मीठी नदी से 2 नंबर प्लेट, कम्प्यूटर सीपीयू, हार्ड डिस्क व डीवीआर बरामद
   Date29-Mar-2021

rd3_1  H x W: 0
एंटीलिया मामले में एनआईए को बड़ी सफलता
मुंबई ठ्ठ 28 मार्च (ए)
उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास मिली विस्फोटक वाली कार और इसके मालिक मनसुख हिरेन की हत्या को लेकर गिरफ्तार एपीआई सचिन वाझे के कई राज मीठी नदी से बाहर आ गए हैं। एनआईए ने गोताखोरों की मदद से रविवार को मीठी नदी से दो नंबर प्लेट, कम्प्यूटर सीपीयू, हार्ड डिस्क और डीवीआर बरामद किए हैं। बताया जा रहा है कि वाझे ने सबूतों को मिटाने के लिए इन्हें मीठी नदी में फेंक दिया था। जांच एजेंसी वाझे को भी मौके पर ले गई है।
माना जा रहा है कि ये नंबर प्लेट एंटीलिया केस में इस्तेमाल हुई स्कॉर्पियो और इनोवा का है। वारदात को अंजाम देने से पहले दोनों गाडिय़ों के नंबर प्लेट को बदल दिया गया था। डीवीआर साकेत कॉम्पेलक्स ठाणे का हो सकता है, जहां सचिन वाझे का घर है। वाझे ने विस्फोटक वाली कार की बरामदगी के बाद अपनी
सोसायटी के सीसीटीवी फुटेज को नष्ट करने के लिए अपने सहयोगियों को भेजकर डीवीआर हासिल कर लिया था। बताया जा रहा है कि वाझे ने सबूतों को नष्ट करने के लिए इन्हें मीठी नदी में फेंक दिया था।
उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर 25 फरवरी को एक स्कॉर्पियो बरामद की गई थी, जिसमें जिलेटिन की छड़ें थीं। इसके कुछ दिनों बाद स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हिरेन का शव बरामद किया गया था। 9 मार्च को एटीलिया केस की जांच एनआईए को सौंपी गई थी। पुलिस ने इस केस में जांच अधिकारी बनाए गए पुलिस अधिकारी सचिन वाझे को गिरफ्तार किया है। वाझे को ही इस केस का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है।