गैंगस्टर मुख्तार को रोपड़ से बांदा के लिए लेकर निकली पुलिस
   Date07-Apr-2021

cf3_1  H x W: 0
रोपड़/बांदा ठ्ठ 6 अप्रैल (ए)
पंजाब की रोपड़ जेल में बंद उत्तरप्रदेश के गैंगस्टर विधायक मुख्तार अंसारी को एम्बुलेंस में लेकर पुलिस बांदा जेल के लिए निकल चुकी है। आज 26 महीने बाद मुख्तार की उत्तरप्रदेश में वापसी हो रही है। टीम रोपड़ से दोपहर 2.20 बजे रवाना हुई, जो करीब 882 किमी का रास्ता तय करके अंसारी को बांदा लेकर पहुंचेगी। पुलिस के काफिले में करीब 10 गाडिय़ां हैं। इनमें से आधी एम्बुलेंस के आगे तो आधी पीछे चल रही थीं। इन गाडिय़ों में कुल 150 पुलिसकर्मी हैं। पुलिस टीम के रास्ते में पडऩे वाले सभी जिलों में अलर्ट घोषित किया गया है। जेल के बाहर सख्त बैरिकेडिंग की गई थी। मुख्तार को हैंडओवर करने से पहले उसका कोरोना टेस्ट कराया गया। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद हैंडओवर की प्रक्रिया शुरू की गई। 8 जनवरी 2019 को मोहाली के एक बड़े बिल्डर की शिकायत पर वहां की पुलिस ने अंसारी के खिलाफ 10 करोड़ की फिरौती मांगने का केस दर्ज किया था। 12 जनवरी को प्रोडक्शन वारंट हासिल करने के लिए पुलिस कोर्ट पहुंची। 21 जनवरी 2019 को मोहाली पुलिस मुख्तार अंसारी को प्रोडक्शन वारंट पर उत्तरप्रदेश से मोहाली ले आई। 22 जनवरी को कोर्ट ने उसे एक दिन की रिमांड पर भेज दिया। 24 जनवरी को उसे न्यायिक हिरासत में रोपड़ जेल भेज दिया गया। 2 साल में उत्तरप्रदेश पुलिस की टीम 8 बार अंसारी को लेने पंजाब गई, लेकिन हर बार सेहत, सुरक्षा और कोरोना का कारण बताकर पंजाब पुलिस ने सौंपने से इनकार कर दिया। पंजाब पुलिस डॉक्टर की सलाह का हवाला देती रही कि अंसारी को डिप्रेशन, शुगर, रीड़ की बीमारियां हैं। ऐसे में उसे कहीं और शिफ्ट करना ठीक नहीं है। कानपुर में बिकरु कांड के आरोपी विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद अंसारी ने जान का खतरा बताया था, उसने पत्र लिखकर आशंका जताई थी कि जैसे दुबे की जीप पलट गई और जान चली गई, ऐसा मेरे भी साथ हो सकता है।
मुख्तार अंसारी का क्राइम रिकॉर्ड-एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि मुख्तार अंसारी पर उत्तरप्रदेशभर में 52 केस दर्ज हैं। 15 विचाराधीन केस में मुख्तार को जल्द सजा दिलाए जाने का प्रयास जारी है। मुख्तार अंसारी के बिहार के सहाबुद्दीन गैंग से भी संपर्क में हैं। अंसारी और उसके गैंग की 192 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियों के जब्तीकरण और ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की गई। मुख्तार गैंग की अवैध और बेनामी संपत्तियों का चिन्हीकरण लगातार जारी है। मुख्तार गैंग के अब तक 96 अभियुक्त गिरफ्तार किए जा चुके हैं। 75 गुर्गों पर गैंगेस्टर की कार्रवाई उप्र पुलिस ने की है। मुख्तार गैंग के 72 सहयोगियों के शस्त्र लाइसेंसों का निरस्तीकरण किया गया। मुख्तार गैंग से जुड़े 7 ठेकेदारों पर भी कार्रवाई की गई।