गांव वालों ने भी माना डॉ. संध्या घर-घर पर्चे देने आई थीं
   Date25-May-2021

df4_1  H x W: 0
मामला बाजना में ईसाई धर्म की प्रार्थना से कोरोना दूर करने का
बाजना/रतलाम ठ्ठ 24 मई (स्वदेश समाचार)
बाजना में किल कोरोना अभियान में ईसाई धर्म की प्रार्थना से मरीजों का कोरोना दूर करने का प्रचार करने वाली डॉ. संध्या तिवारी की संविदा सेवा समाप्त होगी। इसकी तैयारी स्वास्थ्य विभाग ने प्रारंभ कर दी है। मामले में जांच प्रतिवेदन भी एसडीएम कामिनी ठाकुर ने कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम को भेजा है। इस प्रतिवेदन में भी प्राथमिकतौर पर ईसाई धर्म प्रचार की बात सही पाई गई है। इधर नए खुलासे में यह जानकारी भी मिली है कि डॉ. संध्या इसके पहले भी बाजना में घर-घर ईसाई धर्म प्रचार के पर्चे बांटने गई थीं।
उक्त घटना के बाद गांव के 50 प्रतिशत से अधिक लोगों का यह कहना था कि डॉ. संध्या तिवारी हमारे घर पर भी पर्चे देकर गई है, लेकिन किसी ने भी उक्त पर्चे पर आपत्ति उस समय नहीं जताई थी। पर्चे को पढ़कर अपने घर में रख लिया। यहां जागरूकता की कमी नजर आती है या फिर धर्मांतरण के दुष्चक्र से अनभिज्ञ होना दर्शाता है। डॉ. संध्या के पास मिले पर्चे में 'प्रभु ईशु को उद्धारकर्ता के रूप में ग्रहण करनेÓ और 'जो ईशु में विश्वास करेगा वो बचाया जाएगा।Ó जैसी बातें लिखी है। इससे संबंधित एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ है जिसमें पर्चा बांटने पर कोई आपत्ति ले रहा है और डॉ. संध्या डाईट प्लान की जानकारी देने की बात कहने के बजाय ऐसा प्रचार करती नजर आ रही है। हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने आपत्ति लेते हुए शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस मामले की जांच कर चुकी है। बाजना टीआई दिलीप राजोरिया ने शिकायत मिलने की पुष्टि की है।