gwalior
   Date27-Sep-2021

ty8_1  H x W: 0
ग्वालियर ठ्ठ 26 सितम्बर (वा)
मिहिर भोज प्रतिमा विवाद में दोनों पक्षों में सहमति बनने के बाद एक बार फिर विवाद भड़क गया। हाइकोर्ट के प्रतिमा ढंकने के आदेश पालन कराने के दौरान प्रशासन से झड़प हुई और विवाद हो गया। वहीं गुर्जर समाज के दो पक्षों में भी गोलीबारी हो गई,जिसके बाद पुलिस ने गुर्जर नेताओं को थाने बैठा दिया। प्रशासन को कानून व्यवस्था बनाए रखने के आदेश दिए गए हैं और कमेटी भी बन रही है, जिसमें अध्यक्ष संभाग के आयुक्त होंगे। उपद्रवियों व चक्काजाम करने वालों के करीब ढाई सौ नाम प्रशासन के पास हैं और रिकार्डिंग भी है। प्रशासन ने दोनों पक्षों से शांति रखने का भरोसा लिया था, लेकिन फिर भी उत्पात हुआ। अब कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह इस मामले में सख्त रूख अपनाते हुए कार्रवाई कराएंगे। उपद्रव करने वालों के घर तोड़े जाएंगे और संपत्ति कुर्क कर ली जाएगी। घर के अलावा दुकान या संस्थान है तो उस पर भी कार्रवाई होगी। प्रशासन ने इसकी तैयारी कर ली है। रासुका की घोषणा पहले ही की जा चुकी है। इंटरनेट मीडिया पर विशेष निगरानी है।
शिवपुरी लिंक स्थित चिरवाई नाके पर करीब एक माह पहले ग्वालियर सांसद विवेक शेजवलकर द्वारा सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का वर्चुअल अनावरण किया गया। इसके अगले ही दिन क्षत्रिय समाज ने प्रतिमा के पैडस्टल पर लगी पट्टिका पर उन्हें गुर्जर सम्राट लिखे जाने को लेकर आपत्ति दर्ज कराई। आठ सितंबर को इसके विरोध में गोला का मंदिर चौराहा पर धरना प्रदर्शन किया। इसके बाद गुर्जर समाज ने चिरवाई नाके जाम लगाकर प्रदर्शन किया। इसके बाद पिछले चार दिन से मुरैना में इस विवाद को लेकर दोनों समाज के युवा प्रदर्शन कर रहे हैं। विवाद की आग भिंड भी पहुंच गई है। दो दिन पहले 23 सितंबर को ग्वालियर प्रशासन ने दोनों समाजों को बुलाकर समझौता कराया था कि जब तक मामला कोर्ट में है, कोई भी समाज धरना प्रदर्शन नहीं करेगा। अगर कोई ऐसा करता है उसके खिलाफ प्रशासन सख्त कार्रवाई करेगा। हाईकोर्ट के प्रतिमा ढंकने के आदेश के बाद कुछ लोगों ने फिर से हंगामा शुरू कर दिया।