महाराष्ट्र में ताउते ने मचाई तबाही
   Date18-May-2021

ed2_1  H x W: 0
गुजरात के तट से टकराया चक्रवात, तेज हवा के साथ हो रही भारी बारिश
6 लोगों की मौत, हजारों घर ढहे, सैकड़ों पेड़ उखड़े
अहमदाबाद/मुंबई ठ्ठ 17 मई (वा)
अरब सागर से उठा चक्रवात तउवते गुजरात तट से टकरा गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, इसकी लैंडफॉल प्रोसेस शुरू हो चुकी है। यह अगले 2 घंटे तक जारी रहेगी। इसके असर से 4 जिलों में तेज हवा और बारिश शुरू हो गई है। नवसारी जिले के कई इलाकों में तेज बारिश हुई है। एहतियात के तौर पर कांठा संभाग के 16 गांवों में बिजली काट दी गई है।
गिर सोमनाथ के ऊना में तेज हवा से करीब 200 पेड़ उखड़ गए हैं। इससे बिजली सप्लाई पर असर पड़ा है। वेरावल, सोमनाथ, ऊना, कोडिनार में 80 से 130 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चल रही है। उधर, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ताजा हालात जानने के लिए गांधीनगर के स्टेट कंट्रोल रूम पहुंचे। उन्होंने कलेक्टरों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तटीय जिलों समेत राज्य की स्थिति की समीक्षा की। उधर महाराष्ट्र में तूफान ताउते के चलते अब तक 6 लोगो की मौत हुई है और 9 लोग घायल हैं। 4 जानवरों की भी मौत हुई है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने तूफान के चलते हुए नुकसान कार्यों का जायजा लिया है। उन्होंने तुरंत राहत कार्य तेजी से करने का आदेश दिया है। इस दौरान करीब 13 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन से गिरे हुए पेड़ों, गिरे हुए बिजली के खंभों को तुरंत हटाने और गांवों की ओर जाने वाली सड़कों को भी सही करने को कहा, ताकि यातायात सुचारु हो सके। यह तूफान दोपहर साढ़े 12 बजे दीव तट से 162 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में स्थित था और इससे पहले के छह घंटे के दौरान 17 किमी प्रति घंटा की गति से आगे बढ़ रहा था।
इसके गुजरात तट के और करीब पहुंचने के दौरान हवाओं की रफ्तार 155 से लेकर 185 किमी प्रति घंटा तक हो सकती है। इसके साथ तटीय गुजरात में भावनगर, बोटाद, वलसाड, नवसारी, गिर सोमनाथ, अमरेली, जूनागढ़ आदि में भारी से अति भारी और कहीं-कहीं अत्यंत भारी वर्षा हो सकती है। इसके अलावा अहमदाबाद, वडोदरा, भरूच, वलसाड आदि में भारी से अति भारी वर्षा भी हो सकती है।
तूफान के असर से पिछले 80 से अधिक तालुका में बरसात हुई है। तटवर्ती इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कल मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के साथ बात कर तूफान से बचाव और राहत आदि के बारे में विस्तार से जानकारी ली। वह स्थिति पर सतत नजर बनाए हुए हैं। आज सुबह छह बजे तक 17 जिलों के 655 गांवों से डेढ़ लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित किया जा चुका था। इस दौरान कोरोना संबंधी सभी मानकों का पालन किया गया। तूफान के सम्भावित असर वाले जिलों में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं। सम्भावित इलाकों में बिजली आपूर्ति पर असर की आशंका के मद्देनजर जरूरी पॉवर बैकअप की व्यवस्था की जा रही है।
तट से टकराने के बाद कमजोर होगा तूफान
तूफान के गुजरने पर सबसे ज्यादा बारिश रत्नागिरी (400 मिमी) और गोवा में (300 मिमी) दर्ज हुई है। तटीय इलाकों में 60-70 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। तट से टकराने के बाद तूफान कमजोर होता जाएगा। गुजरात में इसके असर से मंगलवार को भी दिनभर भारी बारिश हो सकती है। राजस्थान पहुंचते-पहुंचते तूफान कमजोर होते-होते डीप डिप्रेशन में बदलेगा। 18 मई की दोपहर तक कम दबाव के क्षेत्र में बदलते हुए हिमालय की ओर बढ़ जाएगा।