भारत-बांग्लादेश ने किए 5 समझौते, ढाका को मिले 12 लाख टीके, 109 एंबुलेंस
   Date28-Mar-2021

rg7_1  H x W: 0
ढाका ठ्ठ 27 मार्च
भारत एवं बांग्लादेश ने अपने राजनयिक संबंधों की 50वीं वर्षगांठ के मौके पर आपसी सहयोग के पांच करारों पर हस्ताक्षर किए और दोनों पड़ोसियों के रिश्तों की मधुरता एवं अमरता की कामना की। भारत ने बांग्लादेश को उपहार स्वरूप 12 लाख कोविड टीके और 109 एंबुलेंस सौंपी।
बांग्लादेश की दो दिन की यात्रा पर आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मेजबान प्रधानमंत्री शेख हसीना के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक में इन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। दोनों देशों के बीच हुए पांच समझौतों में कारोबार और बांग्लादेश में आईटी क्षेत्र की अवसंरचना के विकास में भारत के सहयोग को लेकर करार शामिल है। बैठक में बांग्लादेश के विदेश मंत्री अब्दुल मोमिन, भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और भारत के उच्चायुक्त विक्रम दुरैस्वामी भी उपस्थित थे। बैठक के दौरान बंगलादेश के रूपपुर परमाणु ऊर्जा संयंत्र के अवसंरचना विकास में भारत की अधिक भागीदारी के ऐलान के साथ ही दोनों देशों के बीच हल्दीबाड़ी- चिलघाटी रेल मार्ग पर एक नई ट्रेन ढाका-न्यू जलपाईगुड़ी मिताली एक्सप्रेस चलाने की घोषणा की। साथ ही दोनों प्रधानमंत्रियों ने बांग्लादेश में भारतीय सेना के शहीदों की स्मृति में एक स्मारक का शिलान्यास किया। श्री मोदी ने बैठक के बाद संयुक्त वक्तव्य के दौरान श्रीमती हसीना को भारत की मैत्री भावना प्रदर्शित करते हुए उपहार स्वरूप 109 एम्बुलेंस गाडिय़ों की चाबी तथा बांग्लादेश को 12 लाख कोविड टीके के प्रतीक चिह्न सौंपे। भारत पहले ही बांग्लादेश को दस लाख से अधिक कोविड के टीके दे चुका है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने श्री मोदी को बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान की जन्मशती के मौके पर जारी एक स्वर्ण एवं एक रजत मुद्राएं भेंट कीं। श्रीमती हसीना ने बंगलादेश के गठन के 50 वर्ष पूरे होने पर जारी एक चांदी का सिक्का भी सौंपा।
श्री मोदी ने द्विपक्षीय बैठक के बाद बंगलादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हमीद से भी भेंट की।