ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट मप्र के विकास में ऐतिहासिक साबित होगी
   Date10-Nov-2022

2
ब्यूरो   भोपाल / मुंबई
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने मुम्बई में 'इन्वेस्टमेंट अपॉर्चुनिटीज इन मध्यप्रदेशÓ कार्यक्रम में निवेशकों को संबोधित करते हुए कहा है कि वे मध्यप्रदेश की साढ़े आठ करोड़ जनता की ओर से निवेश के लिए आमंत्रित करने आए हैं। मध्यप्रदेश में सभी उद्योगों में अपार संभावनाएं हैं। प्रदेश की आत्मनिर्भरता के लिए निवेश अहम है।
टेक्सटाइल, खाद्य प्रसंस्करण, फार्मास्युटिकल सेक्टर सहित सभी क्षेत्रों में निवेशकों के लिए मध्यप्रदेश आकर्षण का केन्द्र है। जनवरी 2023 में इंदौर म.प्र. में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में निवेश प्रोत्साहन और उद्योगपतियों को आमंत्रित करने के लिए मुम्बई में होटन ताज प्रेसीडेन्ट में यह कार्यक्रम किया गया। श्री चौहान ने कहा कि मप्र में सिंगल विन्डो सिस्टम से उद्योग स्थापना संबंधी प्रक्रियाओं को सुगम और समय-सीमा में पूर्ण करना संभव हो रहा है। पर्यटन की दृष्टि से भी मध्यप्रदेश, देश के सबसे समृद्ध राज्यों में से एक है। भारत को वर्ष 2026 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के संकल्प को पूर्ण करने के लिए मध्यप्रदेश निवेश प्रोत्साहन के लिए प्रतिबद्ध है। प्रदेश में एक लाख 22 हजार एकड़ का लैंड बैंक, पर्याप्त पानी, बिजली, रोड नेटवर्क, दक्ष मानव संसाधन और शांतिपूर्ण वातावरण उपलब्ध है। यहां 11 से 12 क्लाईमेटिक जोन हैं। यहां कोई भी बिजनेस किया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने इंदौर की इन्फोबीन्स आईटी कंपनी को घंटी बजा कर बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) में सूचीबद्ध कराया।
बेरोजागरी दर 0.8 प्रतिशत है मप्र में - यहां पिछले 15 वर्षों में प्रति व्यक्ति आय 30 हजार से बढ़कर एक लाख 37 हजार रुपए हुई है। यहां बेरोजगारी की दर (शेष अंतिम पृष्ठ पर)
संभावित निवेशकों के साथ वन-टू-वन चर्चा
श्री चौहान ने कहा कि इंदौर में ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के दो दिन प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होंगे। समिट में निवेश का नया इतिहास लिखा जाएगा। प्रवासी भारतीय दिवस एवं खेलो इंडिया कार्यक्रम में भी आप सभी का हार्दिक स्वागत है। श्री चौहान ने संभावित निवेशकों के साथ वन-टू-वन चर्चा भी की। श्री चौहान कहा कि ई-व्हीकल भविष्य की आवश्यकता है। प्रदेश में ई-व्हीकल कंपनियों के लिए पार्क बनाने का निर्णय लिया गया है। हमने मध्यप्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया है। प्रदेश में दो एक्सप्रेस-वे का निर्माण हो रहा है। चंबल के बीहड़ को जोड़ते हुए अटल एक्सप्रेस-वे और अमरकंटक से सीधे गुजरात की सीमा तक नर्मदा एक्सप्रेस-वे बनाया जा रहा है, जिसके दोनों तरफ इंडस्ट्रियल पार्क बनाए जाएंगे। इंदौर में ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट बनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश में सिंचित क्षेत्र 7.5 लाख हेक्टेयर था, जिसे बढ़ाकर हमने 45 लाख हेक्टेयर कर दिया है। आने वाले 3 वर्षों में सिंचित क्षेत्र 65 लाख हेक्टेयर होगा।