संघ के 11 क्षेत्रों के प्रचारकों की बैठक आज से चित्रकूट में
   Date09-Jul-2021

cv1_1  H x W: 0
चित्रकूट ठ्ठ 8 जुलाई (विप्र)
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 11 क्षेत्रों के 'क्षेत्र प्रचारकोंÓ और 'सह क्षेत्र प्रचारकोंÓ की बैठक मध्यप्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट में नौ और दस जुलाई को आयोजित होगी, जिसमें सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत भी उपस्थित रहेंगे।
शुक्रवार से प्रारंभ होकर दो दिनों तक चलने वाली इस बैठक में सरसंघचालक श्री भागवत के अलावा सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले और सभी पांच सहसरकार्यवाह विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। बैठक में संघ के सातों कार्य विभाग के अखिल भारतीय प्रमुख और सह प्रमुख भी शामिल होंगे। अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक इन दिनों चित्रकूट में चल रही है, जो छह जुलाई से प्रारंभ होकर 13 जुलाई तक चलेगी। इस दौरान विभिन्न सत्रों में अलग-अलग बैठकें आयोजित की जाएंगी और कोरोना संबंधी दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखकर कुछ कार्यकर्ता प्रत्यक्ष रूप से और कुछ ऑनलाइन तरीके से जुड़ रहे हैं। संघ की इस तरह की बैठक प्रतिवर्ष सामान्यत: जुलाई माह में आयोजित होती है, लेकिन पिछले पिछले वर्ष चित्रकूट में प्रस्तावित बैठक बैठक कोरोना की परिस्थितियों के कारण नहीं हो पाई थी। इस वर्ष भी यह बैठक चित्रकूट में कोरोना संबंधी नियमों को ध्यान में रखकर आयोजित की जा रही है।
12-13 जुलाई को आभासी बैठक-बैठक के क्रम में 12 जुलाई को देशभर में संघ की रचना के अनुसार सभी 45 प्रांतों के प्रांत प्रचारक और सह प्रांत प्रचारक आभासी (ऑनलाइन) माध्यम से जुड़ेंगे। वहीं 13 जुलाई को विविध संगठन के अखिल भारतीय संगठन मंत्री आभासी माध्यम से बैठक में सहभागी होंगे। संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुनील आम्बेकर के अनुसार यह बैठक
सामान्यत: संगठनात्मक विषयों पर केंद्रित रहेगी। साथ ही कोरोना के संक्रमण से पीडि़त लोगों की सहायता के लिए स्वयंसेवकों द्वारा किए गए देशव्यापी सेवा कार्यों की समीक्षा की जाएगी। बैठक में कोरोना की संभावित तीसरी लहर के प्रभाव का आकलन करते हुए, इससे निपटने के संबंध में आवश्यक कार्य योजना पर विचार होगा। इस दृष्टि से आवश्यक प्रशिक्षण एवं तैयारी पर भी विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अनलॉक की प्रक्रिया में धीरे-धीरे सामान्य हो रहे जनजीवन को देखते हुए संघ शाखाओं के संचालन की समीक्षा तथा योजनाओं पर बैठक में चर्चा अपेक्षित है। संघ शिक्षा वर्ग तथा विभिन्न प्रकार के संघ कार्यों का आकलन करते हुए नई योजनाओं पर विचार किया जाएगा।