श्री महाकाल लोक...दिव्यता-भव्यता को निहारनेपहले दिन ही सुबह से उमड़े लोग
   Date13-Oct-2022

df4
स्वदेश समाचार द्य उज्जैन
श्री महाकालेश्वर मंदिर परिसर विस्तारीकरण योजना के तहत निर्मित श्री महाकाल लोक का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मंगलवार को किया गया। पहले यह बताया गया था कि लोकार्पण के दो दिन बाद श्री महाकाल लोक आम जनता के लिए खोला जाएगा, लेकिन बुधवार सुबह सैकड़ों की संख्या में भक्त मंदिर के साथ श्री महाकाल लोक के भ्रमण करने के लिए पहुंच गए। यहां बनी मूर्तियों के साथ सेल्फी लेने की होड़ लोगों में नजर आई। स्थिति यह बनी कि लोग मूर्तियों के इतने नजदीक पहुंच गए कि मूर्ति के साथ उन्हें भी नुकसान पहुंच सकता था। बता दें कि अभी कार्यक्रम के लिए बनाए गए पंडाल और लाइटिंग को हटाने के साथ सफाई का दौर भी जारी था, लेकिन लोगों में श्री महाकाल लोक के प्रति बेहद अधिक उत्साह देखा गया। श्री महाकाल लोक के प्रति लोगों की प्रतिक्रिया भी बेहद खास ही थी। हर कोई उसकी खुले दिल से प्रशंसा कर रहा था। यहां मूर्ति व चित्रकारी के माध्यम से जो धार्मिक और पौराणिक कहानी लोगों तक पहुंचाई जा रही है वह युवा वर्ग के लिए पूरी तरह से नई है। उज्जैन की रूपाली जाधव ने बताया कि, कई दिनों से महाकाल लोक के खुलने की प्रतीक्षा थी। आज सुबह पता चला कि प्रवेश द्वार खुल गया तो हम फे्रंड्स के साथ कॉलेज से सीधे यहां चले आए। बहुत अच्छा लग रहा है।
बाबा महिमा से लोगों को परिचित कराना जरूरी - नागदा से दर्शन करने आए महेश शिवनानी का कहना था कि यहां भगवान श्री महाकालेश्वर की जिन कथाओं से लोगों को परिचित कराया जा रहा है, कई जानकारी उनके लिए भी नई है। लोगों को बाबा की महिमा और कथाओं के साथ अपने धर्म से परिचित करना जरूरी है। यह परिसर काफी सुंदर है। श्री महाकाल लोक का भ्रमण करने पहुंचे गौरव शर्मा का कहना था कि वह लंबे समय से श्री महाकाल लोक के निर्माण का पूरा होने का इंतजार कर रहे थे। यहां की व्यवस्था देखकर काफी अच्छा लगा है।
लोग यहां की भव्यता का ख्याल रखें - जयपुर (राजस्थान) से आए महेंद्र पालीवाल ने बताया कि, मंगलवार को ही उज्जैन आए। यहां आकर पता चला कि मोदीजी आ रहे हैं। हम उज्जैन में ही रुक गए। आज सुबह महाकाल मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद श्री महाकाल लोक देखने आए। मूर्तियां बहुत ही आकर्षक बनी हंै और खासकर इनके नीचे लिखे स्लोगन बहुत अच्छे लगे। यहां की भव्यता बनी रहे इसका ख्याल लोगों को ही करना है।
शाम होते ही ब्रिज से बढ़ जाती है भीड़ - महाकाल लोक देश का सबसे बड़ा नाइट पार्क है। इसकी भव्यता और सुंदरता जितनी पास से आकर्षक है, उतनी ही दूर से भी लोगों का मन मोह लेती है। चारधाम मंदिर के सामने रोड से पूरे महाकाल लोक चमचमाता हुआ नजर आता है, तो हरिफाटक ब्रिज से भी ऐसी ही स्थिति बनती है। देर शाम होते ही ब्रिज से लेकर हरिसिद्धि मंदिर रोड तक महाकाल लोक के साथ खुद की फोटो लेने वालों की भीड़ लगी रहती है।
महाकाल लोक को कई दिनों से देखने की इच्छा थी - विद्यानगर निवासी ईशान शुक्ला कॉलेज स्टूडेंट हैं। वे बताते हैं कि कई दिनों से मीडिया में पढ़-देख रहे थे महाकाल लोक के बारे में। लगातार उत्सुकता बढ़ती जा रही थी। आज सुबह दोस्तों से पता चला तो देखने चले आए। यहां का सौंदर्य लुभा रहा है। इसे देखने में तीन-चार घंटे तो लगेंगे ही।
मूर्तियां देखने के साथ ही बढऩे लगी लापरवाही भी - श्री महाकाल लोक देखने के लिए सुबह से ही बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। कई लोग मूर्तियों के बिल्कुल नजदीक पहुंचकर फोटो खिंचवा रहे हैं तो कई जूते पहनकर ही मूर्तियों के बने स्टैंड पर चढ़ गए थे। कई मूर्तियों के करीब बैठ गए। इन्हें रोकने-टोकने वाला भी कोई नहीं है।