ऑक्सीजन आपातकाल
   Date29-Apr-2021

rd7_1  H x W: 0
केंद्र सरकार खरीदेगी प्रधानमंत्री केयर्स फंड से 1लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और 500 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट
नई दिल्ली ठ्ठ 28 अप्रैल (ए)
देश में ऑक्सीजन को लेकर स्थिति अपातकाल जैसी निर्मित हो गई है, इसको लेकर केन्द्र की मोदी सरकार ने बड़ी पहल की है। केंद्र सरकार ने पीए केयर्स फंड से 1 लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और 500 प्रेशर स्विंग एडसोर्पशन (पीएस), ऑक्सीजन प्लांट खरीदने का फैसला किया है।
पीएमओ के मुताबिक, केंद्र सरकार ने पहले से ही 713 पीएसए प्लांट के ऑर्डर दिए हुए हैं। बुधवार को फिर 500 प्लांट के नए ऑर्डर दिए गए। पीएसए प्लांट से देश के टीयर-2 शहरों खासकर जिला मुख्यालयों में ऑक्सीजन की कमी को दूर किया जा सकेगा। प्रधानमंत्री ने अफसरों से कहा है कि इन ऑर्डर को जल्द से जल्द पूरा कर राज्यों को भेजा जाए, ताकि ऑक्सीजन की हो रही कमी को पूरा किया जा सके।
अगले तीन महीने में होंगे तैयार-पीेस प्लांट घरेलू मैन्यूफैक्चरर्स तैयार करेंगे। इन कंपनियों को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) और वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीआरआईएफ) द्वारा विकसित तकनीक सौंपी जाएगी। डीआरडीओ अगले तीन महीने में इन्हें देशभर में लगाएगा। पीएमओ ने बताया कि पीएस प्लांटों की स्थापना और पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स की खरीद से डिमांड क्लस्टर्स के पास ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ेगी।
इससे प्लांटों से अस्पतालों तक ऑक्सीजन पहुंचाने में मौजूदा लॉजिस्टिक चुनौतियां कम होंगी। ष्ठक्रष्ठह्र दिल्ली के ्रढ्ढढ्ढरूस्, राम मनोहर लोहिया, लेडी हार्डिंग और सफदरजंग अस्पताल में इसी तरह के प्लांट 10 मई तक तैयार कर देगी।
रेलवे ने 4 राज्यों को 510 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई की-
रेलवे भी राज्यों को जल्द से जल्द मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस चला रही है। 19 अप्रैल को पहली बार मुंबई से विजाग के लिए ट्रेन भेजी गई। अब तक चार राज्यों को 510 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई की जा चुकी है। इसमें उत्तर प्रदेश को 202 रूञ्ज, महाराष्ट्र को 174 रूञ्ज, दिल्ली को 70 रूञ्ज और मध्यप्रदेश को 64 रूञ्ज मेडिकल ऑक्सीजन भेजा गया है।