पर्यटकों की उमड़ती भीड़ चिंताजनक
   Date14-Jul-2021

gh1_1  H x W: 0
कोरोना के हालात पर पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से प्रधानमंत्री मोदी ने की बात
नई दिल्ली ठ्ठ 13 जुलाई (ए)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पूर्वोत्तर राज्यों में कोरोना के हालात पर चर्चा की। इसमें असम, मणिपुर, अरुणाचलप्रदेश, मिजोरम, मेघालय, सिक्किम, त्रिपुरा और नागालैंड के मुख्यमंत्री शामिल हुए। इस दौरान मोदी ने संभावित तीसरी लहर पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि हिल स्टेशन, मार्केट में बिना मास्क और प्रोटोकॉल को नजरअंदाज कर भारी भीड़ का उमडऩा ठीक नहीं है। पर्यटकों की उमड़ती भीड़ यह भीड़ हमारे लिए चिंता का विषय है। कुछ लोग सीना तानकर बोलते हैं कि तीसरी लहर आने से पहले एन्जॉय करना चाहते हैं। लोगों को समझना होगा कि तीसरी लहर अपने आप नहीं आएगी। सवाल होना चाहिए कि इसे कैसे रोकना है? प्रोटोकॉल का पालन कैसे करना है? कोरोना अपने आप नहीं आता, कोई जाकर ले आए, तो आता है। हम सावधानी बरतेंगे, तो ही इसे रोक पाएंगे।
प्रिवेंशन और ट्रीटमेंट बहुत जरूरी:-हमें वायरस के हर वैरिएंट पर नजर रखनी होगी। संक्रमण को रोकने के लिए हमें माइक्रो-लेवल पर और सख्त कदम उठाने होंगे। ये बहरूपिया है। बार-बार रंग-रूप बदलता है। म्यूटेशन के बाद यह कितना परेशान करने वाला होगा। इस पर एक्सपर्ट स्टडी कर रहे हैं। प्रिवेंशन और ट्रीटमेंट बहुत जरूरी है। इस पर हमें अपना पूरा फोकस रखना है। वायरस का प्रहार दो गज की दूरी, मास्क और टीकाकरण के कवरेज के आगे फीका पड़ जाएगा।
अनुभव का इस्तेमाल करना होगा :- हेमंत बिस्व सरमा बता रहे थे कि उन्होंने 6 हजार से ज्यादा माइक्रो-कंटेनमेंट जोन बनाए। इससे जिम्मेदारी तय होती है। माइक्रो-कंटेनमेंट जोन पर जितना जोर लगाएंगे, हम इस परिस्थिति से उतना जल्दी बाहर आएंगे। पिछले डेढ़ साल में जो अनुभव मिले हैं, उनका इस्तेमाल करना होगा। राज्यों और जिलों में कई इनोवेशन किए गए हैं, इन्हें जारी रखना होगा।
टीकाकरण की रफ्तार बढ़ानी होगी :-एक्सपर्ट बार-बार चेतावनी दे रहे हैं कि असावधानी, लापरवाही और भीड़भाड़ से कोरोना संक्रमण में भारी उछाल आ सकता है। जरूरी है कि हर स्तर पर कदम गंभीरता से उठाए जाएं। अधिक भीड़ वाले जो कार्यक्रम रुक सकते हैं, उन्हें रोकना चाहिए। केंद्र सबको मुफ्त टीका मुहैया करा रहा है। तीसरी लहर के लिए टीकाकरण को तेज करना होगा। सिलेब्रिटी, धर्म, शिक्षा और हर क्षेत्र से जुड़े लोग टीकाकरण के लिए लोगों को जागरूक करें।
नए हेल्थ पैकेज का भी जिक्र :-हमें टेस्टिंग और ट्रीटमेंट के इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार करते हुए आगे चलना है। कैबिनेट ने 23 हजार करोड़ रुपए का नया पैकेज दिया है। नॉर्थ-ईस्ट के हर राज्य को इस पैकेज से अपने हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने में मदद मिलेगी। जहां केस बढ़ रहे हैं, वहां आईसीयू बेड बढ़ाने में मदद मिलेगी। ऑक्सीजन पर काम करना होगा।
नॉर्थ-ईस्ट के लिए 150 ऑक्सीजन प्लांट मंजूर :-देशभर में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। नॉर्थ-ईस्ट के लिए 150 प्लांट स्वीकृत हुए हैं। ये जल्द पूरे हों और बाधा न आए। स्किल्ड मैनपावर को भी तैयार कर लीजिए। भौगोलिक स्थिति को देखते हुए अस्थाई अस्पताल बनाना भी बहुत जरूरी है।
टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाना होगा :-ट्रेंड मैनपावर की जरूरत है। आईसीयू बेड, ऑक्सीजन बेड, नए अस्पतालों के लिए ट्रेंड मैनपावर जरूरी है। इससे जुड़ी हर मदद केंद्र सरकार देगी। पूरे देश में 20 लाख से अधिक टेस्ट रोजाना करने की क्षमता हासिल कर चुके हैं। नॉर्थ-ईस्ट के हर जिलों में टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाना होगा। रैंडम टेस्टिंग के साथ अग्रेसिव टेस्टिंग करनी होगी।