संजीवनी सिद्ध हो रहा टीका
   Date22-Apr-2021

qa1_1  H x W: 0
बड़ी राहत : दवा से कोरोना हो रहा हवा- टीकाकरण के बाद 10 हजार में सिर्फ 3 लोग ही संक्रमित
नई दिल्ली ठ्ठ 21 अप्रैल (ए)
एक तरफ देश में कोरोना ने हाहाकार मचा रखा है, तो दूसरी तरफ देश में टीकाकरण अभियान संजीवनी सिद्ध हो रहा है। एक मई से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण का ऐलान भी हो चुका है। अब सरकार ने जो ताजा आंकड़े दिए हैं, उससे चंद लोगों में भी जो टीकाकरण को लेकर आशंकाएं हैं, वे भी कम होंगी। दरअसल, केंद्र ने बुधवार को आंकड़े जारी करके बताया है कि जिन लोगों ने टीकाकरण की दोनों डोज लगवा ली है, उनमें सिर्फ 5500 लोग ही कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। यानी कि दस हजार में सिर्फ तीन लोग ही संक्रमित पाए गए हैं।
कोविशील्ड की साढ़े 11 करोड़ से अधिक खुराकें दी गईं
सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा बनाई जा रही ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड की साढ़े 11 करोड़ से अधिक डोज लगाई जा चुकी हैं। सरकार द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, 10,03,02,745 पहली डोज लगाई गई हैं, जबकि इसमें से 17145 (0.02 फीसदी) पॉजिटिव हुए हैं। वहीं, दूसरी डोज 15732754 दी गई हैं, जिसमें से 5014 लोग कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। यह सिर्फ 0.03 फीसदी है। सरकार के इन आंकड़ों से साफ है कि टीके की दोनों डोज लगवाने वाले लोगों को कोरोना की दूसरी लहर में काफी राहत मिली है और संक्रमित होने वालों की संख्या काफी कम है।
गंभीर बीमारी होने से रोकता है टीका- टीका कोरोना के गंभीर संक्रमण से भी बचाता है। एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बुधवार को बताया टीका आपको गंभीर संक्रमण से बचाता है। हो सकता है कि यह आपको संक्रमित होने से न बचाए। यह समझना जरूरी है कि टीके के बाद भी पॉजिटिव रिपोर्ट आ सकती है, इस लिए टीका लगने के बाद भी मास्क पहनना जरूरी है। उधर, सरकार ने बताया कि अभी यह देखने का समय नहीं है कि हमने क्या तैयारी की है और कहां चूक हुई, आज महामारी का एकजुट होकर मुकाबला करने का और इससे उबरने का समय है।
किस उम्र के कितने लोग दूसरी लहर में हुए संक्रमित- सरकार ने बताया कि तीस साल या उससे अधिक उम्र के लोगों में पहली लहर में कोविड-19 के 67.5 फीसद मामले आए थे, वहीं दूसरी लहर में इस आयुवर्ग के 69.18 प्रतिशत मामले आए हैं। महामारी की पहली लहर में 20 से 30 साल के आयुवर्ग में कोविड-19 के 20.41 प्रतिशत मामले आए, जबकि दूसरी लहर में इस आयुवर्ग के 19.35 प्रतिशत मामले रहे। महामारी की पहली लहर में 10 से 20 साल के आयुवर्ग में कोविड-19 के 8.07 प्रतिशत मामले मिले थे। दूसरी लहर में 8.50 प्रतिशत मामले सामने आए हैं।