krishna
   Date06-Sep-2021

sd1_1  H x W: 0
टोक्यो ठ्ठ 5 सितम्बर (ए)
रविवार को टोक्यो पैरा ओलंपिक का रंगारंग समापन हो गया और भारत के हौसलों की उड़ान सातवें आसमान पर रही। इस बार भारत ने 5 स्वर्ण सहित 19 पदक जीते, जिसमें 8 रजत व 6 कांस्य पदक शामिल हैं। समापन समारोह में निशानेबाज अवनि लेखरा भारतीय दल की ध्वजवाहक बनीं। 19 साल की इस शूटर ने टोक्यो में एक स्वर्ण सहित दो पदक जीते। यह पैरा ओलंपिक में भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। अगला पैरा ओलंपिक 2024 में पेरिस में होगा। पैरा ओलंपिक खेलों के दौरान 163 देशों के लगभग 4500 खिलाड़ी 22 खेलों की 540 स्पर्धाओं में हिस्सा लिया।
उधर रविवार को आखिरी दिन बैडमिंटन में दो पदक और मिले। कृष्णा नागर ने भारत को पांचवां स्वर्ण दिलाया। वहीं नोएडा के डीएम सुहास यथिराज ने रजत जीता। बैडमिंटन के मिक्स्ड डबल्स में पलक कोहली और प्रमोद भगत की जोड़ी को फुजिहारा और सुगीनो की जोड़ी से हार का सामना करना पड़ा। इसके अलावा व्हीलचेयर के 50 मीटर मिस्क्ड एयर रायफल में अवनि लेखरा, दीपक और सिद्धार्थ बाबू भी पदक की दौड़ से बाहर हो गए।
समापन समारोह में 11 खिलाड़ी-समापन समारोह में भारत के 11 एथलीटों ने हिस्सा लिया। 24 अगस्त को उद्घाटन समारोह में 5 एथलीटों ने हिस्सा लिया था।
शॉटपुटर टेकचंद ध्वजवाहक थे। उन्होंने हाईजंपर मरियप्पन थांगवेलु की जगह ली थी। समापन में निशानेबाज अवनि लेखरा ने तिरंगा थामा।
बैडमिंटन में 7 खिलाड़ी गए, 4 ने जीते पदक
बैडमिंटन को पहली बार ओलंपिक में शामिल किया गया था। भारत से 7 खिलाडिय़ों ने विभिन्न कैटेगरी में भाग लिया। इनमें से चार खिलाडिय़ों ने पदक जीते। प्रमोद भगत और कृष्णा नागर ने स्वर्ण, जबकि सुहास यथिराज ने रजत और मनोज सरकार ने कांस्य पदक जीता।