पहली विस के सदस्य नन्नाजी का अवसान
   Date13-Jan-2022

ws4
शिवपुरी ठ्ठ 12 जनवरी (ए)
मध्यप्रदेश की प्रथम विधानसभा के सदस्य रहे 103 साल के लक्ष्मीनारायण गुप्ता नन्नाजी का बुधवार को निधन हो गया। लंबी बीमारी के बाद उन्होंने झांसी उत्तरप्रदेश स्थित निवास पर अंतिम सांस ली। नन्नाजी का शव झांसी से शिवपुरी के पिछोर लाया जाएगा। गुरुवार को राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। उनके निधन पर प्रदेशभर के भाजपा व कांग्रेस नेताओं ने शोक व्यक्त किया है। नन्नाजी पिछोर विधानसभा सीट से पांच बार विधायक रहे। लक्ष्मीनारायण गुप्ता प्रदेश सरकार में दो बार कैबिनेट मंत्री भी रहे। उन्होंने सुंदरलाल पटवा सरकार में राजस्व मंत्री की भूमिका का निर्वहन किया।
बाबू की नौकरी छोड़ राजनीति में आए- लक्ष्मीनारायण गुप्ता का जन्म 6 जून 1918 को अशोकनगर जिले के ईसागढ़ तहसील में मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। नन्नाजी ने प्रारंभिक पढ़ाई पूरी कर लिपिक की नौकरी की। 1943 में नौकरी छोड़कर वकालत शुरू करने के साथ ही समाज सेवा के काम में जुट गए। 1944 में नन्नाजी हिन्दू महासभा से जुड़े और 1947 में डॉ. श्यामप्रसाद मुखर्जी जब हिन्दू महासभा के अध्यक्ष बने तो नन्नाजी को कार्यकारिणी सदस्य बनाया। 1949 में जिला सहकारी केन्द्र बैंक में डायरेक्टर रहे। श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के आह्वान पर कश्मीर आंदोलन में भाग लेते हुए दिल्ली में सत्याग्रह करते हुए गिरफ्तारी पहले आप तैयार जेल में और बाद में फिरोजाबाद की जेल में बंद रहे । गोवा आंदोलन में भी आप जेल गए। संघर्ष यात्रा यहीं नहीं रुकी आप विभिन्न सामाजिक आंदोलनों में कुल मिलाकर 6 बार जेल गए ।आपने अपने राजनीतिक कैरियर में सबसे पहले जिला सहकारी केंद्रीय बैंक का चुनाव लड़कर डायरेक्टर बने। 1952 में देश में पहली बार विधानसभा के चुनाव में आप पिछोर दक्षिण विधानसभा से निर्वाचित हुए उसके बाद लगातार आपने 4 चुनाव ऐतिहासिक अंतर से जीते। नन्ना जी की लोकप्रियता का यह आलम था कि 1967 के आम चुनाव में सत्ताधारी दल कांग्रेस के उम्मीदवार को 24000 वोटों से चुनाव हराया था। 1990 के आम चुनाव में भी नन्ना जी ने कांग्रेस के उम्मीदवार को रिकॉर्ड 22000 मतों से चुनाव हराया था जो मध्य प्रदेश की रिकॉर्ड जीत थे । जिन चुनाव में चुनाव हारे उनमें हार-जीत का अंतर बहुत ही कम रहा जिससे समझ में आता है कि नन्ना जी की लोकप्रियता और जनता से जुड़ाव कितना गहरा रहा।