूर्वी सैन्य कमान के मुख्यालय स्थापना दिवस पर आयोजित समारोह में हिस्सा लेने के बाद मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि यह भारतीय सेना द्वारा हिंसा को स्वीकार्य स्तर पर लाने के लिए दी गई कुर्बानी की वजह से संभव हुआ है। पूर्वोत्तर के जिन हिस्सों में अफस्पा अभी लागू है वहां से उसे वापस लेने के सवाल पर कालिता ने कहा कि स्थिति लगातार बदल रही है।
उन्होंने कहा, ''जैसे-जैसे हिंसा कम होगी ...अधिक से अधिक क्षेत्र अफस्पा के दायरे से बाहर होंगे।ÓÓ उन्होंने कहा कि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि क्या स्थानीय पुलिस कानून व्यवस्था सुनिश्चित कर पा रही है और फैसला केंद्र से परामर्श कर राज्य सरकार लेगी। गौरतलब है कि इस साल एक अप्रैल को नगालैंड, असम और मणिपुर के कई इलाकों से अफस्पा हटा लिया गया था।