400 आतंकवादी घुसपैठ की फिराक में- नरवणे
   Date13-Jan-2022


ws7
नई दिल्ली ठ्ठ 12 जनवरी (वा)
सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने नियंत्रण रेखा के पार से जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों की घुसपैठ के खतरे को एक बड़ी चुनौती बताया है और कहा है कि इस समय पाकिस्तान की ओर 'लॉन्च-पैडÓ और प्रशिक्षण शिविरों में 350-400 आतंकवादी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं।
सेनाध्यक्ष ने सेना दिवस से पहले अपने परम्परागत वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में बुधवार को कहा, विभिन्न स्रोतों से मिली जानकारी से लगता है कि पश्चिमी सेक्टर में दूसरी तरफ विभिन्न लॉन्च पैड और प्रशिक्षण शिविरों में 350 से 400 आतंकवादी घुसपैठ के लिए बैठे हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सेना के साथ गोलीबारी को विराम देने के लिए हुई सहमति के बाद पिछले वर्ष फरवरी के बाद इसका उल्लंघन इक्का-दुक्का घटनाओं को छोड़ कर नहीं हुए हैं, लेकिन घुसपैठ का खतरा कम नहीं हुआ है।उन्होंने कहा पश्चिमी क्षेत्र में खतरा कम नहीं हुआ है। हमें सतर्क बने रहना है। उन्होंने कहा कि पिछले साल फरवरी में भारत और पाकिस्तान में सैन्य अभियानों के महानिदेशकों के स्तर पर बाचचीत में गोलाबारी विराम पर जो सहमति बनी थी, इक्का-दुक्का मामलों को छोड़कर इसका उल्लंघन नहीं हुआ है। इससे स्थिति को कुछ सामान्य करने में मदद मिली है।
जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा स्थिति में लगातार सुधार - उन्होंने कहा कि सरकार के रुख से जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा की स्थिति में लगातार सुधार हुआ है और घरेलू स्थानीय लोगों को आतंकवाद फैलाने की शह देने के प्रयास बुरी तरह विफल रहे हैं। उन्होंने कहा कि शत्रु भाव रखने वाली कुछ ताकतें वहां शांति में खलन डालने के लिए अल्पसंख्यकों, गैर स्थानीय लोगों और बाहर से आने वाले मजदूरों को निशाना बनाने की रणनीति अपना रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे अपने इन मंसूबों में भी कामयाब नहीं होंगे और 'हम इन चुनौतियों से निपटेंगे।Ó