प्रदेश के 5 और शहरों में तालाबंदी
   Date27-Mar-2021

fc1_1  H x W: 0
भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में नहीं जलेगी सामूहिक होली
भोपाल ठ्ठ 26 मार्च (ब्यूरो)
मध्यप्रदेश में एक दिन में संक्रमित मरीजों की संख्या एक सप्ताह से बढ़ती जा रही है। पिछले 24 घंटे में 2,091 नए मामले मिले हैं। संक्रमण को देखते हुए प्रदेशके बड़े शहरों में इस बार की होली बेरंग रहेगी। भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में लोग घर से बाहर गुलाल नहीं उड़ा पाएंगे। जुलूस, सामूहिक कार्यक्रम पर पहले से ही रोक है। इंदौर में इसकी घोषणा प्रशासन ने गुरुवार को ही कर दी थी। वहीं विदिशा, उज्जैन, ग्वालियर,नरसिंहपुर शहरों के साथ छिंदवाड़ा जिले के सौंसर में भी रविवार को तालाबंदी का ऐलान कर दिया गया है। इससे पहले भोपाल, इंदौर, जबलपुर, रतलाम, बैतूल और छिंदवाड़ा और खरगोन में रविवार तालाबंदी हो चुकी है। इस तरह 12 शहरों में इस रविवार को तालाबंदी रहेगी। 30 मार्च से इंदौर और भोपाल शहरों के सरकारी कार्यालयों में आधे ही कर्मचारियों को बुलाया जाएगा। रोटेशन सिस्टम पहले की तरह लागू हो सकता है।
जिन जिलों में कोरोना के 20 से अधिक प्रकरण हैं वहां होलिका दहन एवं शब-ए-बारात कार्यक्रम प्रतीकात्मक रूप से ही होंगे।
कोरोना की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार शाम यह फैसला लिया। इसके अलावा कोरोना पर सख्ती के फैसले के लिए जिलेवार क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठकें होंगी। आयुष्मान कार्डधारकों को कोरोना का इलाज मुफ्त मिलेगा। स्वास्थ्य विभाग ने यह निर्णय लिया है। प्रदेश के 81 अस्पतालों में बेड रिजर्व किए गए हैं।
प्रदेश में 48 घंटे में 18 मौतें
कोरोना से पिछले 48 घंटे में 18 लोग जान गंवा चुके हैं। इसमें झाबुआ का 8 साल का बच्चा भी शामिल है। उसे 16 मार्च को बुखार आया था और इंदौर में इलाज चल रहा था। कोरोना की दूसरी लहर के बाद इतने कम उम्र के बच्चे की यह संभवत: पहली मौत है। यही वजह है कि भोपाल, इंदौर और जबलपुर के अलावा छोटे शहरों में प्रशासन अब ज्यादा सख्ती कर रहा है।
प्रदेश में सबसे ज्यादा केस वाले शहर भोपाल, इंदौर और जबलपुर में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। राज्य में 60त्न केस सिर्फ इन तीन शहरों में दर्ज किए गए। भोपाल में कोरोना की रफ्तार बढऩे के साथ एक्टिव केस में तेजी से वृद्धि हो रही है। यहां एक सप्ताह में 45त्न एक्टिव केस बढ़ गए हैं। यदि मार्च महीने के 24 दिन के आंकड़े देखें तो अब तक 5 गुना वृद्धि हो चुकी है। भोपाल में 1 मार्च को एक्टिव केस 556 थे, जो 24 मार्च को बढ़कर 3195 हो चुके हैं।
संक्रमण दर में 2.1त्न की बढ़ोत्तरी
पिछले 7 दिन में जिस तरह से प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है, उससे संक्रमण दर में 2.1त्न की वृद्धि हुई है। 17 मार्च को यह दर 5.2त्न थी, जो 24 मार्च को बढ़कर 7.3त्न तक पहुंच गई है। यानी टेस्ट बढऩे के साथ पॉजिटिव मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। इसकी वजह यह सामने आई है कि संक्रमित मरीज के संपर्क में आने वालों को ट्रेस करने में लापरवाही हो रही है।