किसानों के बंद का पंजाब- हरियाणा में रहा असर
   Date27-Mar-2021

fc6_1  H x W: 0
नई दिल्ली ठ्ठ 26 मार्च (वा)
तीन कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसान संगठनों के बुलाए गए 12 घंटे के भारत बंद का असर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान के इलाकों में सबसे अधिक देखने को मिला, जबकि शेष राज्यों में इसका मिला-जुला असर रहा।
राजधानी दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों के जमावड़े को देखते यातायात पुलिस ने सुबह बॉर्डर पर यातायात बंद कर दिया। यातायात पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-24 पर यातायात बंद है। इसके अलावा दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर, सिंघू बॉर्डर पर भी वाहनों का जाम लगा रहा। किसानों ने एम्बुलेंस और आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद का ऐलान किया था। कांग्रेस, वामदलों सहित कई विपक्षी दलों ने बंद का समर्थन किया है।
पंजाब तथा हरियाणा में किसान संगठनों के भारत बंद का आज व्यापक असर देखने को मिला। यहां रेल तथा सड़क यातायात पर बुरी तरह प्रभावित रहा। दिल्ली से कटरा जाने वाली वंदे मातरम एक्सप्रेस को किसानों ने कई घंटों रोके रखा। हरियाणा तथा पंजाब के कई ट्रैकों पर धरना देने से रेल यातायात प्रभावित रहा तथा सड़क यातायात को भी बुरी तरह प्रभावित किया, जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। चंडीगढ़ के निकट मोहाली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के समीप किसानों ने धरना दिया तथा डेराबस्सी में भी राष्ट्रीय राजमार्ग अवरुद्ध किया। कड़ी सुरक्षा के बावजूद किसान यूनियनों के प्रदर्शनकारी रेल तथा रोड जाम करते रहे। पटियाला, समराला, संगरूर, फरीदकोट, फाजिल्का, लुधियाना, होशियारपुर सहित पूरे पंजाब में बंद का व्यापक असर रहा। भाकियू (एकता -उगराहां) ने मोगा जिले में पूरी तरह बंद रखा तथा राज्य में अनेक स्थानों पर रेल तथा सड़क मार्गों को अवरुद्ध किया। भाकियू के महासचिव सुखदेवसिंह कोकरी ने बताया कि किसान यूनियनों ने 28 मार्च को काली होली मनाने का फैसला किया है और 27 मार्च से 31 मार्च तक किसान यूनियनें घेराव करेंगी तथा किला रायपुर के ड्राई पोर्ट को अवरुद्ध करेंगे तथा किला रायपुर की शुष्क बंदरगाह पर अडानी ग्रुप की किसी मालगाड़ी को आने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि एफसीआई की किसान विरोधी नीतियों के विरोध में पांच अप्रैल को भारतीय खाद्य निगम के सभी गोदामों तथा भंडारणों का घेराव किया जाएगा।होशियारपुर से प्राप्त जानकारी के अनुसार संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद के आह्वान पर जिले में सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित रहा। जिले में किसानों के समर्थन में सभी दुकानें, बाजार और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे।
किसान तथा मजदूर संगठनों ने राष्ट्रीय तथा राजमार्ग सहित अनेकों स्थानों पर सड़क जाम रखी। उन्होंने ट्रकों, ट्रैक्टर, कार, स्कूटर तक को नहीं जाने दिया और सड़क किनारे खड़ा करवा दिया।