मां यशोरेश्वरी से विश्व को कोरोना मुक्ति की प्रार्थना
   Date28-Mar-2021

rg2_1  H x W: 0
काली शक्तिपीठ पहुंचकर प्रधानमंत्री ने दर्शन एवं पूजन-अर्चन किया
ढाका ठ्ठ 27 मार्च (ए)
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बांग्लादेश में सतखीरा जिले में स्थित यशोरेश्वरी काली शक्तिपीठ जाकर मां काली के दर्शन एवं पूजन-अर्चन किया तथा विश्व को कोरोना के संकट से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना की।
श्री मोदी बांग्लादेश की दो दिन की सरकारी यात्रा पर कल यहां पहुंचे थे। यात्रा के दूसरे दिन की शुरुआत मां काली की आराधना के साथ हुई। श्री मोदी सुबह ढाका से हेलिकॉप्टर द्वारा सतखीरा जिले के श्यामनगर पहुंचे और वहां से कार से मंदिर गए। मंदिर परिसर में श्री मोदी का पांरपरिक ढंग से भव्य स्वागत किया गया। भक्तों ने हाथ जोड़कर उनका अभिवादन किया और शंख ध्वनि एवं महिलाओं ने उलू ध्वनि से उनका स्वागत किया।
सामुदायिक भवन के निर्माण हेतु अनुदान की घोषणा-प्रधानमंत्री ने मैत्रीभाव प्रदर्शित करते हुए मंदिर में एक ऐसे सामुदायिक भवन के निर्माण के लिए अनुदान की घोषणा की, जहां तूफान आने पर लोग शरण भी ले सकें। इस सामुदायिक भवन में भक्तगण वार्षिक काली पूजा का आयोजन कर सकेंगे और संकट की स्थिति में हर धर्म मजहब के लोग शरण ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि मैंने सुना है कि जब यहां मां काली की पूजा का मेला लगता है तो बहुत बड़ी तादाद में भक्त सीमा के उस पार से और यहां से भी आते हैं। यहां पर एक सामुदायिक हॉल की आवश्यकता है। ये बहुउद्देशीय हॉल हो ताकि जब काली पूजा के लिए लोग आएं तो उनके भी उपयोग में आए और सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक अवसर पर यहां के लोगों के काम आए और आपदा के समय खासकर चक्रवात के समय ये सामुदायिक हॉल सबके लिए आश्रय का स्थान बन जाए। श्री मोदी ने कहा कि भारत यहां पर इस निर्माण कार्य को करेगा, मैं बांग्लादेश सरकार का आभार मानता हूं कि उन्होंने इस काम के लिए हमारे साथ शुभकामनाएं प्रकट की हैं। माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण एक अनाड़ी नाम के ब्राह्मण ने 12वीं सदी में कराया था। यह सौ द्वारों वाला मंदिर हुआ करता था, जिसका पुनरुद्धार 13वीं सदी में बंगाल में सेन वंश के राजा लक्ष्मण सेन ने कराया था। 16वीं सदी में इसे बंगाल के ज़मींदार प्रतापादित्य ने जीर्णोद्धार कराया था। मंदिर के दर्शन के उपरांत श्री मोदी गोपालगंज में ओरकांडी स्थित दुर्गा मंदिर भी गए और स्थानीय समुदाय के लोगों से भेंट की।