tiket
   Date06-Sep-2021

sd4_1  H x W: 0
मुजफ्फरनगर ठ्ठ 5 सितम्बर (ए)
भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसान महापंचायत में हुंकार भरते हुए कहा कि सिर्फ मिशन उप्र ही नहीं, हमें पूरे देश को बचाना है और किसानों की ही नहीं, अब अन्य मुद्दों को भी उठाना है।
संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर रविवार को यहां जीआईसी मैदान पर आयोजित विशाल किसान महापंचायत को सम्बोधित करते हुए श्री टिकैत ने कहा कि जब तक केन्द्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी, किसान आंदोलन जारी रहेगा। हम तब तक घर नहीं जाएंगे और वहां जमीन पर पैर भी नहीं रखेंगे। हमारा आंदोलन फतह होगा और यह देश के जवान और किसान की जीत होगी, तभी घर वापस आएंगे। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों से बात ही करना नहीं चाहती है। जब तक सरकार किसानों की मांग नहीं मानेगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।
उन्होंने कहा कि सरकार हमसे बात करने को तैयार नहीं है। सरकार ने किसानों से बात करना बंद कर दिया है। उन्होंने कहा कि अब किसानों के मुद्दे ही नहीं उठाने हैं, देश के सभी मुद्दो को उठाएंगे। अब उप्र नहीं, देश को बचाना है। उन्होंने कहा कि देश का किसान और नौजवान कमजोर नहीं है। उन्होंने केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए मनमानी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब देश की संस्थाएं बेची जा रही हैं। हम चुप नहीं रहेंगे। उन्होंने कहा कि वे तोडऩे का काम करते हैं तो हम लोगों को जोड़ते हैं।
श्री टिकैत ने कहा कि बड़े-बड़े लोग बैंकों का हजारों करोड़ रुपए लेकर भाग जाते हैं, उनका कोई कुछ नहीं कर पाता। उन्होंने कहा कि फसलों का दाम नहीं तो वोट भी नहीं। उन्होंने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को भी नहीं बख्शा और कहा- जनता बाहरी लोगों को अब बर्दाश्त नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार को हर हालत में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना ही होगा। उन्होंने कहा कि सरकार बताये कि इन कानूनों से किसान को क्या फायदा है, लेकिन सरकार नहीं बता रही है। यह कानून किसान के साथ-साथ व्यापारियों के और लोगों के हित में नहीं है। किसानों को कर्जा नहीं फसलों का लाभकारी भाव चाहिए। उन्होंने किसान हित में एमएसपी पर कानून की उनकी मांग रहेगी, लेकिन सरकार उनकी इस मांग पर कोई विचार नहीं कर रही है।