वित्तवर्ष 2021-22 में 8.5 प्रतिशत रहेगी विकास दर
   Date11-Jun-2021

ws5_1  H x W: 0
नई दिल्ली ठ्ठ 10 जून (ए)
साख निर्धारक एजेंसी इक्रा ने चालू वित्त वर्ष में देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की विकास दर 8.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जारी किया है।
इक्रा ने आज एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि वित्त वर्ष 2021-22 में जीडीपी विकास दर 8.5 प्रतिशत और सकल मूल्यवर्धन 7.3 प्रतिशत रहेगा। उसने पहली तिमाही में विकास दर 14.9 प्रतिशत, दूसरी तिमाही में आठ प्रतिशत, तीसरी तिमाही में 5.6 प्रतिशत और चौथी तिमाही में सात प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया है। एजेंसी का कहना है कि यदि कोविड-19 के टीकाकरण में तेजी आती है तो तीसरी और चौथी तिमाही में जीडीपी तेजी से बढ़ेगा और पूरे वित्त वर्ष के लिए विकास दर 9.5 प्रतिशत पर भी पहुंच सकती है।
इक्रा की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर और राज्य सरकारों द्वारा जारी प्रतिबंधों का प्रभाव अप्रैल और मई के कई आर्थिक आंकड़ों पर दिखाई दिया। महामारी के नए मामलों में आ रही कमी और राज्यों द्वारा प्रतिबंधों में क्रमिक छूट को देखते हुए हमने वित्त वर्ष 2021-22 में विकास दर 8.5 प्रतिशत पर रहने का पूर्वानुमान लगाया है। इक्रा ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सामान्य मानसून के पूर्वानुमान से फसल उत्पादन बढऩे की उम्मीद तथा प्रवासियों के पिछले साल के मुकाबले गांवों की ओर लौटने में कमी के बावजूद ग्रामीण मांग और ग्राहक धारणा कमजोर बनी हुई है। इसका कारण ग्रामीण मुद्रास्फीति का तेजी से बढऩा और ईंधनों की महंगाई के कारण लोगों के पास व्यय योग पूंजी में कमी है।