टोक्यो ओलंपिक में तिरंगा देख रोमांचित हुआ देश
   Date26-Jul-2021

cv1_1  H x W: 0
मन की बात : टीका लगवाने वालों को मुफ्त छोले-भटूरे खिलाने वाले को मोदी ने सराहा
नई दिल्ली ठ्ठ 25 जुलाई (ए)
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड टीका लगवाने वालों को मुफ्त छोले-भटूरे खिलाने वाले फूड स्टॉल चलाने वाले की सराहना की है।
उधर प्रधानमंत्री ने कहा है कि टोक्यो ओलंपिक में भारतीय तिरंगा झंडा देखकर पूरा देश उत्साहित है। दो दिन पहले की कुछ अद्भुत तस्वीरें, कुछ यादगार पल, अब भी मेरी आंखों के सामने हैं। टोक्यो ओलंपिक में भारतीय खिलाडिय़ों को तिरंगा लेकर चलते देखकर मैं ही नहीं, पूरा देश रोमांचित हो उठा। पूरे देश ने जैसे एक होकर अपने इन योद्धाओं से कहा- विजयी भव:, विजयी भव:। जब ये खिलाड़ी भारत से गए थे, तो मुझे इनसे बातचीत करने का, उनके बारे में जानने और देश को बताने का अवसर मिला था।
श्री मोदी ने आकाशवाणी पर आज मन की बात कार्यक्रम में चंडीगढ़ शहर की खूबसूरती की सराहना करते हुए कहा- चंडीगढ़ में मैं भी कुछ वर्षों तक रह चुका हूं। यह बहुत खुशमिजाज और खूबसूरत शहर है।
यहां रहने वाले लोग भी दिलदार हैं और हां, अगर आप खाने के शौक़ीन हो, तो यहां आपको और आनंद आएगा। उन्होंने कहा- इसी चंडीगढ़ के सेक्टर 29 में संजय राणाजी फूड स्टॉल आइडिया चलाते हैं और साइकिल पर छोले-भटूरे बेचते हैं। एक दिन उनकी बेटी रिद्धिमा और भतीजी रिया एक आइडिया के साथ उनके पास आई। दोनों ने उनसे कोविड टीका लगवाने वालों को फ्री में छोले-भटूरे खिलाने को कहा। वे इसके लिए खुशी-खुशी तैयार हो गए। उन्होंने तुरंत ये अच्छा और नेक प्रयास शुरू भी कर दिया। संजय राणाजी के छोले-भटूरे मुफ्त में खाने के लिए आपको दिखाना पड़ेगा कि आपने उसी दिन टीका लगवाया है। टीके का संदेश दिखाते ही वे आपको स्वादिष्ट छोले-भटूरे दे देंगे। कहते हैं, समाज की भलाई के काम के लिए पैसे से ज्यादा सेवाभाव, कर्तव्यभाव की ज्यादा आवश्यकता होती है। हमारे संजय भाई, इसी को सही साबित कर रहे हैं। उन्होंने तमिलनाडु के नीलगिरी में वहां राधिका शास्त्रीजी के एम्बुरेक्स प्रोजेक्ट की शुरुआत की चर्चा करते हुए कहा कि इस प्रोजेक्ट का मकसद है, पहाड़ी इलाकों में मरीजों को इलाज के लिए आसान ट्रांसपोर्ट उपलब्ध कराना। राधिका कुन्नूर में एक कैफे चलाती हैं। उन्होंने अपने साथियों की मदद से पूंजी जुटाई। नीलगिरी पहाडिय़ों पर आज छह एम्बुरेक्स सेवारत हैं और दूरदराज़ के हिस्सों में इमरजेंसी के समय मरीजों के काम आ रही हैं।