भारत के भाल पर नीरज का स्वर्ण तिलक
   Date08-Aug-2021

ed1_1  H x W: 0
एथलेटिक्स में 100 साल का सूखा खत्म, 13 साल बाद ओलंपिक में स्वर्ण पदक, भाला फेंक मेें मिली सफलता
टोक्यो ठ्ठ 7 अगस्त (वा)
टोक्यो ओलंपिक में शनिवार को भारत के नीरज कुमार ने भाला फेक मुकाबले में भारत के भाल पर स्वर्णीम तिलक का इतिहास रचा। एथलेटिक्स में भारत का पदक जीतने का 100 साल का सपना पूरा हो गया। भारत के स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने शनिवार को अपने दूसरे प्रयास में 87.58 मीटर की थ्रो के साथ टोक्यो ओलंपिक में भाला फेंक स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतकर नया स्वर्णिम इतिहास रच दिया। नीरज ने ओलंपिक में भारत का पहला एथलेटिक्स पदक जीता और वह भी स्वर्ण पदक के रूप में। भारत ने इसके साथ ही ओलंपिक में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का कीर्तिमान बना डाला और लंदन में छह पदक जीतने के अपने पिछले सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को पीछे छोड़ दिया। भारत का इन खेलों में यह सातवां पदक था। भारत ने इससे पहले दो रजत और चार कांस्य पदक जीते थे। भारोत्तोलक मीराबाई चानू और पहलवान रवि कुमार दहिया ने रजत पदक जीते, जबकि महिला मुक्केबाज लवलीना बोर्गोहैन, बैडमिंटन स्टार पीपी सिंधु, भारतीय पुरुष हॉकी टीम और पहलवान बजरंग पुनिया ने कांस्य पदक जीते। बजरंग ने कुछ घंटे पहले ही कांस्य पदक जीता था, लेकिन उनके पदक में नीरज ने स्वर्णिम खुशी का रंग भर दिया। युवा एथलीट नीरज ने अपने दूसरे प्रयास में 87.58 मीटर की थ्रो फेंकी, जो अंत में उन्हें स्वर्ण पदक दिलाने वाली साबित हुई।
एथलेटिक्स में पहला स्वर्ण:-ट्रैक एंड फील्ड इवेंट्स यानी एथलेटिक्स में हर कोई पदक जीतना चाहता है, लेकिन नीरज से पहले कोई भारतीय इन इवेंट्स में पदक नहीं जीत पाया था। 100 साल में कोई भारतीय यह पदक नहीं जीत पाया था।
जर्मन कोच से ली है ट्रेनिंग
नीरज चोपड़ा ने अपनी थ्रोइंग स्किल्स को बेहतर बनाने के लिए जर्मनी के बायो मैकेनिक्स एक्सपर्ट क्लाउस बार्तोनित्ज से ट्रेनिंग ली है। इसके बाद उनके प्रदर्शन में निरंतरता आई है।
5 बड़ी प्रतियोगिता में जीत चुके हैं स्वर्ण
इंडियन आर्मी में काम करने वाले नीरज अपने कॅरियर में टोक्यो ओलंपिक से पहले 5 मेगा स्पोर्ट्स इवेंट में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं। उन्होंने एशियन गेम्स, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन चैम्पियनशिप, साउथ एशियन गेम्स और विश्व जूनियर चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल अपने नाम किया है।
वजन कम करने के लिए आए थे एथलेटिक्स में
नीरज चोपड़ा हरियाणा के पानीपत जिले के रहने वाले हैं। उन्होंने वजन कम करने के लिए एथलेटिक्स जॉइन की थी। जल्द ही वे एज ग्रुप प्रतियोगिताओं में अच्छा परफॉर्म करने लगे और कई टूर्नामेंट में जीत हासिल की। 2016 में उन्होंने इंडियन आर्मी जॉइन की।