सच्चा भक्त
   Date13-Jan-2022


ws11
प्रेरणादीप
ए क बार रामकृष्ण परमहंस मां काली को भोग लगाने के लिए दूध तथा मिष्टान्न लेकर मंदिर पहुंचे। उन्होंने देखा कि वहां एक बिल्ली भूख से तड़प रही है तो उन्होंने मां को दिया जाने वाला भोग बिल्ली को पिला दिया। मंदिर के अधिकारी को यह देखकर बड़ा क्रोध आया तो परमहंसजी बोले- 'मुझे तो प्रत्येक प्राणी में मां के ही दर्शन होते हैं। जब भूखी बिल्ली दूध पी रही थी तो मुझे लगा कि मां काली तृप्त होकर मुझे आशीर्वाद दे रही हैं।Ó यह सुनकर मंदिर का अधिकारी शर्मिंदा हो गया। सच्चा भक्त हर प्राणी में अपने ईष्ट के ही दर्शन करता है और उसको भगवान का स्वरूप मानकर उसकी सेवा करता है।