प्रदेश में माइनिंग गतिविधियों को प्रोत्साहित किया जाएगा- शिवराज
   Date10-Jul-2021

vb7_1  H x W: 0
मुख्यमंत्री ने केंद्रीय खनिज मंत्री जोशी से प्रदेश के खनिज संबंधित विषयों पर की चर्चा
भोपाल ठ्ठ 9 जुलाई (ब्यूरो)
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि कोविड से अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। खनिज गतिविधियां अर्थव्यवस्था को गति देती हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को पूरा करने में अधिकतम सहयोग करना हमारा संकल्प है। प्रदेश में माइनिंग गतिविधियों को गति देने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। हमारा प्रयास होगा कि वर्ष 2022 तक प्रदेश में एक सौ से अधिक खनिज ब्लाक्स की नीलामी हो।
मुख्यमंत्री श्री चौहान केंद्रीय खनिज मंत्री प्रहलाद जोशी से प्रदेश के खनिज संबंधित विषयों पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा कर रहे थे। वीडियो कॉन्फ्रेंस में दिल्ली से केन्द्रीय खनिज राज्यमंत्री राव साहब दानवे भी शामिल हुए। प्रदेश के खनिज मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव खनिज संसाधन सुखवीर सिंह भी उपस्थित थे।
प्रदेश में कोल गैसीफिकेशन की आवश्यकता -मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोयले के भंडार प्रचुर मात्रा में हैं। प्रदेश में कोयला खनन का कार्य भारत सरकार की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा किया जा रहा है। मध्यप्रदेश में इन कंपनियों को कोल गैसीफिकेशन और लिक्विडिफिकेशन के लिए कार्य करने के निर्देश दिए जाएं। इससे पर्यावरण संरक्षण और ऊर्जा के स्रोत को समृद्ध करने में मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग द्वारा बैतूल और छतरपुर जिले में दुर्लभ खनिजों की खोज के लिए सर्वे जारी है। यह कार्य समय-सीमा में पूर्ण किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने चूना पत्थर की रॉयल्टी दरों को पुनरीक्षित करने का अनुरोध भी किया।