new delhi
   Date12-Sep-2021

fv4_1  H x W: 0
नई दिल्ली ठ्ठ 11 सितम्बर (ए)
संसद की एक स्थायी समिति ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय निर्यात की हिस्सेदारी बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा है कि नए बाजार तलाशने के साथ-साथ नई वस्तुएं और मूल्यवर्धन पर बल दिया जाना चाहिए। राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू को शनिवार को ऑनलाइन पेश की गई वाणिज्य विभाग संबंधी संसदीय स्थायी समिति की रिपोर्ट 'निर्यात को बढ़ावा निर्यात देने के लिए अवसंरचनात्मक सुविधाओं में वृद्धि किया जानाÓ में कहा गया है कि सरकार को बुनियादी ढांचे में सुधार के साथ-साथ आवागमन के संसाधनों को सुगम और प्रक्रियाएं सरल बनाई जानी चाहिए। राज्यसभा के सांसद विजय साईं रेड्डी इस समिति के अध्यक्ष हैं। समिति ने कहा है कि भारत को निर्यात प्रोत्साहन में अपने प्रयासों को तेज करना चाहिए। निर्यातक वस्तुओं की संख्या में वृद्धि करनी चाहिए और नए बाजार तलाश करने चाहिए। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था मंदी के प्रभाव से निकल सकेगी। समिति का मानना है कि भारतीय उत्पादों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए अपनी घरेलू विनिर्माण व्यवस्था में सुधार करने की जरूरत है। वाणिज्य विभाग को उचित उपाय करने, निर्यात के सकारात्मक वृद्धि दर और वैश्विक व्यापार में व्यापक हिस्सेदारी हासिल करने के लिए अपनी निर्यात रणनीतियों और नीतियों पर फिर से विचार करने की आवश्यकता है।
ठ्ठ समिति ने अपनी 39 पृष्ठ की अपनी रिपोर्ट में मालगाडिय़ों की रफ्तार बढ़ाने, दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे को शीघ्र पूरा करने, विशेष आर्थिक क्षेत्रों में सुविधाएं विकसित करने, आवेदन और अनुमोदन संबंधी प्रक्रिया में तेजी लाने तथा प्रौद्योगिकियों में सुधार करने की आवश्यकता बताई है। समिति ने जम्मू-कश्मीर से फल उत्पाद, पूर्वोत्तर से कृषि उत्पाद, आंध्रप्रदेश से मिर्च, सोलापुर से वस्त्र और बेंगलुरु से इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद के निर्यात पर विशेष ध्यान देने को कहा है।
ठ्ठ समिति ने आयातित वस्तुओं के मूल्यवर्धन पर जोर देते हुए कहा है कि इस प्रक्रिया में ढील दी जानी चाहिए और तेजी के साथ प्रमाणन किया जाना चाहिए। इसके अलावा आयातित वस्तुओं के निर्यात को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए। यूरोपीय संघ और अमेरिका के साथ मुक्त व्यापार समझौता करने पर बल देते हुए समिति ने सिफारिश की है कि इनकी बातचीत की प्रक्रिया तेज की जानी चाहिए।