इंदौर में दिनदहाड़े नाबालिग लड़की को किया अगवा
   Date19-Nov-2022
स्वदेश समाचार ठ्ठ इंदौर
प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में पुलिस कमिश्नरी लागू होने के बाद भी अपराधों पर लगाम नहीं लग पा रही है। इधर अपराधियों में पुलिस का भय भी नजर नहीं आ रहा है। इंदौर में शनिवार दोपहर को दिलदहलाने वाली घटना हुई जिसमें आटो सवार अपहरणकर्ताओं ने एक नाबालिग लड़की का अपहरण कर लिया। ये तो शुक्र है कि लड़की ने खुद की सूजबूज से अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भागने में कामयाब हो गई। विजय नगर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।
घटना शनिवार दोपहर 1 बजे की है। जंहा दिनदहाड़े विजय नगर थाना क्षेत्र में एक 11 वर्षीय नाबालिग लड़की को अगवा करने की कोशिश की गई। हालाकिं अपहरणकर्ता अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो सके और नाबालिग चकमा देकर उनके चंगुल से भागने में कामयाब हो गई। नाबालिक लड़की विजय नगर थाना क्षेत्र के एक मोहल्ले की रहने वाली बताई जा रही है। पुलिस ने बताया कि नाबालिग के माता पिता डयूटी पर गए थे और वह स्कूल से घर के लिए निकली थी । तभी रेडिसन होटल के पास लड़की को ऑटो में बैठे एक व्यक्ति ने खींच कर जबर्दस्ती रिक्शा में बैठाया। जबकि ड्राइवर तेज गति से रिक्शा चलाने लगा। इस दौरान बालिका ने विरोध किया तो दोनों ने उसे धमकाया। कुछ दूरी आगे बढऩे के बाद पीछे बैठा व्यक्ति विजय नगर चौराहे पर उतर कर एक गुमटी तक गया। तभी बालिका वहां से भागी और हांफते-हांफते चौराहे के पास ही स्थित कालका मंदिर पहुंची। वहां पुजारी राहुल यादव ने उससे घबराने का कारण पूछा तो उसने सारी घटना बताई। इस बीच आरोपी भी लड़की के पीछे मंदिर तक पहुंच गया। उसे देख बालिका ने पहचान लिया। इस पर पुजारी व अन्य लोगों को आता देख वह तुरंत वहां से भाग गया। इसके बाद पुजारी ने बालिका के परिजन को सूचना दी और थाने पहुंचे। बालिका ने बताया कि उसने उक्त दोनों को पहले कभी नहीं देखा। जो व्यक्ति बालिका का पीछा करते हुए मंदिर तक पहुंचा था वह केसरिया रंग की शर्ट रहने था।
उसने दाढ़ी बढ़ा रखी थी तथा तिलक लगाए था। पुलिस बालिका के बयान, सीसीटीवी फुटेज व अन्य बिन्दुओं के आधार पर दोनों व्यक्तियों की तलाश कर रही है।
घटना की प्रामाणिकता की कर रहे जांच
मामले में विजयनगर क्षेत्र की एसीपी सोनाक्षी सक्सेना का कहना है कि अभी घटना की प्रामाणिकता की जांच की जा रही है। तथ्यों के सामने आने के बाद ही हम कुछ कह पाएंगे।