दूसरी लहर में पहला डोज लेने पर मौत का खतरा 82, दूसरे से 95 फीसदी कम हुआ
   Date17-Jul-2021

az5_1  H x W: 0
से 95 फीसदी कम हुआ
नई दिल्ली ठ्ठ 16 जुलाई (वा)
देश में कोरोना की स्थिति लगातार सुधर रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि देश में कोविड वैक्सीनेशन की 39.4 करोड़ डोज का आंकड़ा पार हो गया है। पहली डोज में 31.6 करोड़ वैक्सीन लगाई गई, वहीं दूसरी डोज में 7.92 करोड़ वैक्सीन लगी। दूसरी लहर के दौरान वैक्सीनेशन की वजह से डेथ रेट कम करने में मदद मिली।
स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के मुताबिक 10 मई को कोरोना के सक्रिय मामले लगभग 37 लाख थे, जो अब घटकर तकरीबन 4,30,000 रह गए हैं। लव अग्रवाल ने बताया कि 12 मई को कोरोना से रिकवरी को रेट 83 फीसदी था, जो अब बढ़कर 97.3 फीसदी हो गया है। मई के पहले हफ्ते में 531 जिलों में रोजाना 100 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे थे। अब देश में ऐसे सिर्फ 73 जिले रह गए हैं। उन्होंने बताया कि रोजाना लगभग 18 लाख टेस्ट भी कराए जा रहे हैं।
वैक्सीनेशन से कम हुई मृत्यु दर-नीति आयोग के स्वास्थ्य विभाग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने बताया कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान वैक्सीन की पहली डोज से मृत्यु दर में 82 प्र. तक कमी आई, वहीं दूसरी डोज से 95 प्र. मौतों को रोका जा सका।
101 दिन में सबसे कम रही कोरोना से दैनिक मौतों की संख्या
नई दिल्ली ठ्ठ देश में कोरोना वायरस को लेकर राहतभरी खबर है, क्योंकि पिछले 24 घंटों के दौरान इस संक्रमण के 542 लोगों की मौत हुई है, जो इस जानलेवा विषाणु के कारण होने वाली मौतों के हिसाब से 101 दिन में सबसे कम है। इससे पहले देश में छह अप्रैल को इस जानलेवा विषाणु के कारण होने वाली मौतों की संख्या पांच सौ से कम रही थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में कोरोना के 38,949 नए मामले सामने आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर तीन करोड़ 10 लाख 26 हजार 829 हो गया है।
इस दौरान 40 हजार 26 मरीजों के स्वस्थ होने के बाद इस महामारी को मात देने वालों की कुल संख्या बढ़कर तीन करोड़ एक लाख 83 हजार 876 हो गई है। सक्रिय मामले 1619 घटकर चार लाख 30 हजार 422 हो गए हैं। इसी अवधि में 542 मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर चार लाख 12 हजार 531 हो गया है। देश में सक्रिय मामलों की दर 1.39 फीसदी, रिकवरी दर 97.28 फीसदी और मृत्यु दर 1.33 फीसदी पर बनी हुई है।